Asianet News Hindi

पॉलिटिक्स में खेल: भाजपा की देखादेखी TMC भी जोड़ रही टीम में खिलाड़ी, जानिए अब नया क्या

First Published Feb 24, 2021, 12:37 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कहते हैं कि खेलों से पालिटिक्स को दूर रखना चाहिए, तभी खिलाड़ी कुछ बेहतर कर पाते हैं। लेकिन यह बात सिर्फ कहावत बनकर रह गई। खेलों में उच्च पदों पर पॉलिटिक्स का बोलबाला है और पॉलिटिक्स में खिलाड़ियों का दबदबा बढ़ रहा है। भाजपा की देखादेखी पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस ने भी नया खेल खेला है।  क्रिकेटर मनोज तिवारी विधानसभा चुनाव के लिए ममता बनर्जी के साथ जुड़ गए हैं। क्रिकेट मनोज तिवारी तृणमूल कांग्रेस के लिए काम करेंगे। वे हुगली में होने जा रही ममता बनर्जी की रैली में शामिल हुए।

हावड़ा में जन्मे मनोज तिवारी ने भारतीय क्रिकेट टीम में 2008 में डेब्यू किया था। उन्होंने अपना आखिरी वनडे जुलाई, 2015 में खेला था। मनोज तिवारी ने 12 वनडे, तीन T-20 मैच खेले। वनडे मैच में कुल 287 रन बनाए। 35 वर्षीय मनोज तिवारी ने टी-20 में 15 रन बनाए। बता दें कि पश्चिम बंगाल में अप्रैल-मई के महीने में विधानसभा चुनाव होने की संभावना है।

आगे पढ़ें भाजपा के पुराने-नये और संभावित 'खिलाड़ी'
 

हावड़ा में जन्मे मनोज तिवारी ने भारतीय क्रिकेट टीम में 2008 में डेब्यू किया था। उन्होंने अपना आखिरी वनडे जुलाई, 2015 में खेला था। मनोज तिवारी ने 12 वनडे, तीन T-20 मैच खेले। वनडे मैच में कुल 287 रन बनाए। 35 वर्षीय मनोज तिवारी ने टी-20 में 15 रन बनाए। बता दें कि पश्चिम बंगाल में अप्रैल-मई के महीने में विधानसभा चुनाव होने की संभावना है।

आगे पढ़ें भाजपा के पुराने-नये और संभावित 'खिलाड़ी'
 

पूर्व भारतीय क्रिकेटर लक्ष्मण शिवरामाकृष्णन ने दिसंबर, 2020 को भाजपा ज्वाइन की थी। उन्होंने चेन्नई में भाजपा का दामन थामा था। शिवा ने 17 साल की उम्र में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। 1983 में पहला मैच खेलने के बाद इन्हें ज्यादा मौका नहीं मिला और 1987 में संन्यास ले लिया।

पूर्व भारतीय क्रिकेटर लक्ष्मण शिवरामाकृष्णन ने दिसंबर, 2020 को भाजपा ज्वाइन की थी। उन्होंने चेन्नई में भाजपा का दामन थामा था। शिवा ने 17 साल की उम्र में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। 1983 में पहला मैच खेलने के बाद इन्हें ज्यादा मौका नहीं मिला और 1987 में संन्यास ले लिया।

बैडमिंटन की चैम्पियन साइना नेहवाल ने जनवरी में भाजपा ज्वाइन की थी। वे अपनी बहन चंद्रांशु नेहवाल के साथ भाजपा में शामिल हुई थीं। हरियाणा में जन्मी 29 साल की साइना बैडमिंटन में वर्ल्ड नंबर-1 रह चुकी हैं। उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न और अर्जुन अवार्ड मिल चुका है।

बैडमिंटन की चैम्पियन साइना नेहवाल ने जनवरी में भाजपा ज्वाइन की थी। वे अपनी बहन चंद्रांशु नेहवाल के साथ भाजपा में शामिल हुई थीं। हरियाणा में जन्मी 29 साल की साइना बैडमिंटन में वर्ल्ड नंबर-1 रह चुकी हैं। उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न और अर्जुन अवार्ड मिल चुका है।

14 अक्टूबर 1981 को जन्मे गौतम गंभीर इस समय पूर्व दिल्ली से भाजपा के सांसद हैं। इन्हें 2008 में अर्जुन पुरस्कार मिला था। 22 मार्च, 2019 को ये केंद्रीय मंत्री रहे स्वर्गीय अरुण जेटली के अलावा रविशंकर प्रसाद की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हो गए थे।
 

14 अक्टूबर 1981 को जन्मे गौतम गंभीर इस समय पूर्व दिल्ली से भाजपा के सांसद हैं। इन्हें 2008 में अर्जुन पुरस्कार मिला था। 22 मार्च, 2019 को ये केंद्रीय मंत्री रहे स्वर्गीय अरुण जेटली के अलावा रविशंकर प्रसाद की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हो गए थे।
 

भारतीय टीम के पूर्व कैप्टन सौरव गांगुली को लेकर लगातार अटकले हैं कि वे भाजपा में एंट्री कर सकते हैं। दिसंबर, 2020 को जब उन्होंने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की थी, तब से चर्चाएं हैं। बता दें कि हाल में एक टीवी न्यूज चैनल ने सर्वे किया था, जिसमें गांगुली को बंगाल में मुख्यमंत्री पद के लिए तीसरी बड़ी पसंद बताया गया था।

भारतीय टीम के पूर्व कैप्टन सौरव गांगुली को लेकर लगातार अटकले हैं कि वे भाजपा में एंट्री कर सकते हैं। दिसंबर, 2020 को जब उन्होंने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की थी, तब से चर्चाएं हैं। बता दें कि हाल में एक टीवी न्यूज चैनल ने सर्वे किया था, जिसमें गांगुली को बंगाल में मुख्यमंत्री पद के लिए तीसरी बड़ी पसंद बताया गया था।

अगस्त, 2020 में महेंद्र सिंह धोनी को भाजपा में आने का न्यौता दिया गया था। उनसे 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में खड़े होने को कहा गया था। हालांकि अभी धोनी ने कोई निर्णय नहीं लिया है, लेकिन माना जाता है कि उनक झुकाव भाजपा की तरफ है।

(file photo: अमित शाह के साथ धोनी)

अगस्त, 2020 में महेंद्र सिंह धोनी को भाजपा में आने का न्यौता दिया गया था। उनसे 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में खड़े होने को कहा गया था। हालांकि अभी धोनी ने कोई निर्णय नहीं लिया है, लेकिन माना जाता है कि उनक झुकाव भाजपा की तरफ है।

(file photo: अमित शाह के साथ धोनी)

नवजोत सिंह सिद्धू 2016 में भाजपा छोड़कर कांग्रेस में चले गए थे। उन्हें कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार में मंत्री बनाया गया, लेकिन पटरी नहीं बैठी। अब कहा जा रहा है कि वे दुबारा भाजपा में शामिल हो सकते हैं। सिद्धू ने पहली बार 2004 में अमृतसर से भाजपा के टिकट पर लोकसभा का चुनाव जीता था। 

नवजोत सिंह सिद्धू 2016 में भाजपा छोड़कर कांग्रेस में चले गए थे। उन्हें कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार में मंत्री बनाया गया, लेकिन पटरी नहीं बैठी। अब कहा जा रहा है कि वे दुबारा भाजपा में शामिल हो सकते हैं। सिद्धू ने पहली बार 2004 में अमृतसर से भाजपा के टिकट पर लोकसभा का चुनाव जीता था। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios