Asianet News Hindi

मौत के सामने सीना ताने खड़ा था पुलिसवाला, कहा, मुझे अपनी जान की नहीं पड़ी, सोचा बेगुनाह न मारे जाए

First Published Feb 28, 2020, 6:14 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. दिल्ली हिंसा के दौरान एक पुलिसवाले पर बंदूक तानते हुए एक शख्स की तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी। बाद में पड़ताल चला था कि बंदूक तानने वाले शख्स का नाम शाहरुख है। अब उस पुलिसवाले का इंटरव्यू सामने आया है, जिसने सीने पर शाहरुख ने गन तानी थी। उस पुलिसवाले का नाम दीपक दहिया है। दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल के पद पर तैनात दीपन ने बताया कि वे उस समय वहां मौजूद लोगों को पिस्तौल की रेंज से बाहर निकालने की सोच रहे थे। उन्होंने सोचा कि फायरिंग हो तो कोई और घायल न हो। हिंसा वाले दिन दीपक की पोस्टिंग  मौजपुर दुर्गामाता मंदिर के पास थी।

बाई तरफ- दीपक दहिया की तस्वीर है। दाई तरफ वह तस्वीर है, जिसमें दिख रहा है कि शाहरुख ने दीपक दाहिया पर गन तानी हुई है।

बाई तरफ- दीपक दहिया की तस्वीर है। दाई तरफ वह तस्वीर है, जिसमें दिख रहा है कि शाहरुख ने दीपक दाहिया पर गन तानी हुई है।

दीपक, दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल के पद पर तैनात हैं। उनसे पूछा गया कि शख्स ने पिस्तौल तान दी तो आपको डर नहीं लगा?

दीपक, दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल के पद पर तैनात हैं। उनसे पूछा गया कि शख्स ने पिस्तौल तान दी तो आपको डर नहीं लगा?

मैं सोच रहा था कि लोगों की किसी तरह उसकी पिस्टल रेंज से बाहर निकाला जाए

मैं सोच रहा था कि लोगों की किसी तरह उसकी पिस्टल रेंज से बाहर निकाला जाए

दीपक ने बताया, मैं लगातार उसे समझा रहा था। इससे मुझे टाइम मिल रहा था कि दूसरे लोग फायरिंग रेंज से बाहर चले जाए।

दीपक ने बताया, मैं लगातार उसे समझा रहा था। इससे मुझे टाइम मिल रहा था कि दूसरे लोग फायरिंग रेंज से बाहर चले जाए।

मैं आरोपी का ध्यान भटकाना चाहता था, जिससे की बाकी लोगों को वहां से भागने का मौका मिल जाए।

मैं आरोपी का ध्यान भटकाना चाहता था, जिससे की बाकी लोगों को वहां से भागने का मौका मिल जाए।

मैं किसी भी हालत में वहां मौजूद लोगों को बचाना चाहता था।

मैं किसी भी हालत में वहां मौजूद लोगों को बचाना चाहता था।

दीपक ने बताया, मैं आरोपी को डंडा दिखाकर यही बोल रहा था कि किसी को गोली लगी तो उसको बख्शा नहीं जाएगा।

दीपक ने बताया, मैं आरोपी को डंडा दिखाकर यही बोल रहा था कि किसी को गोली लगी तो उसको बख्शा नहीं जाएगा।

दीपक ने बताया कि जैसे ही उन्होंने देखा कि वो शख्स फायरिंग करते हुए आ रहा है तो रोड की दूसरी साइड से उसकी तरफ आ गया।

दीपक ने बताया कि जैसे ही उन्होंने देखा कि वो शख्स फायरिंग करते हुए आ रहा है तो रोड की दूसरी साइड से उसकी तरफ आ गया।

दीपक ने बताया कि ऐसी स्थिति से निपटने के लिए हमें ट्रेनिंग मिलती है।  अगर आप डटे रहते हैं तो आपकी जीत के चांस बढ़ जाते हैं।

दीपक ने बताया कि ऐसी स्थिति से निपटने के लिए हमें ट्रेनिंग मिलती है। अगर आप डटे रहते हैं तो आपकी जीत के चांस बढ़ जाते हैं।

मैंने उसे उलझाए रखा, इतने में लोग उसकी गन की रेंज से बाहर जा चुके थे। सबको दूर जाने का टाइम मिल गया।

मैंने उसे उलझाए रखा, इतने में लोग उसकी गन की रेंज से बाहर जा चुके थे। सबको दूर जाने का टाइम मिल गया।

मैं उसे डंडा दिखाकर डरा रहा था, लेकिन फिर भी वह फायर करता रहा।

मैं उसे डंडा दिखाकर डरा रहा था, लेकिन फिर भी वह फायर करता रहा।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios