Asianet News Hindi

राजस्थान उपचुनाव: कोरोना के खौफ के बीच जबरदस्त उत्साह, 12 बजे तक 30% वोटिंग..मास्क-ग्लब्स के साथ एंट्री

First Published Apr 17, 2021, 1:12 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp



जयपुर, बढ़ते कोरोना के रिकॉर्ड तोड़ मामलों से राजस्थान की हालत बिगड़ती जा रही है। गहलोत सरकार ने संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए  पूरे प्रदेश में वीकेंड कर्फ्यू  लगा दिया है। जिसमें सभी पाबंदियां लॉकडाउन जैसी ही हैं। वहीं इसी बीच राज्य की तीन विधानसभा सीट पर उपचुनाव की वोटिंग हुई। मतदाता कोरोना के कहर के बीच वोट डालने पहुंचे। 7 बजे से शुरू हुए मतदान में शाम पांच बजे तक 60.91 प्रतिशत वोट पड़े हैं।


इन तीन सीटों पर चला मतदान
दरअसल, प्रदेश की सहाड़ा, सुजानगढ़ और राजसमंद विधानसभाओं में अचानक विधायकों के निधन के बाद यह सीटें खाली हो गई थीं। जिन पर आज उपचुनाव के लिए मतदान हुआ। निर्वाचन आयोग ने कोरोना को देखते हुए मतदाताओं को ज्यादा समय मतदान के लिए दिया था। जिससे वह कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए मतदान करें।


इन तीन सीटों पर चला मतदान
दरअसल, प्रदेश की सहाड़ा, सुजानगढ़ और राजसमंद विधानसभाओं में अचानक विधायकों के निधन के बाद यह सीटें खाली हो गई थीं। जिन पर आज उपचुनाव के लिए मतदान हुआ। निर्वाचन आयोग ने कोरोना को देखते हुए मतदाताओं को ज्यादा समय मतदान के लिए दिया था। जिससे वह कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए मतदान करें।


कोरोना के खौफ में लगी लंबी कतारें
मतदाताओं में महामारी का खौफ होने के बाद भी खासा उत्साह देखा गया। वह हाथों में सैनेटाइजर की बोतल और मास्क लगाकर लोकतंत्र के इस पर्व में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते नजर आए। हालांकि उनके मन में कहीं ना कहीं कोरोना को लेकर डर भी था। लेकिन इसके बावजूद भी वो वोट डालने निकले। भीषण गर्मी होते हुए भी मतदान केंद्रों के बाहर लंबीं लाइने देखने को मिलीं।


कोरोना के खौफ में लगी लंबी कतारें
मतदाताओं में महामारी का खौफ होने के बाद भी खासा उत्साह देखा गया। वह हाथों में सैनेटाइजर की बोतल और मास्क लगाकर लोकतंत्र के इस पर्व में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते नजर आए। हालांकि उनके मन में कहीं ना कहीं कोरोना को लेकर डर भी था। लेकिन इसके बावजूद भी वो वोट डालने निकले। भीषण गर्मी होते हुए भी मतदान केंद्रों के बाहर लंबीं लाइने देखने को मिलीं।

3 सीट पर कई नेताओं की साख दांव पर
बता दें कि बढ़ते कोरोना के बीच भाजपा और कांग्रेस ने प्रचार प्रसार में कोई कसर नहीं छोड़ी है। दोनों ही पार्टियों के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिल रहा है। एक तरफ सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस को लग रहा है वह यह चुनाव जीत ही लेगी। वहीं विपक्षी पार्टी बीजेपी गहलोत सरकार का किला हिलाने की कोशिश में लगी हुई है। इन तीन सीटों के चुनाव पर कई नेताओं की साख दांप पर लगी हुई  है।

3 सीट पर कई नेताओं की साख दांव पर
बता दें कि बढ़ते कोरोना के बीच भाजपा और कांग्रेस ने प्रचार प्रसार में कोई कसर नहीं छोड़ी है। दोनों ही पार्टियों के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिल रहा है। एक तरफ सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस को लग रहा है वह यह चुनाव जीत ही लेगी। वहीं विपक्षी पार्टी बीजेपी गहलोत सरकार का किला हिलाने की कोशिश में लगी हुई है। इन तीन सीटों के चुनाव पर कई नेताओं की साख दांप पर लगी हुई  है।

कोरोना प्रोटोकॉल का हो रहा पालन 
चुनाव आयोग ने कोरोना को देखते हुए सभी मतदान केंद्रों पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर रहा है। हर पोलिंग बूथ पर हर वोटर की थर्मल स्केनर से टेम्परेचर जांच की जाती है, इसके बाद वह अपना मतदान करता है। बिना मास्क के किसी भी व्यक्ति को मतदान केंद्र में जाने की एंट्री नहीं है। इतना ही नहीं बाहर कर्मचारी मतदाताओं को ग्लब्ज देते हैं, इसके बाद वह वोट डाल रहे हैं। साथ ही सभी मतदान केंद्रों को सैनिटाइज किया गया है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो इसके लिए राज्य की पुलिस पोलिंग बूथ पर मुस्तैदी से तैनात है।

कोरोना प्रोटोकॉल का हो रहा पालन 
चुनाव आयोग ने कोरोना को देखते हुए सभी मतदान केंद्रों पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर रहा है। हर पोलिंग बूथ पर हर वोटर की थर्मल स्केनर से टेम्परेचर जांच की जाती है, इसके बाद वह अपना मतदान करता है। बिना मास्क के किसी भी व्यक्ति को मतदान केंद्र में जाने की एंट्री नहीं है। इतना ही नहीं बाहर कर्मचारी मतदाताओं को ग्लब्ज देते हैं, इसके बाद वह वोट डाल रहे हैं। साथ ही सभी मतदान केंद्रों को सैनिटाइज किया गया है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो इसके लिए राज्य की पुलिस पोलिंग बूथ पर मुस्तैदी से तैनात है।

अधिकारी तोड़ रहे नियम 
राजधानी जयपुर कंट्रोल रूम में बैठे निर्वाचन अधिकारी यहीं से सीसीटीवी के जरिए नजर रख रहे हैं। कहीं कोई  कोरोना गाइडलाइन को तो नहीं तोड़ रहा। जबकि यह अधिकारी खुद मास्क सही तरीके लगाकर नहीं बैठे हैं।

अधिकारी तोड़ रहे नियम 
राजधानी जयपुर कंट्रोल रूम में बैठे निर्वाचन अधिकारी यहीं से सीसीटीवी के जरिए नजर रख रहे हैं। कहीं कोई  कोरोना गाइडलाइन को तो नहीं तोड़ रहा। जबकि यह अधिकारी खुद मास्क सही तरीके लगाकर नहीं बैठे हैं।


तस्वीर में देख सकते हैं कि किस तरह से सबसे पहले मतदाता को सैनिटाइज किया जाता है। इसके बाद उसकी जांच होती है, फिर कहीं जाकर  वह वोट डाल पाता है।
 


तस्वीर में देख सकते हैं कि किस तरह से सबसे पहले मतदाता को सैनिटाइज किया जाता है। इसके बाद उसकी जांच होती है, फिर कहीं जाकर  वह वोट डाल पाता है।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios