7 साल की उम्र में हुए धोनी के सिक्सर के फैन, अब अपने प्रदर्शन से दिल जीत रहे दिल्ली के युवा क्रिकेटर मोक्ष

First Published 21, Nov 2020, 3:36 PM

नई दिल्‍ली. कहते हैं कि अगर मंजिल पाने का प्रयास पूरे मन और लगन से किया है तो कभी भी कोई भी लक्ष्य मुश्किल नहीं होता है। कुछ ऐसी मिसाल पेश की है दिल्ली के क्रिकेटर मोक्ष मुरगई ने। सिर्फ 7 साल की उम्र में क्रिकेट को ही अपनी दुनिया बनाने वाले मोक्ष ने अपने खेल से सभी को प्रभावित किया है। खास बात ये है कि मोक्ष को क्रिकेट से इतना प्रेम सिर्फ महेंद्र सिंह धोनी की वजह से हुआ। एशियानेट न्यूज़ हिंदी ने दिल्ली के युवा क्रिकेटर मोक्ष मुरगई से बातचीत की। इस दौरान मोक्ष ने अपने जीवन व करियर से जुड़ी तमाम बातें हमसे शेयर किया।

<p>मोक्ष दाएं हाथ के बल्लेबाज और ऑफ स्पिनर गेंदबाज हैं। हाल में इन्हें दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ का खेल अध्यक्ष चुना किया गया। सिर्फ 20 साल की उम्र में इन्होंने अपनी अलग पहचान बना ली है। ये सब जूनियर (अंडर 14), जूनियर (अंडर 16) और सीनियर्स (अंडर 19) सभी श्रेणियों में शानदार प्रदर्शन कर चुके हैं। इनके पास अब तक घरेलू क्रिकेट में 250 से ज्यादा विकेट के साथ 30 से ज्यादा शतक और 50 से ज्यादा अर्ध शतक का रिकॉर्ड है। ये रेलवे की रणजी ट्रॉफी और अंडर 23 कैंप में भी हिस्सा ले चुके हैं।&nbsp;</p>

मोक्ष दाएं हाथ के बल्लेबाज और ऑफ स्पिनर गेंदबाज हैं। हाल में इन्हें दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ का खेल अध्यक्ष चुना किया गया। सिर्फ 20 साल की उम्र में इन्होंने अपनी अलग पहचान बना ली है। ये सब जूनियर (अंडर 14), जूनियर (अंडर 16) और सीनियर्स (अंडर 19) सभी श्रेणियों में शानदार प्रदर्शन कर चुके हैं। इनके पास अब तक घरेलू क्रिकेट में 250 से ज्यादा विकेट के साथ 30 से ज्यादा शतक और 50 से ज्यादा अर्ध शतक का रिकॉर्ड है। ये रेलवे की रणजी ट्रॉफी और अंडर 23 कैंप में भी हिस्सा ले चुके हैं। 

<p>दिल्ली के रहने वाले मोक्ष मुरगई कहते हैं, उस समय मेरी उम्र 7 साल थी। मैं अपने नानी के घर गया था। वहां सभी बैठकर टीवी पर मैच देख रहे थे। मैंने देखा एक लंबे बाल वाला आदमी लंबे लंबे छक्के मार रहा है और सभी उसकी तारीफ कर रहे। तभी से मैंने सोच लिया कि क्रिकेट खेलना है और नाम बनाना है। महेंद्र सिंह धोनी मेरे आइडल हैं।</p>

दिल्ली के रहने वाले मोक्ष मुरगई कहते हैं, उस समय मेरी उम्र 7 साल थी। मैं अपने नानी के घर गया था। वहां सभी बैठकर टीवी पर मैच देख रहे थे। मैंने देखा एक लंबे बाल वाला आदमी लंबे लंबे छक्के मार रहा है और सभी उसकी तारीफ कर रहे। तभी से मैंने सोच लिया कि क्रिकेट खेलना है और नाम बनाना है। महेंद्र सिंह धोनी मेरे आइडल हैं।

<p>मोक्ष कहते हैं, शुरुआत से लेकर अब तक मेरी फैमिली ने मेरा पूरा सपोर्ट किया। जहां भी मैच होता पापा साथ रहते हैं। मेरी बहन ने भी मुझे काफी सपोर्ट किया। एक बार मेरी बैक इंजरी हो गई थी। लेकिन मैंने हार नहीं मानी। डॉक्टर ने कहा सर्जरी करनी पड़ेगी लेकिन मैंने एक्सरसाइज और योगा से इंजरी को कवर कर लिया और अपने गेम में वापस लौटा।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

मोक्ष कहते हैं, शुरुआत से लेकर अब तक मेरी फैमिली ने मेरा पूरा सपोर्ट किया। जहां भी मैच होता पापा साथ रहते हैं। मेरी बहन ने भी मुझे काफी सपोर्ट किया। एक बार मेरी बैक इंजरी हो गई थी। लेकिन मैंने हार नहीं मानी। डॉक्टर ने कहा सर्जरी करनी पड़ेगी लेकिन मैंने एक्सरसाइज और योगा से इंजरी को कवर कर लिया और अपने गेम में वापस लौटा। 
 

<p>छत पर ही रोजाना 4-5 घंटे से ज्यादा वर्क आउट को वक्त देते हैं। इसमें उसके फिटनेस सत्र, नेट सत्र, क्षेत्ररक्षण सत्र और कूल डाउन सत्र शामिल होते हैं।&nbsp;</p>

छत पर ही रोजाना 4-5 घंटे से ज्यादा वर्क आउट को वक्त देते हैं। इसमें उसके फिटनेस सत्र, नेट सत्र, क्षेत्ररक्षण सत्र और कूल डाउन सत्र शामिल होते हैं। 

<p>क्रिकेट को लेकर मोक्ष का संकल्प कुछ इस तरह मजबूत था कि उन्हें 2019-20 में मेरठ के एसएच स्पोर्ट्स अनुबंध करने का मौका मिला। इसके अलावा मोक्ष मुरगई ने रेलवे रणजी ट्रॉफी और अंडर-23 कैंप में भी हिस्सा लिया है और लखनऊ में साल 2019 में आयोजित एक टूर्नामेंट में मोक्ष भारत का प्रतिनिधित्व भी कर चुके हैं।</p>

क्रिकेट को लेकर मोक्ष का संकल्प कुछ इस तरह मजबूत था कि उन्हें 2019-20 में मेरठ के एसएच स्पोर्ट्स अनुबंध करने का मौका मिला। इसके अलावा मोक्ष मुरगई ने रेलवे रणजी ट्रॉफी और अंडर-23 कैंप में भी हिस्सा लिया है और लखनऊ में साल 2019 में आयोजित एक टूर्नामेंट में मोक्ष भारत का प्रतिनिधित्व भी कर चुके हैं।

<p>मोक्ष कहते हैं, आगे मेरा लक्ष्य रणजी ट्रॉफी और आईपीएल है। मेरी पसंदीदा टीम दिल्ली कैपिटल्स है। हालांकि, टीम अभी तक टूर्नामेंट में कोई खिताब नहीं जीत सकी है। लेकिन मुझे ये काफी बैलेंस टीम लगती है।<br />
&nbsp;</p>

मोक्ष कहते हैं, आगे मेरा लक्ष्य रणजी ट्रॉफी और आईपीएल है। मेरी पसंदीदा टीम दिल्ली कैपिटल्स है। हालांकि, टीम अभी तक टूर्नामेंट में कोई खिताब नहीं जीत सकी है। लेकिन मुझे ये काफी बैलेंस टीम लगती है।