Asianet News Hindi

मेरा बेटा जिंदा है या उसे मार दिया...मां ने पूछा सवाल, दिल्ली हिंसा की ऐसी ही 30 दर्दनाक तस्वीरें

First Published Feb 28, 2020, 2:12 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. दिल्ली में रविवार की शाम से हिंसा की शुरुआत हुई। 4 दिन बाद पता चला कि 39 लोगों की मौत हो चुकी है। मौत का ये आंकड़ा अभी बढ़ सकता है, क्योंकि अभी कई लोग गायब है। अपने घर नहीं पहुंचे। नालों में लाश तलाशी जा रही हैं। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा पर दिल्ली पुलिस पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा, हमने अब तक 123 एफआईआर दर्ज की हैं। हिरासत में लिए या गिरफ्तार किए गए लोगों की संख्या लगभग 630 है। उन्होंने कहा कि अब उत्तर पूर्वी जिलों में स्थिति सामान्य है। हिंसा की कोई भी घटना आज सामने नहीं आई। आज 10 घंटे के लिए धारा 144 में राहत भी दी गई थी। ऐसे में बताते हैं उन परिवारों के बारे में जिन्होंने अपना बेटा, पति या पत्नी को खो दिया।  

मुस्तफाबाद में मोहम्मद इरफान की मां। मोहम्मद इरफान की दिल्ली हिंसा में मौत हो गई। जीटीबी अस्पताल में बेटे की शव लेने के लिए पहुंची मां।

मुस्तफाबाद में मोहम्मद इरफान की मां। मोहम्मद इरफान की दिल्ली हिंसा में मौत हो गई। जीटीबी अस्पताल में बेटे की शव लेने के लिए पहुंची मां।

दिल्ली में भड़की हिंसा में बृजपुरी इलाके में 23 साल के राहुल ठाकुर की भी हत्या कर दी गई। 23 साल के राहुल ठाकुर के रिश्तेदार और दोस्त 27 फरवरी, 2020 को नई दिल्ली में अंतिम संस्कार से पहले उनके पार्थिव शरीर के आसपास खड़े लोग।

दिल्ली में भड़की हिंसा में बृजपुरी इलाके में 23 साल के राहुल ठाकुर की भी हत्या कर दी गई। 23 साल के राहुल ठाकुर के रिश्तेदार और दोस्त 27 फरवरी, 2020 को नई दिल्ली में अंतिम संस्कार से पहले उनके पार्थिव शरीर के आसपास खड़े लोग।

दिल्ली हिंसा में मृतक राहुल ठाकुर के परिजन।

दिल्ली हिंसा में मृतक राहुल ठाकुर के परिजन।

दिल्ली हिंसा में 31 साल के मोहम्मद मुदस्सिर की मौत हो गई। शव के सामने रोते-बिलखते मुदस्सिर के पिता।

दिल्ली हिंसा में 31 साल के मोहम्मद मुदस्सिर की मौत हो गई। शव के सामने रोते-बिलखते मुदस्सिर के पिता।

दिल्ली हिंसा में शोएब खान (22) की मौत हो गई। जीटीबी अस्पताल में शोएब के परिजन।

दिल्ली हिंसा में शोएब खान (22) की मौत हो गई। जीटीबी अस्पताल में शोएब के परिजन।

दिल्ली हिंसा में मारे गए IB कर्मचारी अंकित शर्मा का शव ले जाते हुए। जीटीबी अस्पताल की तस्वीर।

दिल्ली हिंसा में मारे गए IB कर्मचारी अंकित शर्मा का शव ले जाते हुए। जीटीबी अस्पताल की तस्वीर।

अजरा खातून, इन्होंने दिल्ली हिंसा में अपने भतीजे अशफाक हसन (22 साल) को खो दिया। जीटीबी अस्पताल में भतीजे का शव लेने के लिए जाते हुए।

अजरा खातून, इन्होंने दिल्ली हिंसा में अपने भतीजे अशफाक हसन (22 साल) को खो दिया। जीटीबी अस्पताल में भतीजे का शव लेने के लिए जाते हुए।

जीटीबी अस्पताल के सामने रोती हुई महिला। दिल्ली हिंसा में इन्होंने अपनों को खो दिया।

जीटीबी अस्पताल के सामने रोती हुई महिला। दिल्ली हिंसा में इन्होंने अपनों को खो दिया।

जीटीबी अस्पताल के सामने महिला तस्वीर दिखाकर अपनों को पूछते हुए कि जिंदा है या नहीं।

जीटीबी अस्पताल के सामने महिला तस्वीर दिखाकर अपनों को पूछते हुए कि जिंदा है या नहीं।

जीटीबी अस्पताल के बाहर, हिंसा में मारे गए व्यक्ति का शव ले जाते हुए।

जीटीबी अस्पताल के बाहर, हिंसा में मारे गए व्यक्ति का शव ले जाते हुए।

दिल्ली हिंसा के दौरान स्कूल का गार्ड मनोज। हिंसा के दौरान शिव विहार में स्कूल के अंदर तोड़ फोड़ की गई थी।

दिल्ली हिंसा के दौरान स्कूल का गार्ड मनोज। हिंसा के दौरान शिव विहार में स्कूल के अंदर तोड़ फोड़ की गई थी।

जीटीबी अस्पताल से अपनों का शव ले जाते परिजन।

जीटीबी अस्पताल से अपनों का शव ले जाते परिजन।

दिल्ली हिंसा में 22 साल के राहुल सोलंकी को नार्थ दिल्ली में गोली लग गई थी। जीटीबी अस्पताल में उसका शव लेने के लिए जाते परिजन।

दिल्ली हिंसा में 22 साल के राहुल सोलंकी को नार्थ दिल्ली में गोली लग गई थी। जीटीबी अस्पताल में उसका शव लेने के लिए जाते परिजन।

दिल्ली हिंसा में इन्होंने अपनों को खो दिया। जीटीबी अस्पताल में शव गृह में जाते हुए।

दिल्ली हिंसा में इन्होंने अपनों को खो दिया। जीटीबी अस्पताल में शव गृह में जाते हुए।

दिल्ली हिंसा में मारे गए मोहम्मद मुदस्सिर के पिता। 27 फरवरी को उनका अंतिम संस्कार किया गया।

दिल्ली हिंसा में मारे गए मोहम्मद मुदस्सिर के पिता। 27 फरवरी को उनका अंतिम संस्कार किया गया।

दिल्ली हिंसा में इस शख्स के सीने में गोली लगी। गुरु तेग बहादुर अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में ले जाते हुए।

दिल्ली हिंसा में इस शख्स के सीने में गोली लगी। गुरु तेग बहादुर अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में ले जाते हुए।

मृतक मोहम्मद मुदस्सिर के शव के आस-पास खड़े परिजन।

मृतक मोहम्मद मुदस्सिर के शव के आस-पास खड़े परिजन।

कारावल नगर में हिंसा के दौरान घायल शख्स।

कारावल नगर में हिंसा के दौरान घायल शख्स।

दिल्ली का जीटीबी अस्पताल। जहां शवों के लाने की लाइन लगी है।

दिल्ली का जीटीबी अस्पताल। जहां शवों के लाने की लाइन लगी है।

अपने भतीजे बाबू (32) के शव के इंतजार में खड़े शमीम अहमद। इन्होंने भी दिल्ली हिंसा में अपने को खो दिया।

अपने भतीजे बाबू (32) के शव के इंतजार में खड़े शमीम अहमद। इन्होंने भी दिल्ली हिंसा में अपने को खो दिया।

जीटीबी अस्पताल के सामने अपने दोस्त मोहसिन अली के शव का इंतजार करते हुए शहजाद।  इसके दोस्त को दिल्ली हिंसा में मार दिया गया।

जीटीबी अस्पताल के सामने अपने दोस्त मोहसिन अली के शव का इंतजार करते हुए शहजाद। इसके दोस्त को दिल्ली हिंसा में मार दिया गया।

जीटीबी अस्पताल के सामने इन्होंने भी अपने को खो दिया। जीटीबी अस्पताल के सामने शव का इंतजार करते हुए।

जीटीबी अस्पताल के सामने इन्होंने भी अपने को खो दिया। जीटीबी अस्पताल के सामने शव का इंतजार करते हुए।

जीटीबी अस्पताल में अपनों को खोने के बाद रोते-बिलखते परिजन।

जीटीबी अस्पताल में अपनों को खोने के बाद रोते-बिलखते परिजन।

दिल्ली हिंसा में 22 साल के शोएब खान की मौत हो गई। यह उसी की तस्वीर है।

दिल्ली हिंसा में 22 साल के शोएब खान की मौत हो गई। यह उसी की तस्वीर है।

दिल्ली हिंसा के बाद एक बच्चा हाथ में टॉपी का डिब्बा लिए इधर-उधर देखता हुआ।

दिल्ली हिंसा के बाद एक बच्चा हाथ में टॉपी का डिब्बा लिए इधर-उधर देखता हुआ।

हिंसा के बाद घर में की गई तोड़फोड़ को दिखाती हुई महिला।

हिंसा के बाद घर में की गई तोड़फोड़ को दिखाती हुई महिला।

जीटीबी अस्पताल के स्ट्रेचर का हाल। खून लगा हुआ है।

जीटीबी अस्पताल के स्ट्रेचर का हाल। खून लगा हुआ है।

जीटीबी अस्पताल के सामने एक शख्स अपने भाई के डेड बॉडी का इंतजार करते हुए।

जीटीबी अस्पताल के सामने एक शख्स अपने भाई के डेड बॉडी का इंतजार करते हुए।

जीटीबी अस्पताल के पोस्टमार्ट रूम के सामने। दिल्ली हिंसा में मारे गए परिजन अपनों के डेड बॉडी को ले जाने के लिए इंतजार में बैठे हुए।

जीटीबी अस्पताल के पोस्टमार्ट रूम के सामने। दिल्ली हिंसा में मारे गए परिजन अपनों के डेड बॉडी को ले जाने के लिए इंतजार में बैठे हुए।

दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों का शव देखने के बाद परिजन का हाल। तस्वीर जीटीबी अस्पताल के सामने की है।

दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों का शव देखने के बाद परिजन का हाल। तस्वीर जीटीबी अस्पताल के सामने की है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios