Asianet News Hindi

आंखों में आंखे डाल पी चाय, दुश्मनों के बीच अभिनंदन के वो 58 घंटे... PAK ने पूछे थे ये 7 सवाल

First Published Feb 27, 2020, 1:25 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. साल 2019 में फरवरी का महीना काफी खास था। इसी महीने में 14 जनवरी को आतंकियों ने पुलवामा में CRPF जवानों को अपना निशाना बनाया। जिसमें 40 जवानों की शहादत हुई थी। जिसके 15 दिन बाद भारत ने आतंकियों पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों के कैंप तबाह कर दिए। हालांकि अगले ही दिन 27 फरवरी को पाकिस्तान ने भी अपने लड़ाकू विमान भारतीय सीमा में भेजे। इसी दौरान बदले की कार्रवाई में पाकिस्तानी विमानों को खदेड़ते हुए विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान में जा पहुंचे थे। 56 घंटे तक विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान में थे, इसके बाद भी दुश्मन उनसे कुछ नहीं जान सका। बताते हैं कि पाकिस्तान ने अभिनंदन से वह 7 सवाल कौन से पूछे थे? और अभिनंदन ने उसका क्या जवाब दिया था?

क्या हुआ था 26 फरवरी 2019 को : भारतीय वायु सेना के 12 मिराज, 2000 जेट्स ने 26 फरवरी को नियंत्रण रेखा पार की और बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद द्वारा चलाए जा रहे आतंकवादी शिविरों पर हमला किया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस ऑपरेशन के दौरान लगभग 200-300 आतंकवादी मारे गए। इसके बाद बौखलाए पाकिस्तान ने 27 फरवरी को सुबह भारतीय सीमा में पाकिस्तानी लड़ाकू विमान भेजे। उन्हें ही खदेड़ते हुए मिग-21 फाइटर जेट के साथ विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान में जा गिरे। अभिनंदन 1 मार्च 2019 को भारत लौटे थे।

क्या हुआ था 26 फरवरी 2019 को : भारतीय वायु सेना के 12 मिराज, 2000 जेट्स ने 26 फरवरी को नियंत्रण रेखा पार की और बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद द्वारा चलाए जा रहे आतंकवादी शिविरों पर हमला किया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस ऑपरेशन के दौरान लगभग 200-300 आतंकवादी मारे गए। इसके बाद बौखलाए पाकिस्तान ने 27 फरवरी को सुबह भारतीय सीमा में पाकिस्तानी लड़ाकू विमान भेजे। उन्हें ही खदेड़ते हुए मिग-21 फाइटर जेट के साथ विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान में जा गिरे। अभिनंदन 1 मार्च 2019 को भारत लौटे थे।

अभिनंदन का जवाब-: मेरा नाम विंग कमांडर अभिनंदन है। मेरे पास उसके सबूत भी हैं।

अभिनंदन का जवाब-: मेरा नाम विंग कमांडर अभिनंदन है। मेरे पास उसके सबूत भी हैं।

अभिनंदन का जवाब-:  हां, मेरे साथ अच्छा व्यवहार किया जा रहा है। मेरा ये बयान भारत लौटने पर भी नहीं बदलेगा। कैप्टन ने मुझे भीड़ से बचाया। आप सभी भले लोग हैं।

अभिनंदन का जवाब-: हां, मेरे साथ अच्छा व्यवहार किया जा रहा है। मेरा ये बयान भारत लौटने पर भी नहीं बदलेगा। कैप्टन ने मुझे भीड़ से बचाया। आप सभी भले लोग हैं।

अभिनंदन का जवाब-:  इसकी जानकारी मैं नहीं दे सकता। बस इतना बता सकता हूं कि मैं दक्षिण भारत में कहीं का हूं।

अभिनंदन का जवाब-: इसकी जानकारी मैं नहीं दे सकता। बस इतना बता सकता हूं कि मैं दक्षिण भारत में कहीं का हूं।

अभिनंदन का जवाब-: हां मैंने शादी की है।

अभिनंदन का जवाब-: हां मैंने शादी की है।

अभिनंदन का जवाब-: हां बहुत अच्छी है, चाय पिलाने के लिए थैंक्यू।

अभिनंदन का जवाब-: हां बहुत अच्छी है, चाय पिलाने के लिए थैंक्यू।

अभिनंदन का जवाब-:  सॉरी! मैं ये भी नही बता सकता। लेकिन, विमान के मलबे से आपको पता चल गया होगा।

अभिनंदन का जवाब-: सॉरी! मैं ये भी नही बता सकता। लेकिन, विमान के मलबे से आपको पता चल गया होगा।

अभिनंदन का जवाब-:  सॉरी मेजर ! मैं ये भी आपको नहीं बता सकता।

अभिनंदन का जवाब-: सॉरी मेजर ! मैं ये भी आपको नहीं बता सकता।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios