Asianet News Hindi

आतंक का सफाया: घाटी में पहली बार 4 महीने में लश्कर-जैश समेत चार प्रमुख आतंकी संगठनों के चीफ ढेर

First Published Jun 21, 2020, 4:42 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

श्रीनगर. जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों ने रविवार को दो मुठभेड़ों में चार आतंकी ढेर कर दिए। इनमें एक पाकिस्तानी आतंकी भी शामिल था। जम्मू कश्मीर आईजी पुलिस विजय कुमार ने कहा, चार महीने के भीतर चार प्रमुख आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा, जैश ए मोहम्मद, हिजबुल मुजाहिद्दीन और अनसर गजवत उल हिंद के चीफ मारे गए हैं। उन्होंने कहा, घाटी के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है।
 

आईजी कुमार ने सुरक्षाबलों को आतंकियों के खात्मे के लिए बधाई दी। उन्होंने बताया इन प्रमुखों के सफाए के बाद आतंकी संगठनों को काफी नुकसान पहुंचा है। आईजी ने कहा, आतंकियों के सफाए के लिए ऐसे ऑपरेशन चलते रहेंगे।

आईजी कुमार ने सुरक्षाबलों को आतंकियों के खात्मे के लिए बधाई दी। उन्होंने बताया इन प्रमुखों के सफाए के बाद आतंकी संगठनों को काफी नुकसान पहुंचा है। आईजी ने कहा, आतंकियों के सफाए के लिए ऐसे ऑपरेशन चलते रहेंगे।

आईजी ने बताया, कुलगाम में शनिवार को एक आतंकी मारा गया था। दो आतंकी बंदूक छोड़कर भाग निकले थे। इनमें से एक पाकिस्तान का आतंकी जैश का कमांडर ताहिर बरीद मारा गया है। उसके पास से एक एके 47, एम-4 कार्बाइन मिली है। ऐसी ही M4 कार्बाइन कल कठुआ में सुरक्षाबलों ने ड्रोन को मार गिराने के बाद बरामद की थी। इंटरसेप्ट से पता चला था कि ये गन अली भाई के लिए भेजी गई थी। 

आईजी ने बताया, कुलगाम में शनिवार को एक आतंकी मारा गया था। दो आतंकी बंदूक छोड़कर भाग निकले थे। इनमें से एक पाकिस्तान का आतंकी जैश का कमांडर ताहिर बरीद मारा गया है। उसके पास से एक एके 47, एम-4 कार्बाइन मिली है। ऐसी ही M4 कार्बाइन कल कठुआ में सुरक्षाबलों ने ड्रोन को मार गिराने के बाद बरामद की थी। इंटरसेप्ट से पता चला था कि ये गन अली भाई के लिए भेजी गई थी। 

कौन है अलीभाई?
आईजी ने बताया कि इंटरसेप्ट में जिस अली भाई का जिक्र था, हमने रिकॉर्ड में देखा तो पता चला कि यह पाकिस्तानी आतंकी फुर्कान का ही नाम है। वह पुलवामा में एक्टिव है। शायद ये राइफल उसी के लिए भेजी गई थी।  

कौन है अलीभाई?
आईजी ने बताया कि इंटरसेप्ट में जिस अली भाई का जिक्र था, हमने रिकॉर्ड में देखा तो पता चला कि यह पाकिस्तानी आतंकी फुर्कान का ही नाम है। वह पुलवामा में एक्टिव है। शायद ये राइफल उसी के लिए भेजी गई थी।  

सुरक्षाबलों ने ढेर किए 3 आतंकी
इससे पहले सुरक्षाबलों ने श्रीनगर के जादिबाल में एक घर में तीन आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली थी। इसके बाद यहां सुरक्षाबलों ने सर्च ऑपरेशन चलाया। इसी दौरान आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में तीन आतंकी मारे गए। ऑपरेशन को लेकर किसी तरह की अफवाह ना फैले, इसलिए इलाके में इंटरनेट पर भी रोक लगा दी गई।

सुरक्षाबलों ने ढेर किए 3 आतंकी
इससे पहले सुरक्षाबलों ने श्रीनगर के जादिबाल में एक घर में तीन आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली थी। इसके बाद यहां सुरक्षाबलों ने सर्च ऑपरेशन चलाया। इसी दौरान आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में तीन आतंकी मारे गए। ऑपरेशन को लेकर किसी तरह की अफवाह ना फैले, इसलिए इलाके में इंटरनेट पर भी रोक लगा दी गई।

आतंकी से की थी सरेंडर की अपील
जब सुरक्षाबलों को पता चला कि आतंकी स्थानीय हैं तो वहां के कुछ लोगों को बुलाकर सुरक्षाबलों ने अपील करवाई की आतंकी सरेंडर कर दें। लेकिन वे नहीं माने। उन्होंने सुरक्षाबलों के ऊपर ग्रेनेड फेंक दिया। इसके बाद जवाबी कार्रवाई में तीनों आतंकी मार गिराए। 

आतंकी से की थी सरेंडर की अपील
जब सुरक्षाबलों को पता चला कि आतंकी स्थानीय हैं तो वहां के कुछ लोगों को बुलाकर सुरक्षाबलों ने अपील करवाई की आतंकी सरेंडर कर दें। लेकिन वे नहीं माने। उन्होंने सुरक्षाबलों के ऊपर ग्रेनेड फेंक दिया। इसके बाद जवाबी कार्रवाई में तीनों आतंकी मार गिराए। 

3 दिन में ढेर किए 12 आतंकी
जम्मू कश्मीर में 19 जून को सुरक्षाबलों ने अवंतीपोरा और शोपियां में हुए दो ऑपरेशनों में 8 आतंकी मार गिराए थे। शोपियां की तुलना में अवंतीपोरा में ऑपरेशन ज्यादा कठिन था। यहां आतंकी एक मस्जिद में घुस गए थे। ऐसे में सुरक्षाबलों के सामने दोहरी चुनौती थी। एक तो आतंकियों को मार गिराना था और दूसरी ओर मस्जिद की पवित्रता भी बनाए रखनी थी। सुरक्षाबलों ने सफाई से इस ऑपरेशन को अंजाम देते हुए 3 आतंकी मार गिराए थे।

3 दिन में ढेर किए 12 आतंकी
जम्मू कश्मीर में 19 जून को सुरक्षाबलों ने अवंतीपोरा और शोपियां में हुए दो ऑपरेशनों में 8 आतंकी मार गिराए थे। शोपियां की तुलना में अवंतीपोरा में ऑपरेशन ज्यादा कठिन था। यहां आतंकी एक मस्जिद में घुस गए थे। ऐसे में सुरक्षाबलों के सामने दोहरी चुनौती थी। एक तो आतंकियों को मार गिराना था और दूसरी ओर मस्जिद की पवित्रता भी बनाए रखनी थी। सुरक्षाबलों ने सफाई से इस ऑपरेशन को अंजाम देते हुए 3 आतंकी मार गिराए थे।

इस साल सुरक्षाबलों ने जून तक 100 से ज्यादा आतंकियों को मार गिराया है। इन ऑपरेशनों ने आतंकियों की घाटी में कमर तोड़ दी है। 
 

इस साल सुरक्षाबलों ने जून तक 100 से ज्यादा आतंकियों को मार गिराया है। इन ऑपरेशनों ने आतंकियों की घाटी में कमर तोड़ दी है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios