Asianet News Hindi

ट्रैक्टर परेड में इस परिंदे पर सबकी नजर, तस्वीरों में देखिए तोप लगाकर सेना की तरह निकले किसान

First Published Jan 26, 2021, 12:18 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

दिल्ली. एक तरफ जहां रिपब्लिक डे के अवसर पे राजपथ पर परेड जारी है। जहां पहली बार राम मंदिर से लेकर लद्दाख तक की झांकी निकल रही हैं। वहीं दूसरी तरफ गणतंत्र दिवस पर किसानों की परेड में अलग-अलग रंग देखने को मिल रहे हैं। दिल्ली की सिंधू बॉर्डर पर किसान टैक्ट्रर पर तोप की प्रतिकृति लगाकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी बीच परेड में एक ट्रैक्टर पर परिंदे (बाज) को बैठाया गया है। जो इस परेड में चर्चा का विषय बना हुआ है। आइए जानते हैं इस खास परिंदे के बारें...


दरअसल, लुधियाना के रहने वाले किसान  कृपाल सिंह इस परिंदे को अपने साथ लाए हुए हैं। करीब दो महीनों से यह पक्षी कृपाल सिंह के साथ सिंघू बॉर्डर पर रह रहा है। जिसे वह अपने परिवार की सदस्य की तरह साथ रखे हुए हैं। किसानों की इस मुहिम में यह परिंदा हर वक्त साथ रहता है। कृपाल सिंह ने अपने इस पक्षी का नाम 'साहिब' रखा है। जिसकी देखरेख एक दम राजा की तरह होती है। कृपाल सिंह कहना है कि "बाज चढ़दी कला की निशानी है, वह बहुत ऊपर ऊपर उड़ता है और ऊपर से ही नीचे नजर बनाए रखता है। दिनभर तो वो आसमान में उड़ता रहता है और शाम को वह अपने डेरे पर आ जाता है। हम इसको पिंजड़े में नहीं रखते वह मेरे साथ लुधियाना से यूं ही जीप पर बैठकर चला आया।


दरअसल, लुधियाना के रहने वाले किसान  कृपाल सिंह इस परिंदे को अपने साथ लाए हुए हैं। करीब दो महीनों से यह पक्षी कृपाल सिंह के साथ सिंघू बॉर्डर पर रह रहा है। जिसे वह अपने परिवार की सदस्य की तरह साथ रखे हुए हैं। किसानों की इस मुहिम में यह परिंदा हर वक्त साथ रहता है। कृपाल सिंह ने अपने इस पक्षी का नाम 'साहिब' रखा है। जिसकी देखरेख एक दम राजा की तरह होती है। कृपाल सिंह कहना है कि "बाज चढ़दी कला की निशानी है, वह बहुत ऊपर ऊपर उड़ता है और ऊपर से ही नीचे नजर बनाए रखता है। दिनभर तो वो आसमान में उड़ता रहता है और शाम को वह अपने डेरे पर आ जाता है। हम इसको पिंजड़े में नहीं रखते वह मेरे साथ लुधियाना से यूं ही जीप पर बैठकर चला आया।

वहीं दूसरी तरफ किसानों ने अपनी टैक्ट्रर परेड को एक दम सेना की परेड की तरह बनाया हुआ है। जिस तरह भारतीय सेना अपने शक्ति और शौर्य का प्रदर्शन कर रही है। वहीं किसान भी अपने टैक्ट्रर के जरिए कई झाकियों को प्रदर्शित कर रहे हैं। उन्होंने युद्धक टैंक कैनन की प्रतिकृति बनाई है जो, जिसे अक्सर हम आर्मी में देखते हैं।

वहीं दूसरी तरफ किसानों ने अपनी टैक्ट्रर परेड को एक दम सेना की परेड की तरह बनाया हुआ है। जिस तरह भारतीय सेना अपने शक्ति और शौर्य का प्रदर्शन कर रही है। वहीं किसान भी अपने टैक्ट्रर के जरिए कई झाकियों को प्रदर्शित कर रहे हैं। उन्होंने युद्धक टैंक कैनन की प्रतिकृति बनाई है जो, जिसे अक्सर हम आर्मी में देखते हैं।


किसानों की टैक्ट्रर परेड में इस तस्वीर को देखिए जहां एक  चालक दूल्‍हा बनकर ट्रैक्‍टर में बैठा हुआ है। इसके अलावा उसने अपने साथ ही दूल्‍हन की तरह ट्रैक्‍टर को सजाया हुआ है। यह ट्रैक्टर पानीपत से आया हुआ है।


किसानों की टैक्ट्रर परेड में इस तस्वीर को देखिए जहां एक  चालक दूल्‍हा बनकर ट्रैक्‍टर में बैठा हुआ है। इसके अलावा उसने अपने साथ ही दूल्‍हन की तरह ट्रैक्‍टर को सजाया हुआ है। यह ट्रैक्टर पानीपत से आया हुआ है।


इस तस्वीर में आप देख सकते हैं कि एक किसान ने अपने ट्रैक्टर को आर्मी का टैंक बनाते हुए उसमें तोप लगा रखी है। इस परेड में ऐसा नजारा दिख रहा है जैसे भारतीय सेना अपनी कोई झांकी निकाल रही हो।
 


इस तस्वीर में आप देख सकते हैं कि एक किसान ने अपने ट्रैक्टर को आर्मी का टैंक बनाते हुए उसमें तोप लगा रखी है। इस परेड में ऐसा नजारा दिख रहा है जैसे भारतीय सेना अपनी कोई झांकी निकाल रही हो।
 


वहीं दूसरी तरह किसानों की इस ट्रैक्टर परेड मं  हिंसा की तस्वीरें भी सामने आने लगी हैं। परेड के बीच किसानों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े दिए हैं। जिसके चलते किसानों ने पुलिस के बैरिकेड हटा दिए। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर पंजाब के किसान अपनी तलवार लेकर पुलिस को मारने के लिए निकाल लिए हैं।


वहीं दूसरी तरह किसानों की इस ट्रैक्टर परेड मं  हिंसा की तस्वीरें भी सामने आने लगी हैं। परेड के बीच किसानों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े दिए हैं। जिसके चलते किसानों ने पुलिस के बैरिकेड हटा दिए। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर पंजाब के किसान अपनी तलवार लेकर पुलिस को मारने के लिए निकाल लिए हैं।


किसानों और पुलिस की झड़प के बाद किसानों और पुलिस की झड़प के बाद जगह-जगह किसान बैरिकेड तोड़ने लगे हैं। इसी बीच नोएडा के चिल्ला बॉर्डर पर स्टंट करने के दौरान एक ट्रैक्टर पलट गया। इसमें दो लोग घायल हो गए।  जगह-जगह किसान बैरिकेड तोड़ने लगे हैं। 


किसानों और पुलिस की झड़प के बाद किसानों और पुलिस की झड़प के बाद जगह-जगह किसान बैरिकेड तोड़ने लगे हैं। इसी बीच नोएडा के चिल्ला बॉर्डर पर स्टंट करने के दौरान एक ट्रैक्टर पलट गया। इसमें दो लोग घायल हो गए।  जगह-जगह किसान बैरिकेड तोड़ने लगे हैं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios