Asianet News Hindi

कोरोना से डरिए: धूमधाम से शादी-ना मास्क और ना सोशल डिस्टेसिंग...नतीजा वायरस ने ले ली दूल्हे की जान

First Published May 11, 2021, 5:44 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

जालोर (राजस्थान). कोरोना की दूसरी लहर कहर बरपा रही है, जिसकी चपेट में आने से हाजरों की जिंदगियां रोजाना खत्म हो रही हैं। सबकुछ जानने के बावजूद भी कुछ लोग इसे हल्के में लेते हुए लापरवाही बरत रहे हैं। ऐसा ही एक दुखद घटना राजस्थान के जालोर से सामने आई है, जहां कोविड गाइडलाइन को ताक पर रखते हुए शादी की गई। परिणाम यह हुआ विवाह के दूसरे दिन ही दूल्हा संक्रमित हो गया और एक सप्ताह के अंदर उसकी मौत हो गई।

दरअसल,  30 अप्रैल को जालौर जिले के बैरठ गांव के रहने वाले  शैतान सिंह शादी कृष्णा कंवर के साथ हुई थी। 1 मई को बारात विदा होने के बाद घर पहुंचते ही गृह प्रवेश की रस्म निभाई गईं। लेकिन शाम होते ही दू्ल्हे की तबीतयत बिगड़ने लगी। आलम यह हो गया कि आनन-फानन में अस्पताल ले जाना पड़ा।
 

दरअसल,  30 अप्रैल को जालौर जिले के बैरठ गांव के रहने वाले  शैतान सिंह शादी कृष्णा कंवर के साथ हुई थी। 1 मई को बारात विदा होने के बाद घर पहुंचते ही गृह प्रवेश की रस्म निभाई गईं। लेकिन शाम होते ही दू्ल्हे की तबीतयत बिगड़ने लगी। आलम यह हो गया कि आनन-फानन में अस्पताल ले जाना पड़ा।
 

दूल्हा शैतान सिंह की जब जांच कराई तो वह कोरोना पॉजिटिव निकला। दूल्हे की तबीयत बिगड़ी तो  जालोर अस्पताल से सिरोही और फिर पालनपुर अस्पताल में भर्ती किया गया। लेकिन यहां भी हालत में सुधार नहीं हुआ। शुगर लेवल 600 के करीब पहुंच गया और ऑक्सीजन लेवल भी कम होता गया।
 

दूल्हा शैतान सिंह की जब जांच कराई तो वह कोरोना पॉजिटिव निकला। दूल्हे की तबीयत बिगड़ी तो  जालोर अस्पताल से सिरोही और फिर पालनपुर अस्पताल में भर्ती किया गया। लेकिन यहां भी हालत में सुधार नहीं हुआ। शुगर लेवल 600 के करीब पहुंच गया और ऑक्सीजन लेवल भी कम होता गया।
 

एक सप्ताह के बाद भी शैतान सिंह की तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ। तबीयत भी बिगड़ती चली गई कोई दवा और कुई दुआ काम नहीं आई। क्योंकि शायद विधाता को कुछ और ही मंजूर था। 9 मई रविवार की शाम वो जिंदगी की जंग हार गया और अस्पताल में दम तोड़ दिया।

एक सप्ताह के बाद भी शैतान सिंह की तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ। तबीयत भी बिगड़ती चली गई कोई दवा और कुई दुआ काम नहीं आई। क्योंकि शायद विधाता को कुछ और ही मंजूर था। 9 मई रविवार की शाम वो जिंदगी की जंग हार गया और अस्पताल में दम तोड़ दिया।

शादी के 9 दिन बाद ही एक दुल्हन विधवा हो गई। जिस लड़की की हाथों की मेहंदी भी नहीं छूटी थी कि उसका सुहाग उजड़ गया। उसने अभी अपनी जिंदगी के हसीन देखना शूरू हुए किए थे कि कोरोना ने सारे सपनों को तोड़ दिया। जहां खुशियां मन रहीं थी अब वहां मातम पसरा हुआ है।
 

शादी के 9 दिन बाद ही एक दुल्हन विधवा हो गई। जिस लड़की की हाथों की मेहंदी भी नहीं छूटी थी कि उसका सुहाग उजड़ गया। उसने अभी अपनी जिंदगी के हसीन देखना शूरू हुए किए थे कि कोरोना ने सारे सपनों को तोड़ दिया। जहां खुशियां मन रहीं थी अब वहां मातम पसरा हुआ है।
 

बताया जाता है कि शैतान सिंह और कृष्णा कंवर की शादी में कोरोना गाइड लाइन का पालन दूर-दूर तक नहीं किया गया था। बड़ी संख्या में मेहमानों को बुलाया गया। ना तो किसी ने मास्क लगाया और ना ही किसी ने सोशल डिस्टेंसिंग जैसी गाइड लाइन का पालन किया। सामान्य दिनों की तरह यह विवाह संपन्न कराया।

बताया जाता है कि शैतान सिंह और कृष्णा कंवर की शादी में कोरोना गाइड लाइन का पालन दूर-दूर तक नहीं किया गया था। बड़ी संख्या में मेहमानों को बुलाया गया। ना तो किसी ने मास्क लगाया और ना ही किसी ने सोशल डिस्टेंसिंग जैसी गाइड लाइन का पालन किया। सामान्य दिनों की तरह यह विवाह संपन्न कराया।

ऐसी ही एक दुखद घटना राजस्थान के ही डूंगरपुर ​जिले में 25 अप्रैल को घटी थी। जहां गांव रातड़िया की रहने वाली लक्ष्मी की शादी रूपलाल के साथ हुई थी। दो दिन बाद ही दूल्हे की अचानक तबीयत खराब हो गई। सांस लेने में तकलीफ होने के बाद कोरोना जांच करवाई तो वह पॉजिटिव निकला। होम आइसोलेशन के दौरान शादी के 9 दिन बाद ही रूपलाल की मौत हो गई।
 

ऐसी ही एक दुखद घटना राजस्थान के ही डूंगरपुर ​जिले में 25 अप्रैल को घटी थी। जहां गांव रातड़िया की रहने वाली लक्ष्मी की शादी रूपलाल के साथ हुई थी। दो दिन बाद ही दूल्हे की अचानक तबीयत खराब हो गई। सांस लेने में तकलीफ होने के बाद कोरोना जांच करवाई तो वह पॉजिटिव निकला। होम आइसोलेशन के दौरान शादी के 9 दिन बाद ही रूपलाल की मौत हो गई।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios