Asianet News Hindi

ALERT: नर्स का भेष धरकर नवजात लेकर भागी है यह लेडी, कहीं दिखे, तो नजरअंदाज न करें

First Published Nov 19, 2020, 1:40 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

इंदौर, मध्य प्रदेश. यहां के महाराजा यशवंत राव होलकर अस्पताल(MYH) से 15 नवंबर(रविवार) को चोरी हुई एक दिन की नवजात बच्ची के मामले में अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है। हालांकि पुलिस ने उस गाड़ी के नंबर का पता कर लिया है, जिस पर फर्जी नर्स को जाते देखा गया था। मध्य प्रदेश के सबसे बड़ी सरकारी अस्पताल से बच्ची चोरी होने की इस घटना ने सुरक्षा इंतजामों की पोल खोल दी है। घटना का CCTV फुटेज सामने आया है। बच्ची की नानी राजूबाई ने पुलिस को बताया कि उसकी बेटी रानी को शनिवार रात करीब 2 बजे प्रसव पीड़ा होने पर दामाद लोकेश भियाने अस्पताल लाया था। प्रसूता को अस्पताल के वार्ड-3 के बेड नंबर-8 पर भर्ती कराया गया था। रविवार सुबह करीब 5 बजे उसने बेटी को जन्म दिया। शाम को बच्ची चोरी हो गई। संयोगितागंज टीआई के अनुसार चोर महिला जिस मेस्ट्रो गाड़ी पर आई थी। उसकी दो सीरिज (एमपी-एमआई या एमएल व आखिरी नंबर 20) के आधार पर आरटीओ से सफेद मेस्ट्रो गाड़ी की डिटेल निकलवाई गई है। आरोपी महिला की तलाश में सीएसपी संयोगितागंज, टीआई सहित 12 जवानों की टीम जुटी हुई है। एसपी विजय खत्री ने बताया कि इस मामले में किसी प्रोफेशनल बच्चा चोर गैंग या ह्यूमन ट्रैफिकिंग की भूमिका सामने नहीं आई है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि अगर कहीं यह महिला दिखे, तो थाने के नंबर (0731 2720300 और 7049108532) पर सूचना दे सकते हैं। आगे पढ़ें मामले की पूरी जानकारी...

महिला को पकड़वाने वाले को 10 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की गई है। महिला मास्क पहनकर आई थी। इसलिए टेक्निकल टीम सीसीटीवी फुटेज से मास्क इरेज करके चेहरा पहचानने की कोशिश कर रही है। पुलिस की जांच में सामने आया है कि महिला ढक्कन वाला कुआं पहुंची थी। यहां उसकी गाड़ी बंद हुई, तो उसने किसी से मदद ली थी। महिला ने उसे यह बच्चा अपनी भाभी का बताया था। महिला ने आगे जाकर गाड़ी का प्लग भी बदलवाया था, लेकिन गैराजवाले ने ध्यान नहीं दिया। आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...

महिला को पकड़वाने वाले को 10 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की गई है। महिला मास्क पहनकर आई थी। इसलिए टेक्निकल टीम सीसीटीवी फुटेज से मास्क इरेज करके चेहरा पहचानने की कोशिश कर रही है। पुलिस की जांच में सामने आया है कि महिला ढक्कन वाला कुआं पहुंची थी। यहां उसकी गाड़ी बंद हुई, तो उसने किसी से मदद ली थी। महिला ने उसे यह बच्चा अपनी भाभी का बताया था। महिला ने आगे जाकर गाड़ी का प्लग भी बदलवाया था, लेकिन गैराजवाले ने ध्यान नहीं दिया। आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...

बच्ची की नानी राजूबाई ने बताया कि रविवार शाम करीब 5 बजे वो बेटी और नवजात के साथ बैठी थीं, तभी एक महिला वहां पहुंची। वो नर्स के भेष में आई थी। उसने मास्क लगा रखा था। करीब 30 साल की महिला ने कहा कि बच्ची की धड़कन तेज चल रही है। उसे डॉक्टर को दिखाकर आना होगा। इसके बाद उसने बच्ची को अपनी गोद में लिया और राजूबाई को साथ में लेकर निकली। इसके बाद उसने राजूबाई को पर्ची बनवाने भेजा और फिर गायब हो गई। आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...
 

बच्ची की नानी राजूबाई ने बताया कि रविवार शाम करीब 5 बजे वो बेटी और नवजात के साथ बैठी थीं, तभी एक महिला वहां पहुंची। वो नर्स के भेष में आई थी। उसने मास्क लगा रखा था। करीब 30 साल की महिला ने कहा कि बच्ची की धड़कन तेज चल रही है। उसे डॉक्टर को दिखाकर आना होगा। इसके बाद उसने बच्ची को अपनी गोद में लिया और राजूबाई को साथ में लेकर निकली। इसके बाद उसने राजूबाई को पर्ची बनवाने भेजा और फिर गायब हो गई। आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...
 

संयोगितागंज पुलिस मामले की जांच कर रही है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया आरोपी तेजी से जाने के चक्कर में बच्ची सहित फिसलकर गिर पड़ी थी। हालांकि उसने तुरंत बच्ची को उठाया और अपनी गाड़ी पर बैठकर गायब हो गई। आगे पढ़ें-इसी घटना के बारे में...

संयोगितागंज पुलिस मामले की जांच कर रही है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया आरोपी तेजी से जाने के चक्कर में बच्ची सहित फिसलकर गिर पड़ी थी। हालांकि उसने तुरंत बच्ची को उठाया और अपनी गाड़ी पर बैठकर गायब हो गई। आगे पढ़ें-इसी घटना के बारे में...

आरोपी इतनी शातिर थी कि किसी को शक नही हो, इसलिए उसने बाकी नवजातों को भी एक-एक करके चेक किया। आरोपी बच्ची को कमर से दुपट्टे से बांधकर एक्टिव चलाकर ले गई। (बच्ची की मां रानी और पिता लोकेश) आगे पढ़ें ऐसी ही एक अन्य घटना...

आरोपी इतनी शातिर थी कि किसी को शक नही हो, इसलिए उसने बाकी नवजातों को भी एक-एक करके चेक किया। आरोपी बच्ची को कमर से दुपट्टे से बांधकर एक्टिव चलाकर ले गई। (बच्ची की मां रानी और पिता लोकेश) आगे पढ़ें ऐसी ही एक अन्य घटना...

इंदौर, मध्य प्रदेश. महिला थाना पुलिस ने सितंबर में नवजात बच्चों को गायब करके उन्हें बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया था। ईवा वेलफेयर सोसायटी के साथ संयुक्त कार्रवाई करके पुलिस ने 10 दिन की बच्ची को बेचने निकले एक कपल को पकड़ा था। ये बच्ची का सौदा 1.20 लाख रुपए में करना चाहते थे। दोनों आरोपी मेडिकल स्टाफ हैं। (पुलिसकर्मी स्वाती पाठक की गोद में बच्ची) आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...

इंदौर, मध्य प्रदेश. महिला थाना पुलिस ने सितंबर में नवजात बच्चों को गायब करके उन्हें बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया था। ईवा वेलफेयर सोसायटी के साथ संयुक्त कार्रवाई करके पुलिस ने 10 दिन की बच्ची को बेचने निकले एक कपल को पकड़ा था। ये बच्ची का सौदा 1.20 लाख रुपए में करना चाहते थे। दोनों आरोपी मेडिकल स्टाफ हैं। (पुलिसकर्मी स्वाती पाठक की गोद में बच्ची) आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...

एनजीओ ईवा वेलफेयर सोसायटी ने महिला थाना पुलिस को शिकायत की थी कि एक कपल नवजात को बेचने घूम रहा है। इसके बाद पुलिस ने जाल बिछाया और खरीददार बनकर आरोपियों को दबोच लिया था। आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...

एनजीओ ईवा वेलफेयर सोसायटी ने महिला थाना पुलिस को शिकायत की थी कि एक कपल नवजात को बेचने घूम रहा है। इसके बाद पुलिस ने जाल बिछाया और खरीददार बनकर आरोपियों को दबोच लिया था। आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...

यह है आरोपी बबूल उर्फ तेजकरण पुत्र हेमराज ठक्कर। ये नंदा नगर में रहता है। आरोपी पेश से मेडिकल स्टाफ है। आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...

यह है आरोपी बबूल उर्फ तेजकरण पुत्र हेमराज ठक्कर। ये नंदा नगर में रहता है। आरोपी पेश से मेडिकल स्टाफ है। आगे पढ़ें इसी घटना के बारे में...

यह है नंदा नगर की ही रहने वाली शिल्पा पत्नी मनीष तेलंग। यह भी मेडिकल स्टाफ से जुड़ी है।

यह है नंदा नगर की ही रहने वाली शिल्पा पत्नी मनीष तेलंग। यह भी मेडिकल स्टाफ से जुड़ी है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios