Asianet News Hindi

अजीबोगरीब : शादी के 9 साल बाद महिला को पता चला कि वह पुरुष है, सभी के उड़ गए होश

First Published Jun 27, 2020, 9:19 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोलकाता. 30 साल की महिला के जीवन में सब कुछ अच्छा चल रहा था। उसकी शादी के भी 9 साल हो गए थे। लेकिन अचानक वह उस दिन हैरान रह गई, जब वह पेट दर्द के बाद डॉक्टर के पास पहुंची। यहां डॉक्टर्स ने बताया कि वह महिला नहीं पुरुष है। यह सुनकर महिला और उसके पति के होश उड़ गए। इतना ही नहीं महिला को पुरुषों में होने वाला कैंसर भी है। इसके अलावा उसकी बहन को भी यही बीमारी है। 

इससे भी अजीबोगरीब बात ये है कि वह महिला अकेली पुरुष नहीं है। उसकी 28 साल की बहन भी पुरुष है। दोनों को एंड्रोजेन इंसेंसटिविटी सिंड्रोम (एआईएस) है। डॉक्टरों के मुताबिक, यह बीमारी 22 हजार लोगों में से एक को होती है। 

इससे भी अजीबोगरीब बात ये है कि वह महिला अकेली पुरुष नहीं है। उसकी 28 साल की बहन भी पुरुष है। दोनों को एंड्रोजेन इंसेंसटिविटी सिंड्रोम (एआईएस) है। डॉक्टरों के मुताबिक, यह बीमारी 22 हजार लोगों में से एक को होती है। 

इस बीमारी में शख्स जब पैदा होता है तो उसमें जींस पुरुषों जैसे होते हैं। लेकिन शरीर महिलाओं की तरह ही होता है। 

इस बीमारी में शख्स जब पैदा होता है तो उसमें जींस पुरुषों जैसे होते हैं। लेकिन शरीर महिलाओं की तरह ही होता है। 

यह चौंकाने वाला मामला प बंगाल के बीरभूमि का है। यहां 30 साल की महिला को अचानक पेट में तेज दर्द हुई। इसके बाद उसे नेताजी सुभाष चंद्र बोस कैंसर अस्पताल में ले जाया गया। यहां जांच में पता चला कि वह पुरुष है। 

यह चौंकाने वाला मामला प बंगाल के बीरभूमि का है। यहां 30 साल की महिला को अचानक पेट में तेज दर्द हुई। इसके बाद उसे नेताजी सुभाष चंद्र बोस कैंसर अस्पताल में ले जाया गया। यहां जांच में पता चला कि वह पुरुष है। 

डॉक्टर ने बताया कि वह महिला पूरी तरह से महिला है। उसकी आवाज, अंग, शरीर की बनावट सब महिलाओं की तरह हैं। लेकिन उसके शरीर में बच्चादानी और अंडकोश नहीं है। यहां तक की महिला को कभी माहवारी भी नहीं हुई। 

डॉक्टर ने बताया कि वह महिला पूरी तरह से महिला है। उसकी आवाज, अंग, शरीर की बनावट सब महिलाओं की तरह हैं। लेकिन उसके शरीर में बच्चादानी और अंडकोश नहीं है। यहां तक की महिला को कभी माहवारी भी नहीं हुई। 

डॉक्टर्स ने बताया कि महिला को टेस्टीक्यूलर कैंसर है। यह पुरुषों में होता है। महिला में पुरुषों के अंडकोश हैं। ये शरीर के अंदर हैं। इनमें कैंसर हो गया है। इस कैंसर को सेमिनोमा भी कहते हैं। इस महिला के सभी जननांग आम महिलाओं की तरह ही हैं। लेकिन वह कभी मां नहीं बन सकती।

डॉक्टर्स ने बताया कि महिला को टेस्टीक्यूलर कैंसर है। यह पुरुषों में होता है। महिला में पुरुषों के अंडकोश हैं। ये शरीर के अंदर हैं। इनमें कैंसर हो गया है। इस कैंसर को सेमिनोमा भी कहते हैं। इस महिला के सभी जननांग आम महिलाओं की तरह ही हैं। लेकिन वह कभी मां नहीं बन सकती।

महिला की फिलहान कीमोथैरेपी चल रही है। डॉक्टर अनुपम दत्ता ने बताया, उसके अंदर सभी हार्मोन महिलाओं वाले हैं। पति, पत्नी दोनों समझाया जा रहा है कि वे सामान्य जीवन ही जीते रहें जैसे पहले जीते थे।

महिला की फिलहान कीमोथैरेपी चल रही है। डॉक्टर अनुपम दत्ता ने बताया, उसके अंदर सभी हार्मोन महिलाओं वाले हैं। पति, पत्नी दोनों समझाया जा रहा है कि वे सामान्य जीवन ही जीते रहें जैसे पहले जीते थे।

डॉक्टर दत्ता ने बताया कि महिला की बहन और दो मौसियों को भी यही बीमारी है। यह जींस पर निर्भर करता है। इसलिए एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में आ जाता है। 

डॉक्टर दत्ता ने बताया कि महिला की बहन और दो मौसियों को भी यही बीमारी है। यह जींस पर निर्भर करता है। इसलिए एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में आ जाता है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios