Asianet News Hindi

नीतीश कुमार समेत 15 मंत्रियों ने ली शपथ, इनमें सबसे ज्यादा 7 भाजपा के; देखिए किस किस के सिर बंधा ताज

First Published Nov 16, 2020, 6:31 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना.  बिहार में नीतीश कुमार ने एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है। वे 7वीं बार राज्य के सीएम बने हैं। नीतीश कुमार के अलावा 14 और विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली है। इसके अलावा भाजपा के दो डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद और रेणु देवी ने शपथ ली। राज्य में सबसे ज्यादा मंत्रीपद भाजपा के खाते में गए हैं। नीतीश कुमार समेत जदयू के 6, दोनों उप मुख्यमंत्रियों समेत भाजपा के 7 और हम-वीआईपी के 1-1 नेता ने मंत्री पद की शपथ ली। आईए जानते हैं कि नीतीश कुमार की टीम में कौन कौन है- 
 

तारकिशोर प्रसाद- तार किशोर ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली। उन्हें भाजपा के विधायक दल का नेता चुना गया है। 64 साल के तारकिशोर 2005 से कटिहार विधानसभा से विधायक हैं। वे कलवार वैश्य समाज से आते हैं।

तारकिशोर प्रसाद- तार किशोर ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली। उन्हें भाजपा के विधायक दल का नेता चुना गया है। 64 साल के तारकिशोर 2005 से कटिहार विधानसभा से विधायक हैं। वे कलवार वैश्य समाज से आते हैं।

रेणु देवी ने डिप्टी सीएम की शपथ ली। वे बेतिया विधानसभा से 5वीं बार विधायक बनी हैं। रेणु देवी को विधानमंडल दल का उप नेता चुना गया है। माना जा रहा है कि रेणु देवी डिप्टी सीएम पद की शपथ लेंगी। रेणु देवी भी बिहार में भाजपा का पुराना चेहरा हैं।

रेणु देवी ने डिप्टी सीएम की शपथ ली। वे बेतिया विधानसभा से 5वीं बार विधायक बनी हैं। रेणु देवी को विधानमंडल दल का उप नेता चुना गया है। माना जा रहा है कि रेणु देवी डिप्टी सीएम पद की शपथ लेंगी। रेणु देवी भी बिहार में भाजपा का पुराना चेहरा हैं।

मंगल पांडेय (मंत्री पद)- भाजपा प्रदेश अध्यक्ष हैं। विधान परिषद के सदस्य हैं। पिछली सरकार में स्वास्थ्य मंत्री भी थे।

मंगल पांडेय (मंत्री पद)- भाजपा प्रदेश अध्यक्ष हैं। विधान परिषद के सदस्य हैं। पिछली सरकार में स्वास्थ्य मंत्री भी थे।

अमरेंद्र प्रताप सिंह- (मंत्री पद) आरा से विधायक हैं। इनके पिता हरिहर सिंह बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। विधानसभा अध्यक्ष भी बनाए जा सकते हैं।

अमरेंद्र प्रताप सिंह- (मंत्री पद) आरा से विधायक हैं। इनके पिता हरिहर सिंह बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। विधानसभा अध्यक्ष भी बनाए जा सकते हैं।

रामप्रीत पासवान (मंत्री पद)-  राजनगर से लगातार तीसरी बार विधायक बने हैं। पासवान समुदाय से आते हैं।

रामप्रीत पासवान (मंत्री पद)-  राजनगर से लगातार तीसरी बार विधायक बने हैं। पासवान समुदाय से आते हैं।

जीवेश मिश्रा (मंत्री पद)- दरभंगा से दूसरी बार विधायक बने। भूमिहार समुदाय से हैं।

जीवेश मिश्रा (मंत्री पद)- दरभंगा से दूसरी बार विधायक बने। भूमिहार समुदाय से हैं।

रामसूरत राय (मंत्री पद)- मुजफ्फरपुर के औराई से दूसरी बार विधायक बने हैं।

रामसूरत राय (मंत्री पद)- मुजफ्फरपुर के औराई से दूसरी बार विधायक बने हैं।

विजय चौधरी (मंत्री पद)- नीतीश कुमार के करीबी हैं। 6 बार से विधायक हैं। पिछली बार विधानसभा स्पीकर थे।

विजय चौधरी (मंत्री पद)- नीतीश कुमार के करीबी हैं। 6 बार से विधायक हैं। पिछली बार विधानसभा स्पीकर थे।

विजेंद्र यादव (मंत्री पद)- इससे पहले ऊर्जा मंत्री थे। सुपौल से 1990 से लगातार विधायक हैं।

विजेंद्र यादव (मंत्री पद)- इससे पहले ऊर्जा मंत्री थे। सुपौल से 1990 से लगातार विधायक हैं।

अशोक चौधरी- (मंत्री पद)- नीतीश के करीबी, सकरा से विधायक।

अशोक चौधरी- (मंत्री पद)- नीतीश के करीबी, सकरा से विधायक।

मेवालाल चौधरी-(मंत्री पद)- राजनीति में आने से पहले राजेंद्र कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति थे। दो बार से विधायक हैं।

मेवालाल चौधरी-(मंत्री पद)- राजनीति में आने से पहले राजेंद्र कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति थे। दो बार से विधायक हैं।

शीला कुमारी  (मंत्री पद)- फूलपरास से पहली बार विधायक बनीं।

शीला कुमारी  (मंत्री पद)- फूलपरास से पहली बार विधायक बनीं।

संतोष मांझी (मंत्री पद)- संतोष मांझी ने हम के कोटे से शपथ ली। जीतन राम मांझी के बेटे हैं। विधान परिषद से सदस्य हैं।

संतोष मांझी (मंत्री पद)- संतोष मांझी ने हम के कोटे से शपथ ली। जीतन राम मांझी के बेटे हैं। विधान परिषद से सदस्य हैं।

मुकेश सहनी- (मंत्री पद)- वीआईपी के मुकेश सहनी ने मंत्री पद की शपथ ली। हालांकि, वे इस बार चुनाव हार गए हैं। हालांकि, उनकी पार्टी के चार विधायक जीत कर विधानसभा पहुंचे हैं।

मुकेश सहनी- (मंत्री पद)- वीआईपी के मुकेश सहनी ने मंत्री पद की शपथ ली। हालांकि, वे इस बार चुनाव हार गए हैं। हालांकि, उनकी पार्टी के चार विधायक जीत कर विधानसभा पहुंचे हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios