Asianet News Hindi

पति-पत्नी ने एक नहीं 2 बार जीती कोरोना की जंग, दोनों टाइम नहीं गए अस्पताल..सिर्फ इन बातों का रखा ध्यान

First Published May 3, 2021, 5:46 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

दिल्ली. कोरोना की दूसरी लहर इस तरह से कहर बरपा रही है कि लोग उसका नाम सुनते ही खौफ में आ जाते हैं। अगर कोई गलती से संक्रमित हो जाए तो आधी हिम्मत तोड़ देते हैं। सोचते हैं पता नहीं अब वह सही होंगे भी की नहीं। इसी बीच देश की राजधानी दिल्ली से एक पति-पत्नी की ऐसी कहानी सामने आई है, सिखाती है कि बीमारी से डरना नहीं है, बल्कि डटकर इसका सामना करना चाहिए। यह कपल एक बार नहीं, दो बार कोरोना पॉजिटिव हुआ, इसके बाद वह डरे नहीं और ना ही अस्पताल गए। दोनों अपने घर पर रहकर दोनों बार कोरोना को हराया। साथ ही जिंदगी जीने के नए मायने सीखे। पढ़िए हौसला बढ़ाने वाली यह जिंदादिल काहनी...


दरअसल. दो-दो बार कोरोना के खिलाफ जंग जीतने वाले यह दंपत्ति तरुण राजपूत और उनकी पत्नी गौरांशी श्रीवास्तव हैं। जो कि दिल्ली के प्रीत विहार में रहते हैं। पिछली बार वह दोनों नवंबर के महीने में कोरोना संक्रमित हुए थे। जबकि इस बार वो महामारी की दूसरी लहर में इसी माह अप्रैल के पहले सप्ताह में शिकार हुए थे। लेकिन दोनों पूरी तरह से ठीक हो गए। दोनों ने अपनी डाइट का खास ख्याल रखा और किसी प्रकार कोई तनाव नहीं लिया और ठीक हो गए। वह भी बिना अस्पताल गए।


दरअसल. दो-दो बार कोरोना के खिलाफ जंग जीतने वाले यह दंपत्ति तरुण राजपूत और उनकी पत्नी गौरांशी श्रीवास्तव हैं। जो कि दिल्ली के प्रीत विहार में रहते हैं। पिछली बार वह दोनों नवंबर के महीने में कोरोना संक्रमित हुए थे। जबकि इस बार वो महामारी की दूसरी लहर में इसी माह अप्रैल के पहले सप्ताह में शिकार हुए थे। लेकिन दोनों पूरी तरह से ठीक हो गए। दोनों ने अपनी डाइट का खास ख्याल रखा और किसी प्रकार कोई तनाव नहीं लिया और ठीक हो गए। वह भी बिना अस्पताल गए।


तरुण ने बताया कि पिछले साल के मुकाबले इस बार के कोरोना के हममें लक्षण भी अलग थे। पिछले साल मुझे गंध और स्वाद नहीं आ रहा था। लेकिन इस बार  ऐसा कुछ नहीं हुआ, सिर्फ हल्का सा बुखार था। जब हमने रिपोर्ट कराई तो दोनों संक्रमित निकले। लेकिन हमने हिम्मत नहीं खोई, हम अलर्ट और शांत रहकर  इसे हावी नहीं होने दिया। तरुण कहते हैं कि हम दोनों ने अपनी डाइट पर बहुत ध्यान दिया। हम रोज दो बार इलायची, काली मिर्च, सोंठ, लौंग और गुड का काढ़ा बनाकर पीते थे। दिन में 2-3 तीन बार नींबू पानी पीते थे, इसके लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करते थे। ठंडा पानी पूरी तरह से पीना बंद कर दिया।


तरुण ने बताया कि पिछले साल के मुकाबले इस बार के कोरोना के हममें लक्षण भी अलग थे। पिछले साल मुझे गंध और स्वाद नहीं आ रहा था। लेकिन इस बार  ऐसा कुछ नहीं हुआ, सिर्फ हल्का सा बुखार था। जब हमने रिपोर्ट कराई तो दोनों संक्रमित निकले। लेकिन हमने हिम्मत नहीं खोई, हम अलर्ट और शांत रहकर  इसे हावी नहीं होने दिया। तरुण कहते हैं कि हम दोनों ने अपनी डाइट पर बहुत ध्यान दिया। हम रोज दो बार इलायची, काली मिर्च, सोंठ, लौंग और गुड का काढ़ा बनाकर पीते थे। दिन में 2-3 तीन बार नींबू पानी पीते थे, इसके लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करते थे। ठंडा पानी पूरी तरह से पीना बंद कर दिया।


वहीं पत्नी गौरांशी श्रीवास्तव ने बताया कि शुरुआत में हम हल्का खाना जैसे दलिया, जूस लेते थे, लेकिन धीरे-धीरे हमने अपनी डाइट को बढ़ाया और नॉर्मल खाना खाने लगे। हम दोनों डिस्पोजल में खाना खाते थे और उसे डस्बिन में डाल देते थे। इससे घर के दूसरे सदस्यों को संक्रमित होने का खतरा नहीं रहता है।  दिन में दो-तीन बार रोज स्टीम लेते थे। हम धीरे-धीरे रिकवर होने लगे। 


वहीं पत्नी गौरांशी श्रीवास्तव ने बताया कि शुरुआत में हम हल्का खाना जैसे दलिया, जूस लेते थे, लेकिन धीरे-धीरे हमने अपनी डाइट को बढ़ाया और नॉर्मल खाना खाने लगे। हम दोनों डिस्पोजल में खाना खाते थे और उसे डस्बिन में डाल देते थे। इससे घर के दूसरे सदस्यों को संक्रमित होने का खतरा नहीं रहता है।  दिन में दो-तीन बार रोज स्टीम लेते थे। हम धीरे-धीरे रिकवर होने लगे। 


तरुण ने बताया कि हमे अपनी इच्छाशक्ति और हिम्मत नहीं खोनी चाहिए। वह हमारे लिए किसी दवा से कम नहीं है। अगर आप अपना हौसला बनाए रखेंगे तो  इम्यूनिटी बढ़िया रहेगी ओर आप बड़ी आसानी से कोरोना को हरा सकते हैं। हम दो बार पॉजिटिव से नेगेटिव हुए हैं। क्योंकि हम डरे नहीं। हम दोनों ने डटकर सामना किया। किसी तरह का कोई तनाव नहीं लिया। योग और अच्छी डाइट से 14 दिन में रिकवर कर लिया था। हमने न्यूज नहीं देखी, बस फिल्में और वेबसीरीज कमरे पर बैठे बैठे मोबाइल पर देखते रहते थे। गलती खबरें खासकर कोरोना से जुड़ी कोई न्यूज नहीं देखी।


तरुण ने बताया कि हमे अपनी इच्छाशक्ति और हिम्मत नहीं खोनी चाहिए। वह हमारे लिए किसी दवा से कम नहीं है। अगर आप अपना हौसला बनाए रखेंगे तो  इम्यूनिटी बढ़िया रहेगी ओर आप बड़ी आसानी से कोरोना को हरा सकते हैं। हम दो बार पॉजिटिव से नेगेटिव हुए हैं। क्योंकि हम डरे नहीं। हम दोनों ने डटकर सामना किया। किसी तरह का कोई तनाव नहीं लिया। योग और अच्छी डाइट से 14 दिन में रिकवर कर लिया था। हमने न्यूज नहीं देखी, बस फिल्में और वेबसीरीज कमरे पर बैठे बैठे मोबाइल पर देखते रहते थे। गलती खबरें खासकर कोरोना से जुड़ी कोई न्यूज नहीं देखी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios