Asianet News Hindi

सीधी बस हादसाः मरने वाले ज्यादातर युवा, जो माता-पिता के पैर छू अपना भविष्य बनाने निकले थे..लेकिन मिली मौत ...

First Published Feb 16, 2021, 3:47 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मध्य प्रदेश। सीधी में नहर में गिरी बस के कारण मारे गए 45 लोगों की खबर सुनकर सभी परेशान हैं। ऐसे में हर कोई यही जानने की कोशिश कर रहा है कि आखिर चालक को ऐसी क्या पड़ी थी, जिसके कारण उसने शॉर्ट कट रास्ता से बस को ले जाना पड़ा। जहां रास्ते में हादसे का शिकार हो गया। बता दें कि मरने वालों में ज्यादातर स्टूडेंट थे, जो रेलवे की परीक्षा देने के लिए अपने माता-पिता का पैर छूकर निकले थे। रेलवे का एग्जाम था। रीवा और सतना में केंद्र बनाए गए थे। 32 सीटर बस में ज्यादातर युवा ही थे, वह परीक्षा देने रीवा और सतना आ रहे थे। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मृतकों के परिजनों को लेकर 2-2 लाख रुपए मुआवजे की घोषणा पीएम रिलीफ फंड से किया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मृतक के परिजनों के लिए 5-5 लाख रुपए की मुआवजे की घोषणा की है। साथ ही गंभीर रूप से जख्मी लोगों को भी 50 हजार रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। 

पीएम नेशनल फंड से भी 2-2 लाख की घोषणा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीधी बस दुर्घटना पर गहरा शोक प्रकट किया है। उन्होंने मृतकों के परिवार को दो-दो लाख रुपए प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड से दिए जाने की घोषणा की है। बता दें कि इसके पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मृतक के आश्तित परिवार को पांच-पांच लाख रुपए आर्थिक मदद की घोषणा की थी।
 

पीएम नेशनल फंड से भी 2-2 लाख की घोषणा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीधी बस दुर्घटना पर गहरा शोक प्रकट किया है। उन्होंने मृतकों के परिवार को दो-दो लाख रुपए प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड से दिए जाने की घोषणा की है। बता दें कि इसके पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मृतक के आश्तित परिवार को पांच-पांच लाख रुपए आर्थिक मदद की घोषणा की थी।
 

मृतकों के शव सम्मान के साथ परिवार को सौंपे जाएं
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीधी में चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन की निरंतर मॉनिटरिंग कर रहे हैं। वह जिला प्रशासन के सीधे संपर्क में हैं। सीएम ने घटना पर दुःख व्यक्त करते हुए जिला प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि सभी मृतकों के शव ससम्मान उनके परिवार तक पहुंचाने की व्यवस्था की जाए।

मृतकों के शव सम्मान के साथ परिवार को सौंपे जाएं
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीधी में चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन की निरंतर मॉनिटरिंग कर रहे हैं। वह जिला प्रशासन के सीधे संपर्क में हैं। सीएम ने घटना पर दुःख व्यक्त करते हुए जिला प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि सभी मृतकों के शव ससम्मान उनके परिवार तक पहुंचाने की व्यवस्था की जाए।

इस कारण ड्राइबर ने बदल लिया था रुट
छुहिया घाटी से होकर बस रोजाना सतना के लिए जाती थी। मंगलवार की सुबह जाम लगे होने की वजह से ड्राइवर ने बस का रूट बदलकर नहर का रास्ता पकड़ और यह हादसा हो गया। सीधी से सतना के बीच चलने वाली बसें सुबह के समय अकसर खाली हो जाती हैं।
 

इस कारण ड्राइबर ने बदल लिया था रुट
छुहिया घाटी से होकर बस रोजाना सतना के लिए जाती थी। मंगलवार की सुबह जाम लगे होने की वजह से ड्राइवर ने बस का रूट बदलकर नहर का रास्ता पकड़ और यह हादसा हो गया। सीधी से सतना के बीच चलने वाली बसें सुबह के समय अकसर खाली हो जाती हैं।
 

नेशनल हाईवे पर हैं गड्ढे ही गड्ढे
नेशनल हाईवे-39 स्थित छुहिया घाटी में जगह-जगह गड्‌ढे और पत्थर पड़े होने की वजह से हमेशा जाम की स्थिति बनी रहती है। यहां घंटों जाम में वाहन फंसे रहते हैं। यही वजह थी कि डाइवर ने बस को जल्दी ले जाने के चक्कर में रूट बदल दिया। 

नेशनल हाईवे पर हैं गड्ढे ही गड्ढे
नेशनल हाईवे-39 स्थित छुहिया घाटी में जगह-जगह गड्‌ढे और पत्थर पड़े होने की वजह से हमेशा जाम की स्थिति बनी रहती है। यहां घंटों जाम में वाहन फंसे रहते हैं। यही वजह थी कि डाइवर ने बस को जल्दी ले जाने के चक्कर में रूट बदल दिया। 

कैबिनेट की मीटिंग कैंसिल
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मृतकों के परिवार वालों को 5-5 रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की है। इस हादसे की वजह से मंगलवार को होने वाली कैबिनेट बैठक को निरस्त कर दिया गया है।

कैबिनेट की मीटिंग कैंसिल
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मृतकों के परिवार वालों को 5-5 रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की है। इस हादसे की वजह से मंगलवार को होने वाली कैबिनेट बैठक को निरस्त कर दिया गया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios