Asianet News Hindi

सांप को देखते ही दोस्ती कर लेती है ये लेडी कांस्टेबल, इशारों पर नाचने लगते हैं जहरीले नाग..

First Published Oct 2, 2020, 6:14 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

सीकर( राजस्थान). सांप का नाम सुनते ही, सभी के दिल में डर बैठ जाता है, अगर सामने से दिख जाए तो बड़े-बड़ों के पसीने छूट जाते हैं। लेकिन राजस्थान में एक लेडी कांस्टेबल ऐसी हैं जो खतरनाक से खतरनाक सांप को बड़ी आसानी से चुटकियों में पकड़ लेती हैं। वह अब तक एक नहीं सैंकड़ों जहरीले सांप को पकड़ चुकी हैं। 

दरअसल, सांपों का रेस्क्यू करने वाली महिला राजस्थान के सिरोही जिले के पिंडवाड़ा इलाके की रहने वाली हैं। जिनका नाम अंजू चौहान और वह वन विभाग में एक वन रक्षक पद पर अपनी सेवाएं दे रही हैं। वह अपनी नौकरी के साथ-साथ इस काम को पूरी जिम्मेदारी के साथ निभा रही हैं। उनके इलाके में जब कभी किसी के घर में सांप निकलता है तो अंजू चौहान को ही बुलाया जाता है। 

दरअसल, सांपों का रेस्क्यू करने वाली महिला राजस्थान के सिरोही जिले के पिंडवाड़ा इलाके की रहने वाली हैं। जिनका नाम अंजू चौहान और वह वन विभाग में एक वन रक्षक पद पर अपनी सेवाएं दे रही हैं। वह अपनी नौकरी के साथ-साथ इस काम को पूरी जिम्मेदारी के साथ निभा रही हैं। उनके इलाके में जब कभी किसी के घर में सांप निकलता है तो अंजू चौहान को ही बुलाया जाता है। 

बता दें कि अंजू चौहान अपनी जान जोखिम में डालकर खतरनाक व जहरीले सांपों के साथ खेलते मिनटों में उनको पकड़ लेती हैं। इसके बाद वो इनको जंगल में जाकर फेंक आती हैं। उनका कहना है कि प्रकृति के संतुलन को बनाए रखने के लिए सांपों का भी रहना बहुत जरूरी है। इसलिए वह उनको मारने की बजाए वन में छोड़ आती हैं।

बता दें कि अंजू चौहान अपनी जान जोखिम में डालकर खतरनाक व जहरीले सांपों के साथ खेलते मिनटों में उनको पकड़ लेती हैं। इसके बाद वो इनको जंगल में जाकर फेंक आती हैं। उनका कहना है कि प्रकृति के संतुलन को बनाए रखने के लिए सांपों का भी रहना बहुत जरूरी है। इसलिए वह उनको मारने की बजाए वन में छोड़ आती हैं।


वन रक्षक अंजू चौहान पिछले पांच सालों से सांपों को पकड़ने का काम कर रही हैं। इस दौरान वह हजारों सांप को पकड़ चुकी हैं। वो करीब सभी प्रजातियों के सांपों का रेस्क्यू कर चुकी हैं। उनको किसी तरह से इनसे कोई डर नहीं लगता वह ऐसे उनको अपने हाथों में रख खेलती रहती हैं जैसे कोई खिलौने के साथ खेलता है। 


वन रक्षक अंजू चौहान पिछले पांच सालों से सांपों को पकड़ने का काम कर रही हैं। इस दौरान वह हजारों सांप को पकड़ चुकी हैं। वो करीब सभी प्रजातियों के सांपों का रेस्क्यू कर चुकी हैं। उनको किसी तरह से इनसे कोई डर नहीं लगता वह ऐसे उनको अपने हाथों में रख खेलती रहती हैं जैसे कोई खिलौने के साथ खेलता है। 


अंजू चौहान साल 2016 में वन रक्षक भर्ती हुई हैं। तभी से उनका सांपों का पकड़ने का सिलसिला जारी है। उनका कहना है कि जब वो छोटी थीं तो मम्मी कहती थीं कि इनको मारना नहीं चाहिए, उनको भी जीने का हक है। इसलिए तभी से उनके प्रति दया का भाव आया है।
 


अंजू चौहान साल 2016 में वन रक्षक भर्ती हुई हैं। तभी से उनका सांपों का पकड़ने का सिलसिला जारी है। उनका कहना है कि जब वो छोटी थीं तो मम्मी कहती थीं कि इनको मारना नहीं चाहिए, उनको भी जीने का हक है। इसलिए तभी से उनके प्रति दया का भाव आया है।
 


अंजु चौहान का कहना है कि सांपों के साथ उनका कुछ ऐसा रिश्ता हो गया है कि जहां कहीं भी सांप देखते हैं तो उनसे दोस्तों जैसा व्यवहार करने लगते हैं।


अंजु चौहान का कहना है कि सांपों के साथ उनका कुछ ऐसा रिश्ता हो गया है कि जहां कहीं भी सांप देखते हैं तो उनसे दोस्तों जैसा व्यवहार करने लगते हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios