शर्मिंदा करने वाली हैं पिछले 24 घंटे में हुईं ये 5 घटनाएं, लॉकडाउन हो सकता है फेल, देश के लिए भी खतरा

First Published 2, Apr 2020, 11:35 AM

नई दिल्ली. जहां एक तरफ कोरोना से लड़ने के लिए दुनिया में तमाम तरह की रिसर्च हो रही है, वहीं भारत में कई जगहों से खबरें आ रही हैं कि मरीज डॉक्टर्स पर ही थूक रहे हैं, उन्हें पत्थर मार रहे हैं। शर्मिंदा करने के अलावा ऐसी खबरें यह सोचने पर भी मजबूर कर देती हैं कि क्या ऐसी हरकतों से कोरोना को फैलने से रोका जा सकता है? ताजा आंकड़ों की बात करें तो 2 मार्च की सुबह 11 बजे तक देश में कोरोना के 2071 केस आ चुके हैं। 56 लोगों की मौत हो चुकी है। 

सबसे ज्यादा महाराष्ट्र (228), केरल (265) और तमिलनाडु (234) से कोरोना संक्रमण के केस सामने आए हैं। ऐसे में बताते हैं पिछले 24 घंटे में देश के अंदर हुई वह घटनाएं, जिससे 21 दिन का लॉकडाउन भी फेल हो सकता है और कोरोना से मौत के आंकड़ें भी बढ़ सकते हैं।

सबसे ज्यादा महाराष्ट्र (228), केरल (265) और तमिलनाडु (234) से कोरोना संक्रमण के केस सामने आए हैं। ऐसे में बताते हैं पिछले 24 घंटे में देश के अंदर हुई वह घटनाएं, जिससे 21 दिन का लॉकडाउन भी फेल हो सकता है और कोरोना से मौत के आंकड़ें भी बढ़ सकते हैं।

इंदौर के टाटपट्टी बाखल में बुधवार कॉलोनियों में लोगों की जांच करने गए डॉक्टर्स को मारने के लिए दौड़ा लिया। दरअसल, कोरोना संक्रमितों की जांच करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची थी। लेकिन लोगों ने उनपर ही पथराव कर दिया। स्वास्थ्यकर्मी जान बचाकर भागे। पुलिस ने इनके खिलाफ केस दर्ज किया है।

इंदौर के टाटपट्टी बाखल में बुधवार कॉलोनियों में लोगों की जांच करने गए डॉक्टर्स को मारने के लिए दौड़ा लिया। दरअसल, कोरोना संक्रमितों की जांच करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची थी। लेकिन लोगों ने उनपर ही पथराव कर दिया। स्वास्थ्यकर्मी जान बचाकर भागे। पुलिस ने इनके खिलाफ केस दर्ज किया है।

पीएम मोदी बार-बार कह रहे हैं कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। नोएडा सेक्टर 20 का एक वीडियो वायरस हो रहा है, जिसमें दिख रहा है कि कुछ लोग छत पर इकट्ठा होकर नमाज पढ़ रहे हैं। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

पीएम मोदी बार-बार कह रहे हैं कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। नोएडा सेक्टर 20 का एक वीडियो वायरस हो रहा है, जिसमें दिख रहा है कि कुछ लोग छत पर इकट्ठा होकर नमाज पढ़ रहे हैं। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात जलसे से 167 लोगों को निकालकर तुगलकाबाद क्वारंटाइन सेंटर पहुंचे थे। 97 लोगों को डीजल शेड ट्रेनिंग स्कूल हॉस्टल में और बाकी 70 को आरपीएफ बैरक क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। लेकिन हॉस्पिटल और क्वारंटाइन सेंटर में ये लोग डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों से बदतमीजी कर रहे हैं। तब्लीगी जमात के लोग डॉक्टरों पर थूक रहे हैं।

निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात जलसे से 167 लोगों को निकालकर तुगलकाबाद क्वारंटाइन सेंटर पहुंचे थे। 97 लोगों को डीजल शेड ट्रेनिंग स्कूल हॉस्टल में और बाकी 70 को आरपीएफ बैरक क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। लेकिन हॉस्पिटल और क्वारंटाइन सेंटर में ये लोग डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों से बदतमीजी कर रहे हैं। तब्लीगी जमात के लोग डॉक्टरों पर थूक रहे हैं।

निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात जलसे की वजह से कोरोना वायरस का खतरा तेजी से फैला है। जमात के लोगों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया है। इसके बाद भी तब्लीगी जमात के जलसे में शामिल लोग परेशानी पर परेशानी खड़ी करने से बाज नहीं आर रहे हैं। दिल्ली के राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में भर्ती मरकज निजामुद्दीन के एक व्यक्ति ने आज आत्महत्या करने की कोशिश की। उसे अस्पताल के अधिकारियों ने बचा लिया।

निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात जलसे की वजह से कोरोना वायरस का खतरा तेजी से फैला है। जमात के लोगों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया है। इसके बाद भी तब्लीगी जमात के जलसे में शामिल लोग परेशानी पर परेशानी खड़ी करने से बाज नहीं आर रहे हैं। दिल्ली के राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में भर्ती मरकज निजामुद्दीन के एक व्यक्ति ने आज आत्महत्या करने की कोशिश की। उसे अस्पताल के अधिकारियों ने बचा लिया।

तब्लीगी जमात से ले जाए लोगों को हॉस्पिटल और क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। लेकिन यहां पर ये लोग परेशानी खडी कर रहे हैं। तरह तरह के खाने की डिमांड कर रहे हैं। इसके अलावा क्वारंटाइन सेंटरों के कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार भी कर रहे हैं। रोकने के बाद भी हॉस्टल बिल्डिंग में भी घूम रहे थे।

तब्लीगी जमात से ले जाए लोगों को हॉस्पिटल और क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। लेकिन यहां पर ये लोग परेशानी खडी कर रहे हैं। तरह तरह के खाने की डिमांड कर रहे हैं। इसके अलावा क्वारंटाइन सेंटरों के कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार भी कर रहे हैं। रोकने के बाद भी हॉस्टल बिल्डिंग में भी घूम रहे थे।

loader