Asianet News Hindi

40 लाख की कार को विधायक ने एंबुलेंस बनाने के लिए की दान, कहा-इंसान की जिंदगी से बढ़कर कुछ नहीं

First Published May 18, 2021, 6:07 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

गुना (मध्य प्रदेश). कोरोना वायरस की दूसरी लहर देश में इस तरह आफत बनकर कहर बरपा रही है कि हालात संभाले नहीं संभल रहे हैं। बढ़ते संक्रमण के पीछे देश जनता सरकारों और नेताओं को जिम्मेदार ठहरा रही है। वहीं इसी बीच एक विधायक की दरिदादिली सामने आई है। जिन्होंने अपने क्षेत्र की जनता के लिए अपनी 40 लाख की लग्जरी फॉरचूनर कार को एंबुलेंस बनाने के लिए दान कर दी है।


दरअसल, निराशा जनक महौल में ग्रामीणों के दिल में उम्मीद की किरण जगाने वाले यह विधायक एमपी के गुना जिले से  विधायक लक्ष्मण सिंह हैं। जिन्होंने अपने क्षेत्र में एंबुलेंस की कमी को देखते हुए मंगलवार को अपनी फॉरचूनर कार को मरीजों के लिए सौंप दी। जिसका उपयोग अब एंबुलेंस की तरह इस्तेमाल किया जाएगा।


दरअसल, निराशा जनक महौल में ग्रामीणों के दिल में उम्मीद की किरण जगाने वाले यह विधायक एमपी के गुना जिले से  विधायक लक्ष्मण सिंह हैं। जिन्होंने अपने क्षेत्र में एंबुलेंस की कमी को देखते हुए मंगलवार को अपनी फॉरचूनर कार को मरीजों के लिए सौंप दी। जिसका उपयोग अब एंबुलेंस की तरह इस्तेमाल किया जाएगा।


बता दें कि विधायक के विधानसभा क्षेत्र चांचौड़ा के आसपास के कई गांवों में कोरोना के मरीज सामने आ रहे हैं। लेकिन मरीजों को समय पर एंबुलेंस नहीं मिलने पर काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। दूर दराज गांव से वह  स्वास्थ्य केंद्र और अस्पताल तक नहीं पहुंच पा रहे थे। 


बता दें कि विधायक के विधानसभा क्षेत्र चांचौड़ा के आसपास के कई गांवों में कोरोना के मरीज सामने आ रहे हैं। लेकिन मरीजों को समय पर एंबुलेंस नहीं मिलने पर काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। दूर दराज गांव से वह  स्वास्थ्य केंद्र और अस्पताल तक नहीं पहुंच पा रहे थे। 


जिला प्रशासन भी जब ग्रामीणों के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था करने में नाकाम रहा तो इलाके के लोगों के लिए कांग्रेस के विधायक खुद ही मैदान में कूद पड़े। उन्होंने कहा कोई बात नहीं मेरी गाड़ी किस दिन काम आएगी। उन्होंने अपनी कार की चाबी स्वास्थ्य विभाग को दे दी। कुछ देर बाद ही उनकी फॉरचूनर कार को एंबुलेंस के रूप में उपयोग भी शुरू कर दिया गया।
 


जिला प्रशासन भी जब ग्रामीणों के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था करने में नाकाम रहा तो इलाके के लोगों के लिए कांग्रेस के विधायक खुद ही मैदान में कूद पड़े। उन्होंने कहा कोई बात नहीं मेरी गाड़ी किस दिन काम आएगी। उन्होंने अपनी कार की चाबी स्वास्थ्य विभाग को दे दी। कुछ देर बाद ही उनकी फॉरचूनर कार को एंबुलेंस के रूप में उपयोग भी शुरू कर दिया गया।
 


वहीं विधायक ने सोशल मीडिया पर वीडियो के जरिए कहा कि इस वक्त लोग मुश्किल घड़ी में हैं। मेरी चांचौड़ा क्षेत्र की जनता ने सेवा का अवसर दिया है। इसलिए मेरा फर्ज बनता है कि उनकी सेवा करूं। ऐसे कठिन समय में जो मुझसे बन सकता है वह मैं कर रहा हूं। क्योंकि  इंसान की जिंदगी से बढ़कर कोई सेवा नहीं होती है। एंबुलेंस में अस्पताल पहुंचने में समय लगता है वहीं अब फॉरचूनर कार में मरीज बैठकर और जल्द अस्पताल पहुंच सकेंगे।


वहीं विधायक ने सोशल मीडिया पर वीडियो के जरिए कहा कि इस वक्त लोग मुश्किल घड़ी में हैं। मेरी चांचौड़ा क्षेत्र की जनता ने सेवा का अवसर दिया है। इसलिए मेरा फर्ज बनता है कि उनकी सेवा करूं। ऐसे कठिन समय में जो मुझसे बन सकता है वह मैं कर रहा हूं। क्योंकि  इंसान की जिंदगी से बढ़कर कोई सेवा नहीं होती है। एंबुलेंस में अस्पताल पहुंचने में समय लगता है वहीं अब फॉरचूनर कार में मरीज बैठकर और जल्द अस्पताल पहुंच सकेंगे।


बता दें कि कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह राज्यसभा सांसद और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के छोटे भाई हैं। लक्ष्मण सिंह भी अपने भाई की तरह सोशल मीडिया पर अक्सर एक्टिव रहते हैं और देश में चल रहे मुद्दों पर राय रखते हैं।
 


बता दें कि कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह राज्यसभा सांसद और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के छोटे भाई हैं। लक्ष्मण सिंह भी अपने भाई की तरह सोशल मीडिया पर अक्सर एक्टिव रहते हैं और देश में चल रहे मुद्दों पर राय रखते हैं।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios