Asianet News Hindi

सुशांत केस में सबसे बड़ा खुलासा, डेडबॉडी के पास खड़े होकर इस शख्स ने पुलिस को क्यों किया था इशारा?

First Published Sep 7, 2020, 1:28 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली/मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत केस में सीबीआई, ईडी और एनसीबी लगातार पूछताछ कर रही है। इस बीच खुद को सुशांत का दोस्त बताने वाले फिल्म प्रोड्यूसर संदीप सिंह ने सुशांत सिंह राजपूत और उनके परिवार के साथ की व्हाट्सएप चैट जारी की है। उनका दावा है कि उन्होंने अपनी बात सबसे सामने रखने के लिए ऐसा किया। संदीप ने कहा कि उनका  सुशांत के साथ एक करीबी रिश्ता था। 
 

जब सुशांत के परिवार ने कहा कि वे उसे (संदीप) नहीं जानते, तो वह भड़क गए। संदीप 14 जून को सुशांत के फ्लैट पर मौजूद थे, जब उनका शव मिला था।

जब सुशांत के परिवार ने कहा कि वे उसे (संदीप) नहीं जानते, तो वह भड़क गए। संदीप 14 जून को सुशांत के फ्लैट पर मौजूद थे, जब उनका शव मिला था।

इंस्टाग्राम पोस्ट की संदीप ने अपनी चुप्पी तोड़ी और नवंबर 2016 और जून 2018 के बीच सुशांत के साथ अपनी चैट साझा की। उन्होंने एक बयान भी जारी किया। मौत की खबर सुनकर वह सुशांत के फ्लैट में जाने से खुद को रोक नहीं पाए।
 

इंस्टाग्राम पोस्ट की संदीप ने अपनी चुप्पी तोड़ी और नवंबर 2016 और जून 2018 के बीच सुशांत के साथ अपनी चैट साझा की। उन्होंने एक बयान भी जारी किया। मौत की खबर सुनकर वह सुशांत के फ्लैट में जाने से खुद को रोक नहीं पाए।
 


उन्होंने लिखा, "माफ करना भाई, मेरी चुप्पी ने 20 साल की मेरी छवि को खराब कर दिया है। मैं इस बात से अनजान था कि आज के समय में दोस्ती के लिए प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती है। आज मैं अपनी व्यक्तिगत चैट को सार्वजनिक कर रहा हूं, क्योंकि यह अंतिम रास्ता है। 
 


उन्होंने लिखा, "माफ करना भाई, मेरी चुप्पी ने 20 साल की मेरी छवि को खराब कर दिया है। मैं इस बात से अनजान था कि आज के समय में दोस्ती के लिए प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती है। आज मैं अपनी व्यक्तिगत चैट को सार्वजनिक कर रहा हूं, क्योंकि यह अंतिम रास्ता है। 
 

उन्होंने सुशांत की मुंबई में रहने वाली बहन मीतू सिंह और सुशांत के  बहनोई ओपी सिंह के साथ अपनी चैट के स्क्रीनशॉट भी शेयर किया।
 

उन्होंने सुशांत की मुंबई में रहने वाली बहन मीतू सिंह और सुशांत के  बहनोई ओपी सिंह के साथ अपनी चैट के स्क्रीनशॉट भी शेयर किया।
 

उन्होंने लिखा, "हर कोई कह रहा है कि आपका परिवार मुझे नहीं जानता। हां, यह सही है, मैं आपके परिवार से कभी नहीं मिला। क्या सुशांत की अंतिम संस्कार में एक दुःखी बहन की मदद करना मेरी गलती है? बस मैं चाहता हूं कि सब अटकलें खत्म हो जाए। 
 

उन्होंने लिखा, "हर कोई कह रहा है कि आपका परिवार मुझे नहीं जानता। हां, यह सही है, मैं आपके परिवार से कभी नहीं मिला। क्या सुशांत की अंतिम संस्कार में एक दुःखी बहन की मदद करना मेरी गलती है? बस मैं चाहता हूं कि सब अटकलें खत्म हो जाए। 
 

एक अलग पोस्ट में उन्होंने लिखा, "14 जून को जब मैंने आपके बारे में सुना तो मैं खुद को रोक नहीं पाया और मैं दुख में आपके घर गया। लेकिन मिट्टू दीदी के अलावा कोई मौजूद नहीं था। उस समय में अपनी बहन के साथ खड़े होने के लिए मुझे दूसरे दोस्तों के आने का इंतजार करना चाहिए था?'
 

एक अलग पोस्ट में उन्होंने लिखा, "14 जून को जब मैंने आपके बारे में सुना तो मैं खुद को रोक नहीं पाया और मैं दुख में आपके घर गया। लेकिन मिट्टू दीदी के अलावा कोई मौजूद नहीं था। उस समय में अपनी बहन के साथ खड़े होने के लिए मुझे दूसरे दोस्तों के आने का इंतजार करना चाहिए था?'
 


संदीप सिंह मौत की खबर सुनकर सुशांत के घर पहुंचने वाले पहले व्यक्तियों में से थे। उन्हें कूपर अस्पताल के बाहर सुशांत की बहन मीतू के साथ भी देखा गया था।
 


संदीप सिंह मौत की खबर सुनकर सुशांत के घर पहुंचने वाले पहले व्यक्तियों में से थे। उन्हें कूपर अस्पताल के बाहर सुशांत की बहन मीतू के साथ भी देखा गया था।
 

संदीप सिंह ने अंगूठा दिखाने पर भी अपनी सफाई दी है। संदीप ने कहा कि मैं और सुशांत की दीदी मीतू सिंह कूपर अस्पताल पहुंचे। तभी एक कांस्टेबल ने पूछा-संदीप सिंह कौन है? उस वक्त चिल्ला कर जवाब देने या मास्क हटाने के बजाय, मैंने उसे यह बताने के लिए कि मैं ही हूं, अंगूठा दिखाया। 

संदीप सिंह ने अंगूठा दिखाने पर भी अपनी सफाई दी है। संदीप ने कहा कि मैं और सुशांत की दीदी मीतू सिंह कूपर अस्पताल पहुंचे। तभी एक कांस्टेबल ने पूछा-संदीप सिंह कौन है? उस वक्त चिल्ला कर जवाब देने या मास्क हटाने के बजाय, मैंने उसे यह बताने के लिए कि मैं ही हूं, अंगूठा दिखाया। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios