Asianet News Hindi

टीचर ने रचा इतिहास..19 बच्चों को अपनी सेविंग से कराया फ्लाइट का सफर, कुछ तो ट्रेन में भी नहीं बैठे थे

First Published Feb 24, 2020, 7:47 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

देवास. मध्य प्रदेश के एक टीचर ने एक ऐसा काम किया है। जिसकी बदौलत उसकी सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हो रही है। शिक्षक ने अपने स्कूल के बच्चों की ख्वाहिश को पूरा किया है। जो बच्चे बचपन में कागज का विमान बनाकर आसमान में उड़ाया करते थे। अब उन छात्रों की इस इच्छा को उनके हेडमास्टर ने पूरा कर दिया है। दरअसल,  देवास जिले के एक सरकारी स्कूल के टीचर किशोर कनासे ने अपनी सेविंग के रुपए से 19 छात्रों को विमान का सफर कराया। बता दें कि वह 17 फरवरी को इस यात्रा से लौटे हैं।

दरअसल, देवास जिले के बिजेपुर गांव के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले छठीं, सातवीं और आठवीं कक्षा के 19 बच्चों को टीचर दो दिन के फ्लाइट दिल्ली दर्शन टूर पर गए थे। इन बच्चों में कुछ तो ऐसे थे जो अब तक ट्रेन में तक नहीं बैठे। जब उन्होंने विमान सफर किया तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं था।

दरअसल, देवास जिले के बिजेपुर गांव के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले छठीं, सातवीं और आठवीं कक्षा के 19 बच्चों को टीचर दो दिन के फ्लाइट दिल्ली दर्शन टूर पर गए थे। इन बच्चों में कुछ तो ऐसे थे जो अब तक ट्रेन में तक नहीं बैठे। जब उन्होंने विमान सफर किया तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं था।

वहीं इस यात्रा के बाद मीडिया बातचीत करते हुए एक स्टूडेंट तोहिद शेख ने बताया कि, ‘जब हम जमीन पर खेलते हुए प्लेन को देखते तो वह बहुत छोटे नजर आते थे। लेकिन जब हमने उसे करीब से देखा तो पता चला कि वह तो बहुत बड़ा होता है।

वहीं इस यात्रा के बाद मीडिया बातचीत करते हुए एक स्टूडेंट तोहिद शेख ने बताया कि, ‘जब हम जमीन पर खेलते हुए प्लेन को देखते तो वह बहुत छोटे नजर आते थे। लेकिन जब हमने उसे करीब से देखा तो पता चला कि वह तो बहुत बड़ा होता है।

टीचर किशोर ने बताया कि छात्रों को विमान में सफर कराने का आईडिया पिछली साल आगरा से आते समय आया था। उन्होंन कहा कि वह बच्चो के साथ ट्रेन से आ रहे थे तो कुछ बच्चों ने कह-सर अगली बार हम प्लेन से जाएंगे। बस मैंने भी सोच लिया कि अब तो इस स्टूडेंट को में  प्लाइट का सफर कराकर ही रहूंगा।

टीचर किशोर ने बताया कि छात्रों को विमान में सफर कराने का आईडिया पिछली साल आगरा से आते समय आया था। उन्होंन कहा कि वह बच्चो के साथ ट्रेन से आ रहे थे तो कुछ बच्चों ने कह-सर अगली बार हम प्लेन से जाएंगे। बस मैंने भी सोच लिया कि अब तो इस स्टूडेंट को में प्लाइट का सफर कराकर ही रहूंगा।

बता दें कि हेडमास्टर किशोर ने छात्रों को विमान से सफर कराने के लिए अपनी सेविंग से 60 हजार रुपये खर्च किए हैं।

बता दें कि हेडमास्टर किशोर ने छात्रों को विमान से सफर कराने के लिए अपनी सेविंग से 60 हजार रुपये खर्च किए हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios