Asianet News Hindi

15 घंटे ड्यूटी के बाद चिलचिलाती धूप में जमीन पर सो जाते हैं ये योद्धा, धरती के भगवान का निभा रहे फर्ज

First Published Apr 25, 2020, 12:42 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. कोरोना संकट के बीच हमारी पुलिस अपने कर्तव्य से पीछे नहीं हट रही है। महामारी को हराने के लिए पुलिस के जवान एक योद्धा की तरह मैदान में डटे हैं। अपने परिवार की चिंता किए बिना वह 15 से 18 घंटे की मैराथन डयूटी कर रहे हैं। जहां हम अपने घरों में सुकून की नींद ले रहे हैं, वहीं यह जवान चिलचिलाती धूप में सड़क को अपना बिस्तर बनाकर नींद पूरी कर रहे हैं। ऐसी ही एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही  है।

दरअसल, यह तस्वीर अरुणाचल प्रदेश के आईपीएस ऑफिसर मधुर वर्मा ने ट्विटर पर शेयर की है। फोटो शेयर करते हुए ISP वर्मा ने लिखा- इन कोरोना योद्धाओं के समर्पण और जज्बे  को सलाम करता हूं। जो अपने घर परिवार को छोड़कर इस तरह लोगों की सेवा कर रहे हैं। क्या इनको आरामदायक बिस्तर और 8 घंटे की नींद की जरूरत नहीं है? सब भूलकर यह जवान मैदान में डटे हुए हैं। हमें इन पर गर्व है।
 

दरअसल, यह तस्वीर अरुणाचल प्रदेश के आईपीएस ऑफिसर मधुर वर्मा ने ट्विटर पर शेयर की है। फोटो शेयर करते हुए ISP वर्मा ने लिखा- इन कोरोना योद्धाओं के समर्पण और जज्बे  को सलाम करता हूं। जो अपने घर परिवार को छोड़कर इस तरह लोगों की सेवा कर रहे हैं। क्या इनको आरामदायक बिस्तर और 8 घंटे की नींद की जरूरत नहीं है? सब भूलकर यह जवान मैदान में डटे हुए हैं। हमें इन पर गर्व है।
 

बता दें कि दोनों पुलिस जवान की इस तस्वीर को 29,000 से ज्यादा 'लाइक' और 5,000 से अधिक 'रीट्वीट' मिल चुके हैं। सोशल मीडिया पर लोग इनके बलिदान को प्रणाम कर तारीफ कर रहे हैं। वहीं कुछ लोग लिख रहे हैं कि जब तक हमारे देश में ऐसे पुलिसकर्मी हैं, कोरोना कुछ नहीं कर पाएगा।

बता दें कि दोनों पुलिस जवान की इस तस्वीर को 29,000 से ज्यादा 'लाइक' और 5,000 से अधिक 'रीट्वीट' मिल चुके हैं। सोशल मीडिया पर लोग इनके बलिदान को प्रणाम कर तारीफ कर रहे हैं। वहीं कुछ लोग लिख रहे हैं कि जब तक हमारे देश में ऐसे पुलिसकर्मी हैं, कोरोना कुछ नहीं कर पाएगा।

आईपीएस ऑफिसर मधुर वर्मा ने 21 अप्रैल को भी एक तस्वीर ट्विटर पर शेयर की थी। जिसमें एक ट्रैफिक पुलिस का जवान चिलचिलाती धूप में ट्रैफिक बैरियर के पास अपना रूमाल जमीन पर बिछाकर सो गया।

आईपीएस ऑफिसर मधुर वर्मा ने 21 अप्रैल को भी एक तस्वीर ट्विटर पर शेयर की थी। जिसमें एक ट्रैफिक पुलिस का जवान चिलचिलाती धूप में ट्रैफिक बैरियर के पास अपना रूमाल जमीन पर बिछाकर सो गया।


यह तस्वीर देश की राजधानी दिल्ली की है, जहां एक पुलिसकर्मी लॉकडाउन में ड्यूटी के दौरान  कुछ थकान मिटाने के लिए बाइक पर ही आराम करने लगा। 


यह तस्वीर देश की राजधानी दिल्ली की है, जहां एक पुलिसकर्मी लॉकडाउन में ड्यूटी के दौरान  कुछ थकान मिटाने के लिए बाइक पर ही आराम करने लगा। 

कोरोना योद्धा के तौर पर इस पुलिसवाले की तस्वीर भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इनका नाम है इंस्पेक्टर बिनोद कुमार हैं। ये दिल्ली में तैनात हैं। वह पिछले एक महीने से अपने घर के अंदर नहीं गए हैं। उनका कहना है कि जब मैंने मस्जिदों से लोगों को बाहर निकालकर उनको क्वारंटाइन किया तो मेरे घर वाले डर गए थे। उनकी पत्नी और बच्चे फोन करके रोज उनका हालचाल पूछते हैं ।

कोरोना योद्धा के तौर पर इस पुलिसवाले की तस्वीर भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इनका नाम है इंस्पेक्टर बिनोद कुमार हैं। ये दिल्ली में तैनात हैं। वह पिछले एक महीने से अपने घर के अंदर नहीं गए हैं। उनका कहना है कि जब मैंने मस्जिदों से लोगों को बाहर निकालकर उनको क्वारंटाइन किया तो मेरे घर वाले डर गए थे। उनकी पत्नी और बच्चे फोन करके रोज उनका हालचाल पूछते हैं ।

तीस्वीर में दिखने वाले यह शख्स हैं, आईपीएस मधुर वर्मा, जो सोशल मीडिया पर दिल को छू लेने वाली तस्वीरें शेयर कर रहे हैं। IPS मधुर वर्मा भारतीय पुलिस सेवा के 2005 बैच के अधिकारी हैं। वह उत्तर दिल्ली और अपराध शाखा में भी पुलिस उपायुक्त रहे हैं। वर्मा दिल्ली पुलिस में प्रवक्ता भी रह चुके हैं। वह उन चंद अधिकारियों में शामिल हैं जो ट्विटर पर सक्रिय रहते हैं और शिकायतों पर प्रतिक्रिया देते हैं। उनपर दिल्ली के यातायात निरीक्षक को ‘थप्पड़ मारने तथा अपशब्द’ कहने के आरोप लगे थे, जिसके चलते उनका तबादला अरुणाचल प्रदेश में कर दिया गया।

तीस्वीर में दिखने वाले यह शख्स हैं, आईपीएस मधुर वर्मा, जो सोशल मीडिया पर दिल को छू लेने वाली तस्वीरें शेयर कर रहे हैं। IPS मधुर वर्मा भारतीय पुलिस सेवा के 2005 बैच के अधिकारी हैं। वह उत्तर दिल्ली और अपराध शाखा में भी पुलिस उपायुक्त रहे हैं। वर्मा दिल्ली पुलिस में प्रवक्ता भी रह चुके हैं। वह उन चंद अधिकारियों में शामिल हैं जो ट्विटर पर सक्रिय रहते हैं और शिकायतों पर प्रतिक्रिया देते हैं। उनपर दिल्ली के यातायात निरीक्षक को ‘थप्पड़ मारने तथा अपशब्द’ कहने के आरोप लगे थे, जिसके चलते उनका तबादला अरुणाचल प्रदेश में कर दिया गया।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios