मुकेश अंबानी की Jio को चीन के खिलाफ अमेरिका ने बनाया हथियार, ट्रम्प के दाएं हाथ ने जमकर की तारीफ

First Published 25, Jun 2020, 12:50 PM

बिजनेस डेस्क। एशिया के सबसे अमीर बिजनेसमैन और अब दुनिया के नौवें सबसे अमीर शख्स बन चुके रिलायंस इंडस्ट्रीज चेयरमैन मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो की अमेरिका के सेक्रेटरी ऑफ स्टेट माइक पोम्पियो ने जम कर प्रसंशा की है। उन्होंने रिलायंस जियो को 'क्लीन टेल्को' कहा है। माइक पोम्पियो अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दाहिने हाथ माने जाते हैं। अमेरिकी सरकार की नीतियां तय करने में पोम्पियो की प्रमुख भूमिका है। जियो को लेकर पोम्पियो के बयान को बेहद खास बताया जा रहा है। इसे अमेरिका और चीन के बीच चल रहे ट्रेड वॉर के संदर्भ में खास तौर पर देखा जा रहा है। पोम्पियो के बयान से साफ जाहिर है कि अमेरिका चीन की टेलिकॉम कंपनी हुवेई के दुनिया में बढ़ते प्रभाव को कम करना चाहता है। मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो को इसका फायदा मिल सकता है। गौरतलब है कि जियो ने 5G टेक्नोलॉजी को शुरू करने के लिए टेस्टिंग की प्रॉसेस को शुरू कर दिया है। 

<p><strong>हुवेई को टक्कर दे सकती है जियो</strong><br />
अमेरिका चीनी टेलिकॉम कंपनी हुवेई के दुनिया में बढ़ते प्रभाव को कम करना चाहता है। ऐसे समय में पोम्पियो का यह बयान काफी मायने रखता है। मुकेश अंबानी को इसका काफी फायदा मिल सकता है और भारत के साथ ही जियो की पहुंच ग्लोबल मार्केट में हो सकती है। उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के संकट भरे समय में जियो में सबसे ज्यादा निवेश हुआ है। दुनिया भर के बड़े निवेशकों ने जियो में 1.68 करोड़ रुपए का निवेश हुआ और रिलायंस इंडस्ट्रीज तय लक्ष्य से पहले ही कर्जमुक्त हो गई।<br />
 </p>

हुवेई को टक्कर दे सकती है जियो
अमेरिका चीनी टेलिकॉम कंपनी हुवेई के दुनिया में बढ़ते प्रभाव को कम करना चाहता है। ऐसे समय में पोम्पियो का यह बयान काफी मायने रखता है। मुकेश अंबानी को इसका काफी फायदा मिल सकता है और भारत के साथ ही जियो की पहुंच ग्लोबल मार्केट में हो सकती है। उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के संकट भरे समय में जियो में सबसे ज्यादा निवेश हुआ है। दुनिया भर के बड़े निवेशकों ने जियो में 1.68 करोड़ रुपए का निवेश हुआ और रिलायंस इंडस्ट्रीज तय लक्ष्य से पहले ही कर्जमुक्त हो गई।
 

<p><strong>अमेरिका ने हुवेई पर लगाया जासूसी का आरोप</strong><br />
हुवेई और ZTE टेलिकॉम कम्पोनेंट तैयार करने वाली प्रमुख चीनी कंपनियां है, जिनका कारोबार दुनिया के कई बड़े देशों में फैला हुआ है। पिछले दिनों हुवेई पर जासूसी करने का आरोप लगा कर अमेरिका ने उसे ब्लैकलिस्ट कर दिया था। अमेरिका ने भारत से भी कहा है कि वह 5 जी ट्रायल से इस कंपनी को दूर रखे।</p>

अमेरिका ने हुवेई पर लगाया जासूसी का आरोप
हुवेई और ZTE टेलिकॉम कम्पोनेंट तैयार करने वाली प्रमुख चीनी कंपनियां है, जिनका कारोबार दुनिया के कई बड़े देशों में फैला हुआ है। पिछले दिनों हुवेई पर जासूसी करने का आरोप लगा कर अमेरिका ने उसे ब्लैकलिस्ट कर दिया था। अमेरिका ने भारत से भी कहा है कि वह 5 जी ट्रायल से इस कंपनी को दूर रखे।

<p><strong>भारत के लिए अहम है पोम्पियो का बयान</strong><br />
अभी लद्दाख में चीन और भारत के सैनिकों को बीच हुई हिंसक झड़प के बाद देश में चीन के खिलाफ गुस्सा भड़का हुआ है। चीनी सामानों के बहिष्कार की मांग उठ रही है। भारत सरकार चीन से हुए कई अहम व्यापारिक और निर्माण समझौतों को रद्द कर रही है। ऐसे समय में, पोम्पियो का जियो को लेकर आया बयान काफी मायने रखता है। </p>

भारत के लिए अहम है पोम्पियो का बयान
अभी लद्दाख में चीन और भारत के सैनिकों को बीच हुई हिंसक झड़प के बाद देश में चीन के खिलाफ गुस्सा भड़का हुआ है। चीनी सामानों के बहिष्कार की मांग उठ रही है। भारत सरकार चीन से हुए कई अहम व्यापारिक और निर्माण समझौतों को रद्द कर रही है। ऐसे समय में, पोम्पियो का जियो को लेकर आया बयान काफी मायने रखता है। 

<p><strong>पोम्पियो के बयान से बढ़ा जियो का कद</strong><br />
पोम्पियो का बयान आने के बाद जियो का कद बढ़ा है। इसे भारत की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी तो माना ही जा रहा है, यह दुनिया की बड़ी टेलिकॉम कंपनियों नोकिया, हुवेई, क्वॉलकॉम, वेरिजॉन और AT&T की लीग में शामिल हो गई है। </p>

पोम्पियो के बयान से बढ़ा जियो का कद
पोम्पियो का बयान आने के बाद जियो का कद बढ़ा है। इसे भारत की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी तो माना ही जा रहा है, यह दुनिया की बड़ी टेलिकॉम कंपनियों नोकिया, हुवेई, क्वॉलकॉम, वेरिजॉन और AT&T की लीग में शामिल हो गई है। 

<p><strong>जियो में नहीं होता चीनी कम्पोनेंट का इस्तेमाल</strong><br />
मुकेश अंबानी का कहना है कि रिलायंस जियो चीन से कुछ भी नहीं लेता। मोबाइल और स्मार्टफोन के बिजनेस में भारत ही नहीं, दुनिया के तमाम बड़े देशों को चीन से सामान लेना पड़ता है, लेकिन अंबानी ने दावा किया कि उन्होंने जियो का कोई कम्पोनेंट चीन से नहीं लिया।</p>

जियो में नहीं होता चीनी कम्पोनेंट का इस्तेमाल
मुकेश अंबानी का कहना है कि रिलायंस जियो चीन से कुछ भी नहीं लेता। मोबाइल और स्मार्टफोन के बिजनेस में भारत ही नहीं, दुनिया के तमाम बड़े देशों को चीन से सामान लेना पड़ता है, लेकिन अंबानी ने दावा किया कि उन्होंने जियो का कोई कम्पोनेंट चीन से नहीं लिया।

<p><strong>कम हो रहा हुवेई का असर</strong><br />
पोम्पियो ने कहा है कि हुवेई पूरी दुनिया के टेलिकॉम ऑपरेटर्स के साथ मिल कर काम करता है, लेकिन अब उसका प्रभाव कम होता जा रहा है। कंपनियां 5G नेटवर्क की शुरुआत करने के लिए सिर्फ विश्वसनीय कंपनियों की सर्विस ले रही हैं। उन्होंने इस संदर्भ में चेक रिपब्लिक, डेनमार्क, स्वीडन और कुछ दूसरे देशों का उदाहरण दिया।</p>

कम हो रहा हुवेई का असर
पोम्पियो ने कहा है कि हुवेई पूरी दुनिया के टेलिकॉम ऑपरेटर्स के साथ मिल कर काम करता है, लेकिन अब उसका प्रभाव कम होता जा रहा है। कंपनियां 5G नेटवर्क की शुरुआत करने के लिए सिर्फ विश्वसनीय कंपनियों की सर्विस ले रही हैं। उन्होंने इस संदर्भ में चेक रिपब्लिक, डेनमार्क, स्वीडन और कुछ दूसरे देशों का उदाहरण दिया।

<p><strong>डोनाल्ड ट्रम्प से मुलाकात में कही ये बात</strong><br />
मुकेश अंबानी ने जब अमेरिकी राष्ट्पति डोनाल्ड ट्रम्प से मुलाकात की थी, तो उन्होंने जियो में 5G नेटवर्क के बारे में सवाल किया था। मुकेश अंबानी ने तब ट्रम्प से कहा था कि इस दिशा में काम हो रहा है। साथ ही, उन्होंने यह भी कहा था कि रिलायंस जियो दुनिया की पहली ऐसी कंपनी है, जिसमें चीन के किसी कम्पोनेंट का इस्तेमाल नहीं हुआ है।</p>

डोनाल्ड ट्रम्प से मुलाकात में कही ये बात
मुकेश अंबानी ने जब अमेरिकी राष्ट्पति डोनाल्ड ट्रम्प से मुलाकात की थी, तो उन्होंने जियो में 5G नेटवर्क के बारे में सवाल किया था। मुकेश अंबानी ने तब ट्रम्प से कहा था कि इस दिशा में काम हो रहा है। साथ ही, उन्होंने यह भी कहा था कि रिलायंस जियो दुनिया की पहली ऐसी कंपनी है, जिसमें चीन के किसी कम्पोनेंट का इस्तेमाल नहीं हुआ है।

<p><strong>इन देशों ने भी रखा है चीनी कंपनियों को दूर</strong><br />
रिलायंस जियो ने चीनी कंपनियों को दूर तो रखा ही है, दुनिया के कुछ और देशों ने अपने 5G प्रोजेक्ट से चीनी कंपनियों को अलग रखा है। इनमें जापान, ताइवान, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका जैसे देश शामिल हैं।   <br />
  </p>

इन देशों ने भी रखा है चीनी कंपनियों को दूर
रिलायंस जियो ने चीनी कंपनियों को दूर तो रखा ही है, दुनिया के कुछ और देशों ने अपने 5G प्रोजेक्ट से चीनी कंपनियों को अलग रखा है। इनमें जापान, ताइवान, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका जैसे देश शामिल हैं।   
  

loader