Asianet News Hindi

खुशखबरी : कोरोना संक्रमण से डरने की जरूरत नहीं, अब सिर्फ 103 रुपए में मिल रही है दवा

First Published Jun 20, 2020, 6:09 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. कोरोना वायरस से मामूली रूप से पीड़ित व्यक्ति के इलाज के लिए दवा आई है। खुशी की बात यह है कि यह दवा सिर्फ 103 रुपए की है। ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (Glenmark Pharmaceuticals) ने कोविड-19 (Covid-19) से मामूली रूप से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए एंटीवायरल दवा फेविपिराविर को फैबिफ्लू ब्रांड नाम से पेश किया है। 

देश में अब तक कोरोना से 12 हजार 970 लोगों की मौत हुई। इसमें महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 5893 की जान गई। दिल्ली में शुक्रवार को 3137 मरीज बढ़े। वहीं, मुंबई के बाद सबसे ज्यादा 66 लोगों ने दम तोड़ा।
 

देश में अब तक कोरोना से 12 हजार 970 लोगों की मौत हुई। इसमें महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 5893 की जान गई। दिल्ली में शुक्रवार को 3137 मरीज बढ़े। वहीं, मुंबई के बाद सबसे ज्यादा 66 लोगों ने दम तोड़ा।
 

पहले दिन इसकी 1800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। उसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। 
 

पहले दिन इसकी 1800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। उसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। 
 

कंपनी सरकार और चिकित्सा समुदाय के साथ मिलकर काम करेगी ताकि देशभर में मरीजों को यह दवा आसानी से उपलब्ध हो सके। यह दवा डॉक्टर की सलाह पर 103 रुपए प्रति टैबलेट के दाम पर मिलेगी।
 

कंपनी सरकार और चिकित्सा समुदाय के साथ मिलकर काम करेगी ताकि देशभर में मरीजों को यह दवा आसानी से उपलब्ध हो सके। यह दवा डॉक्टर की सलाह पर 103 रुपए प्रति टैबलेट के दाम पर मिलेगी।
 

कंपनी ने कहा, फैबिफ्लू, कोविड-19 के इलाज के लिए फेविपिराविर दवा है, जिसे मंजूरी मिली है। ग्लेमार्क फार्मास्युटिल्स के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक ग्लेन सल्दान्हा ने कहा, यह मंजूरी ऐसे समय मिली जब भारत में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस समय भात को दवा की बहुत जरूरत है।  
 

कंपनी ने कहा, फैबिफ्लू, कोविड-19 के इलाज के लिए फेविपिराविर दवा है, जिसे मंजूरी मिली है। ग्लेमार्क फार्मास्युटिल्स के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक ग्लेन सल्दान्हा ने कहा, यह मंजूरी ऐसे समय मिली जब भारत में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस समय भात को दवा की बहुत जरूरत है।  
 

कंपनी ने शनिवार को इस दवा की जानकारी दी। मुंबई की कंपनी ने शुक्रवार को कहा था कि उसे भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) से इस दवा के प्रोडक्शन और मार्केटिंग की अनुमति मिल गई है
 

कंपनी ने शनिवार को इस दवा की जानकारी दी। मुंबई की कंपनी ने शुक्रवार को कहा था कि उसे भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) से इस दवा के प्रोडक्शन और मार्केटिंग की अनुमति मिल गई है
 

ग्लेनमार्क फार्मा ने कहा, मामूली संक्रमण वाले ऐसे मरीज जो मधुमेह या दिल की बीमारी से पीड़ित हैं, उन्हें भी यह दवा दी जा सकती है।
 

ग्लेनमार्क फार्मा ने कहा, मामूली संक्रमण वाले ऐसे मरीज जो मधुमेह या दिल की बीमारी से पीड़ित हैं, उन्हें भी यह दवा दी जा सकती है।
 

सल्दान्हा ने कहा, क्लिनिकल परीक्षणों में फैबिफ्लू ने कोरोना वायरस के हल्के संक्रमण से पीड़ित मरीजों पर काफी अच्छे नतीजे दिखाए। उन्होंने कहा कि इसके अलावा यह खाने वाली दवा है जो इलाज का एक सुविधाजनक विकल्प है। 
 

सल्दान्हा ने कहा, क्लिनिकल परीक्षणों में फैबिफ्लू ने कोरोना वायरस के हल्के संक्रमण से पीड़ित मरीजों पर काफी अच्छे नतीजे दिखाए। उन्होंने कहा कि इसके अलावा यह खाने वाली दवा है जो इलाज का एक सुविधाजनक विकल्प है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios