Asianet News Hindi

अयोध्या में 13000 वर्ग मीटर में बनेगा भव्य राम मंदिर, विकास प्राधिकरण ने पास किया नक्शा

First Published Sep 2, 2020, 2:54 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अयोध्या(Uttar Pradesh).  सैकड़ों साल से बहुप्रतीक्षित अयोध्या के राम मंदिर निर्माण की तैयारियां जोरों पर हैं। श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट मंदिर निर्माण की तैयारियों में लगा हुआ है। मंगलवार को अयोध्या विकास प्राधिकरण से राम मंदिर के नक्शे को मंजूरी मिल गई। राम मंदिर के लिए जिस नक्शे को मंजूरी मिली है उसके तहत 274110 वर्ग मीटर के ओपन एरिया और 13000 वर्ग मीटर के कवर्ड एरिया में मंदिर निर्माण होगा। 

बोर्ड के अध्यक्ष कमिश्नर एमपी अग्रवाल की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में 274110 वर्ग मीटर के ओपन एरिया और लगभग 13000 वर्ग मीटर के कवर्ड एरिया का नक्शा पास हो गया है। 

बोर्ड के अध्यक्ष कमिश्नर एमपी अग्रवाल की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में 274110 वर्ग मीटर के ओपन एरिया और लगभग 13000 वर्ग मीटर के कवर्ड एरिया का नक्शा पास हो गया है। 

13000 कवर्ड एरिया में ही राम मंदिर बनेगा। फिलहाल डबल एमेंट शुल्क का कैलकुलेशन किया जा रहा है।

13000 कवर्ड एरिया में ही राम मंदिर बनेगा। फिलहाल डबल एमेंट शुल्क का कैलकुलेशन किया जा रहा है।

ट्रस्ट को विकास शुल्क के साथ-साथ अनुरक्षण शुल्क पर्यवेक्षण व लेबर सेस भी देना होगा। लगभग पांच करोड़ रुपए विकास शुल्क व अन्य शुल्क आने की उम्मीद है। इसमें निर्माण पर लगने वाला श्रमिक सेस भी शामिल है।

ट्रस्ट को विकास शुल्क के साथ-साथ अनुरक्षण शुल्क पर्यवेक्षण व लेबर सेस भी देना होगा। लगभग पांच करोड़ रुपए विकास शुल्क व अन्य शुल्क आने की उम्मीद है। इसमें निर्माण पर लगने वाला श्रमिक सेस भी शामिल है।

ट्रस्ट की तरफ से जमा की जाने वाली यह शुल्क आयकर छूट के बाद की है। बोर्ड से मानचित्र की मंजूरी के बाद प्राधिकरण शुल्क जमा करने के लिए ट्रस्ट को पत्र जारी करेगा। 
 

ट्रस्ट की तरफ से जमा की जाने वाली यह शुल्क आयकर छूट के बाद की है। बोर्ड से मानचित्र की मंजूरी के बाद प्राधिकरण शुल्क जमा करने के लिए ट्रस्ट को पत्र जारी करेगा। 
 

बोर्ड से मानचित्र की मंजूरी के बाद अब  ट्रस्ट प्राधिकरण शुल्क की धनराशि जमा करेगा। धनराशि जमा होने के बाद ही प्राधिकरण स्वीकृत नक्शा ट्रस्ट को सौंपेगा।
 

बोर्ड से मानचित्र की मंजूरी के बाद अब  ट्रस्ट प्राधिकरण शुल्क की धनराशि जमा करेगा। धनराशि जमा होने के बाद ही प्राधिकरण स्वीकृत नक्शा ट्रस्ट को सौंपेगा।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios