Asianet News Hindi

PM मोदी की वो 5 बातें जो उन्हें बनाती हैं स्पेशल, हर कोई ले सकता है इनसे सीख

First Published Sep 17, 2020, 1:45 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज 70वां जन्मदिन है। उन्हें दुनियाभर से लाखों लोग बर्थडे विश कर रहे हैं। दुनियाभर में उनकी काफी पॉपुलैरिटी है, लोग उनके काम की खूब सराहना करते हैं। उन्होंने विश्वभर में अपनी अलग छाप छोड़ी है। 17 सितंबर को गुजरात में जन्मे पीएम मोदी का बचपन बड़ा ही संघर्षों से भरा रहा है। उनके जीवन में ना जाने कितने उतार-चढ़ाव आए, जिसकी सामना करते हुए उन्होंने जीवन को बड़े ही करीबी जाना और समझा है। एक साधारण परिवार से निकलकर आज वो राजनीति के सर्वोच्च शिखर तक पहुंच चुके हैं। माना जाता है कि बेहद अनुशासित जीवन की वजह से वो ऐसा कर पाए हैं। ऐसे में उनके जन्मदिन के मौके पर उन बातों के बारे में बता रहे हैं, जिससे सभी को सीख ले सकते हैं:- 
 

प्रधानमंत्री अपने काम के प्रति बेहद समर्पित हैं। इसका सशक्त उदाहरण प्रधानमंत्री के तौर पर मौजूदा कार्यकाल है। अपने कार्यकाल में उन्होंने अब तक एक भी छुट्टी नहीं ली है। वो घंटों लगन के साथ काम करते हैं। लंबी यात्राएं और तूफानी दौरे करते हैं, पर कभी थके या निराश नहीं नजर आते।

प्रधानमंत्री अपने काम के प्रति बेहद समर्पित हैं। इसका सशक्त उदाहरण प्रधानमंत्री के तौर पर मौजूदा कार्यकाल है। अपने कार्यकाल में उन्होंने अब तक एक भी छुट्टी नहीं ली है। वो घंटों लगन के साथ काम करते हैं। लंबी यात्राएं और तूफानी दौरे करते हैं, पर कभी थके या निराश नहीं नजर आते।

पीएम मोदी की कामयाबी में अनुशासन का बड़ा योगदान है। वो हर काम को उसके निर्धारित वक्त में ही करते हैं। उनकी दिनचर्या तय है। भले ही काम की वजह से वो देर से सोए हो पर सुबह तय समय पर ही उठते हैं, योग करते हैं। यही वजह रही कि लोकसभा चुनाव अभियान के वक्त उन्होंने 3 किलोमीटर तक का फासला तय किया था और यह अपने आप में एक रिकॉर्ड है।
 

पीएम मोदी की कामयाबी में अनुशासन का बड़ा योगदान है। वो हर काम को उसके निर्धारित वक्त में ही करते हैं। उनकी दिनचर्या तय है। भले ही काम की वजह से वो देर से सोए हो पर सुबह तय समय पर ही उठते हैं, योग करते हैं। यही वजह रही कि लोकसभा चुनाव अभियान के वक्त उन्होंने 3 किलोमीटर तक का फासला तय किया था और यह अपने आप में एक रिकॉर्ड है।
 

प्रधानमंत्री की खास बात ये है कि वो हर किसी को प्रोत्साहित करते हैं। उनकी लोकप्रियता की सबसे बड़ी वजह ही यही है कि वो हमेशा क्रेडिट देने से नहीं चूकते हैं। वो सोशल मीडिया की अपनी पोस्ट्स और 'मन की बात' में कई साधारण लोगों की असाधारण कहानियों के लिए तारीफ कर चुके हैं। सोशल मीडिया पर उनकी फैन फॉलोइंग भी दुनियाभर के नेताओं से काफी ज्यादा है। 

प्रधानमंत्री की खास बात ये है कि वो हर किसी को प्रोत्साहित करते हैं। उनकी लोकप्रियता की सबसे बड़ी वजह ही यही है कि वो हमेशा क्रेडिट देने से नहीं चूकते हैं। वो सोशल मीडिया की अपनी पोस्ट्स और 'मन की बात' में कई साधारण लोगों की असाधारण कहानियों के लिए तारीफ कर चुके हैं। सोशल मीडिया पर उनकी फैन फॉलोइंग भी दुनियाभर के नेताओं से काफी ज्यादा है। 

प्रधानमंत्री स्थानीयता को काफी महत्व देते हैं। हर बार उनके भाषणों में यह देख जा चुका है. वो जिस भी प्रांत या क्षेत्र में जाते हैं वहां की भाषा और संस्कृति के जरिए आसानी से तालमेल बिठा लेते हैं। फिर चाहे वो पहनावे से हो या बोली जाने वाली भाषा ही क्यों ना हो।
 

प्रधानमंत्री स्थानीयता को काफी महत्व देते हैं। हर बार उनके भाषणों में यह देख जा चुका है. वो जिस भी प्रांत या क्षेत्र में जाते हैं वहां की भाषा और संस्कृति के जरिए आसानी से तालमेल बिठा लेते हैं। फिर चाहे वो पहनावे से हो या बोली जाने वाली भाषा ही क्यों ना हो।
 

मोदी अकेले ऐसे पॉलिटिशियन हैं जो अपनी बात कहने के लिए फॉर्मूलों का इस्तेमाल करते हैं। इससे वो अपनी बात में ज्यादा असर पैदा करते हैं। उनके कई फॉर्मूले लोकप्रिय हुए हैं। जैसे आईटी + आईटी = आईटी, इंडियन टैलेंट + इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी = कल का भारत (इंडिया टूमॉरो)
 

मोदी अकेले ऐसे पॉलिटिशियन हैं जो अपनी बात कहने के लिए फॉर्मूलों का इस्तेमाल करते हैं। इससे वो अपनी बात में ज्यादा असर पैदा करते हैं। उनके कई फॉर्मूले लोकप्रिय हुए हैं। जैसे आईटी + आईटी = आईटी, इंडियन टैलेंट + इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी = कल का भारत (इंडिया टूमॉरो)
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios