Asianet News Hindi

प्रिंसिपल माता-पिता ने 2 जवान बेटियों की हत्या, बोले-वो कल जिंदा हो जाएंगी..मारने से पहले किया मुंडन

First Published Jan 25, 2021, 6:03 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश). एक तरफ जहां भारत इस डिजिटल युग में रोज विज्ञान और अन्य नए-नए क्षेत्रों में सफलता की सीढ़ी चढ रहा है। वहीं दूसरी तरफ लोग आज भी अंधविश्वास से दूर होने की बजाए इसमें फंसते जा रहे हैं। ऐसी ही एक अजीबोगरीब घटना आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले से सामने आई है, जिसे जानकर आप सोंचेगे कि हम किस युग में रह रहे हैं। जहां एक माता-पिता ने अपनी दो जवान बेटियों को मार डाला। हैरानी की बात ये है दोंनों ही मां-बाप अच्छे-खासे पढ़े लिखे हैं, फिर भी उन्होंने अंधविश्वास के चक्कर में पड़ कर इस घटना को अंजाम दिया। वजह जान फट जाएगा कलेजा..
 


दरअसल, हैरान कर देने वाली यह घटना चित्तूर जिले के मदनापल्ले कस्बे में रविवार रात को हुई। पुलिस ने इन मृतक लड़कियों की पहचान अलेख्या (27 साल) और साई दिव्या (22) के रुप में की। वहीं हत्या करने वालों की पहचान पिता वी. पुरुषोत्तम नायडू और मां पद्मजा के रुप में हुई। माता-पिता ने अपनी दो बेटियों की कथित तौर पर इस उम्मीद में हत्या कर दी कि क्योंकि कलयुग सतयुग में बदलने वाला है और दैवीय शक्ति से कुछ घंटों में वे वापस जिंदा हो जाएंगी।


दरअसल, हैरान कर देने वाली यह घटना चित्तूर जिले के मदनापल्ले कस्बे में रविवार रात को हुई। पुलिस ने इन मृतक लड़कियों की पहचान अलेख्या (27 साल) और साई दिव्या (22) के रुप में की। वहीं हत्या करने वालों की पहचान पिता वी. पुरुषोत्तम नायडू और मां पद्मजा के रुप में हुई। माता-पिता ने अपनी दो बेटियों की कथित तौर पर इस उम्मीद में हत्या कर दी कि क्योंकि कलयुग सतयुग में बदलने वाला है और दैवीय शक्ति से कुछ घंटों में वे वापस जिंदा हो जाएंगी।


बता दें कि बेटियों की हत्या करने वाले दोनों माता-पिता अच्छे खासे पढ़े लिखे हैं। वी. पुरुषोत्तम नायडू (एम.एससी, पीएचडी) मदनपल्ली में सरकारी महिला डिग्री कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर के साथ वह कॉलेज में प्रिसिंपल है । वहीं उसकी पत्नी स्नातकोत्तर और स्वर्ण पदक विजेता है, वह खुद एक स्थानीय निजी स्कूल की प्रिसिंपल है।


बता दें कि बेटियों की हत्या करने वाले दोनों माता-पिता अच्छे खासे पढ़े लिखे हैं। वी. पुरुषोत्तम नायडू (एम.एससी, पीएचडी) मदनपल्ली में सरकारी महिला डिग्री कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर के साथ वह कॉलेज में प्रिसिंपल है । वहीं उसकी पत्नी स्नातकोत्तर और स्वर्ण पदक विजेता है, वह खुद एक स्थानीय निजी स्कूल की प्रिसिंपल है।


पद्मजा और पुरुषोत्तम नायडू की बड़ी बेटी अखेल्या ने भोपाल से मास्टर्स डिग्री हासिल की हुई है, जबकि वहीं छोटी लड़की साई दिव्या ने बीबीए किया हुआ था। वह फिलहाल मुंबई में एआर रहमान म्यूजिक स्कूल की छात्रा थी। कोरोना वायरस चलते लगे लॉकडाउन के बाद से दोनों बेटियां अपने माता-पिता के साथ रह रही थीं।


पद्मजा और पुरुषोत्तम नायडू की बड़ी बेटी अखेल्या ने भोपाल से मास्टर्स डिग्री हासिल की हुई है, जबकि वहीं छोटी लड़की साई दिव्या ने बीबीए किया हुआ था। वह फिलहाल मुंबई में एआर रहमान म्यूजिक स्कूल की छात्रा थी। कोरोना वायरस चलते लगे लॉकडाउन के बाद से दोनों बेटियां अपने माता-पिता के साथ रह रही थीं।


पुलिस ने पति-पत्नी को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ शुरू कर दी है। वहीं फोरेंसिक टीम को बुलाकर आसपास की जांच की जा रही है। पुलिस सीसीटीवी कैमरों की फुटेज के जरिए यह पता लगाने कि कोशिश कर रही है कि इस हत्याकांड में दंपति के अलावा और भी कोई शामिल तो नहीं था।


पुलिस ने पति-पत्नी को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ शुरू कर दी है। वहीं फोरेंसिक टीम को बुलाकर आसपास की जांच की जा रही है। पुलिस सीसीटीवी कैमरों की फुटेज के जरिए यह पता लगाने कि कोशिश कर रही है कि इस हत्याकांड में दंपति के अलावा और भी कोई शामिल तो नहीं था।


आसपाल के लोगों ने बताया कि कोरोना काल के दौरान यह परिवार अजीबोगरीब हरकतें करता था। आए दिन इनके घर से चिल्लाने की आवाज का आना पूजा तंत्र-मंत्र साधना का होना आदि। वहीं रविवार देर रात दोनों बेटियों की चिल्लाने की आवाज आई थी। जब हमने पूछा तो कोई जवाब नहीं दिया। 


आसपाल के लोगों ने बताया कि कोरोना काल के दौरान यह परिवार अजीबोगरीब हरकतें करता था। आए दिन इनके घर से चिल्लाने की आवाज का आना पूजा तंत्र-मंत्र साधना का होना आदि। वहीं रविवार देर रात दोनों बेटियों की चिल्लाने की आवाज आई थी। जब हमने पूछा तो कोई जवाब नहीं दिया।