Asianet News Hindi

मां ने 3 साल की बेटी को दी भयानक मौत, मासूम का कसूर इतना कि वो रिमोट के लिए पिता का साथ दे रही थी

First Published Apr 8, 2021, 12:31 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


बैंगलरू. आजकल हर घर में TV के रिमोट को लेकर लड़ाई-झगड़े होते हैं, जहां भाई-बहन अपने मन पंसदीदा चैनल/ प्रोग्राम देखने के लिए झगड़ते हैं। हालांकि माता-पिता डांट-फटकार के इस हल्की-फुल्की नोकझोक को समाप्त कर देते हैं। लेकिन बेंगलुरु से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। जहां एक मां ने  रिमोट कंट्रोल के झगड़े को लेकर अपनी नी 3 साल की बेटी की गला दबा कर जान ले ली। पढ़िए हत्यारिन मां की खौफनाक कहानी...


दरअसल, कलयुगी मां की चौंकानी वाली यह वारदात पश्चिमी बेंगलुरू की है, जिसे 26 साल की सुधा नाम की इस महिला ने अंजाम दिया है। वह इतनी कठोर दिल निकली की उसका अपनी मासूम को मारते वक्त हाथ भी नहीं कांपा। हत्यारिन मां इतनी शातिर निकली की बेटी को मारने के बाद पुलिस थाने पहुंचकर उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट तक दर्ज करा दी।


दरअसल, कलयुगी मां की चौंकानी वाली यह वारदात पश्चिमी बेंगलुरू की है, जिसे 26 साल की सुधा नाम की इस महिला ने अंजाम दिया है। वह इतनी कठोर दिल निकली की उसका अपनी मासूम को मारते वक्त हाथ भी नहीं कांपा। हत्यारिन मां इतनी शातिर निकली की बेटी को मारने के बाद पुलिस थाने पहुंचकर उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट तक दर्ज करा दी।


आरोपी सुधा पश्चिमी बेंगलुरू इलाके में एक टाइल्स की एक दुकान पर हाउसकीपिंग स्टाफ में काम करती है। जबकि उसका पति एक दिहाड़ी मजदूर है। पति-पत्नी के बीच आए दिन टीवी रिमोट को लेकर लड़ाई-झगड़े होते रहते थे। मासूम बेटी इस बात पर अक्सर अपने पिता का पक्ष लेती थी। घटना वाले दिन भी उसने पापा के पक्ष में बोला। लेकिन उसे नहीं पता था कि पापा के लिए बोलने मां उसे मार डालेगी।  (प्रतीकात्मक फोटो)


आरोपी सुधा पश्चिमी बेंगलुरू इलाके में एक टाइल्स की एक दुकान पर हाउसकीपिंग स्टाफ में काम करती है। जबकि उसका पति एक दिहाड़ी मजदूर है। पति-पत्नी के बीच आए दिन टीवी रिमोट को लेकर लड़ाई-झगड़े होते रहते थे। मासूम बेटी इस बात पर अक्सर अपने पिता का पक्ष लेती थी। घटना वाले दिन भी उसने पापा के पक्ष में बोला। लेकिन उसे नहीं पता था कि पापा के लिए बोलने मां उसे मार डालेगी।  (प्रतीकात्मक फोटो)


महिला अगले दिन  एक निर्माणाधीन इमारत बेटी को लेकर गई, जहां उसने गला दबाकर हत्या कर दी और शव के ऊपर ईंट-पत्थर रख दिए। फिर वह गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करान थाने पहुंची। जहां उसने पुलिस को झूठी कहानी बताते हुए कहा कि वह बेटी को घर से बाहर चाट की दुकान पर गोभी मंचूरियन खिलाने के लिए ले गई थी। इसी दौरान जब में ठेले वाले को पैसा देने लगी तो मेरी बेटी गुम हो गई।  (प्रतीकात्मक फोटो)


महिला अगले दिन  एक निर्माणाधीन इमारत बेटी को लेकर गई, जहां उसने गला दबाकर हत्या कर दी और शव के ऊपर ईंट-पत्थर रख दिए। फिर वह गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करान थाने पहुंची। जहां उसने पुलिस को झूठी कहानी बताते हुए कहा कि वह बेटी को घर से बाहर चाट की दुकान पर गोभी मंचूरियन खिलाने के लिए ले गई थी। इसी दौरान जब में ठेले वाले को पैसा देने लगी तो मेरी बेटी गुम हो गई।  (प्रतीकात्मक फोटो)


पुलिस में शिकायत लिखवाने के बाद भी सुधा घर आकर बेटी के लापता होने का नाटक करती रही। वारदात के अगले दिन एक युवक ने निर्माणाधीन इमारत के पास से गुजरते हुए बच्ची का शव देखा तो उसने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और महिला और उसके पति  इरन्ना  को बुलाया गया।  (प्रतीकात्मक फोटो)


पुलिस में शिकायत लिखवाने के बाद भी सुधा घर आकर बेटी के लापता होने का नाटक करती रही। वारदात के अगले दिन एक युवक ने निर्माणाधीन इमारत के पास से गुजरते हुए बच्ची का शव देखा तो उसने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और महिला और उसके पति  इरन्ना  को बुलाया गया।  (प्रतीकात्मक फोटो)


पुलिस ने महिला की बताई चाट की दुकान के आसपास जाकर पूछताछ की, लेकिन कोई हल नहीं निकली। फिर महिला के बार-बार बयान बदलने पर पुलिस को उस पर शक हुआ तो उससे कड़ाई से पूछताछ की गई। वह आखिरकार टूट गई और अपना गुनाह कबूल कर लिया।  (प्रतीकात्मक फोटो)


पुलिस ने महिला की बताई चाट की दुकान के आसपास जाकर पूछताछ की, लेकिन कोई हल नहीं निकली। फिर महिला के बार-बार बयान बदलने पर पुलिस को उस पर शक हुआ तो उससे कड़ाई से पूछताछ की गई। वह आखिरकार टूट गई और अपना गुनाह कबूल कर लिया।  (प्रतीकात्मक फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios