औरेया हादसाः 18 मई को शादी की सालगिरह मनाने आ रहा था युवक, पिता ने बहू से कहा- घर लाने जा रहा हूं बेटा

First Published 16, May 2020, 5:50 PM

भदोही (Uttar Pradesh)। औरेया में हुए भीषण सड़क हादसे में आज 24 लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में भदोही का मुकेश भी शामिल है। वह जयपुर में फर्नीचर का काम करता था और 18 मई को पहली शादी की सालगिरह मनाने घर आ रहा था। वहीं, हादसे की खबर सुनकर घर में कोहराम मचा हुआ है। पिता श्रीधर विश्वकर्मा ने बहू से फोन कर कहा है कि वो मुकेश को लेने जा रहे हैं। 
 

<p><br />
हादसे में जान गंवाने वाले मुकेश विश्वकर्मा भदोही के औराई थाने के उगापुर डीह का रहने वाला है। 18 मई 2019 को उसकी शादी वाराणासी शहर से 22 किमी दूर हमीरपुर निवासी पूनम से हुई थी।&nbsp;</p>


हादसे में जान गंवाने वाले मुकेश विश्वकर्मा भदोही के औराई थाने के उगापुर डीह का रहने वाला है। 18 मई 2019 को उसकी शादी वाराणासी शहर से 22 किमी दूर हमीरपुर निवासी पूनम से हुई थी। 

<p>तीन माह पहले वह जयपुर गया था। वहां वह अपने परिवार के सुनील विश्वकर्मा के साथ फर्नीचर बनाने का काम करता था। लॉकडाउन में काम बंद होने के बाद जब गुजारा करना मुश्किल हो गया।</p>

तीन माह पहले वह जयपुर गया था। वहां वह अपने परिवार के सुनील विश्वकर्मा के साथ फर्नीचर बनाने का काम करता था। लॉकडाउन में काम बंद होने के बाद जब गुजारा करना मुश्किल हो गया।

<p><br />
अपनी मां से खाते में पैसे मंगाया और दोनों ट्रक से घर आ रहा था। जिस ट्रक से वो वापसी कर रहे थे, वह औरैया में दुर्घटना की शिकार हो गई। और उसमें 24 लोग काल के गाल में समा गए। मृतकों में मुकेश भी शामिल है, जबकि परिवार के ही सुनील का पैर टूट गया है।<br />
&nbsp;</p>


अपनी मां से खाते में पैसे मंगाया और दोनों ट्रक से घर आ रहा था। जिस ट्रक से वो वापसी कर रहे थे, वह औरैया में दुर्घटना की शिकार हो गई। और उसमें 24 लोग काल के गाल में समा गए। मृतकों में मुकेश भी शामिल है, जबकि परिवार के ही सुनील का पैर टूट गया है।
 

<p><br />
मां ने कहा, शाम को मुकेश ने फोन किया था कि पापा हम यूपी का बॉर्डर पार कर गए हैं। ट्रक में बैठ गए हैं। भोर में फोन आया किसी साथी का, जिसने बताया कि ट्रक पलट गई है और मुकेश का पता नहीं चल रहा है। मां रोते हुए इतना ही कह रही है कि मेरे भईया की कोई खबर नहीं है।&nbsp;</p>


मां ने कहा, शाम को मुकेश ने फोन किया था कि पापा हम यूपी का बॉर्डर पार कर गए हैं। ट्रक में बैठ गए हैं। भोर में फोन आया किसी साथी का, जिसने बताया कि ट्रक पलट गई है और मुकेश का पता नहीं चल रहा है। मां रोते हुए इतना ही कह रही है कि मेरे भईया की कोई खबर नहीं है। 

undefined

<p>मृतक मुकेश की मां उर्मिला अपने बेटे की मौत का समाचार सुनकर बेसुध हो गईं। रोते हुए वह सिर्फ इतना ही कह रही हैं, मुझे मेरा लाल वापस दे दो। सरकार से मदद की बात पर वो कहने लगी आप से अब क्या मांगे, हमको हमारा लाल दे दे बस और कुछ नहीं चाहिए। मुकेश के पिता श्रीधर विश्वकर्मा ने बताया, वो बेटे को लेने निकल गए हैं।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

मृतक मुकेश की मां उर्मिला अपने बेटे की मौत का समाचार सुनकर बेसुध हो गईं। रोते हुए वह सिर्फ इतना ही कह रही हैं, मुझे मेरा लाल वापस दे दो। सरकार से मदद की बात पर वो कहने लगी आप से अब क्या मांगे, हमको हमारा लाल दे दे बस और कुछ नहीं चाहिए। मुकेश के पिता श्रीधर विश्वकर्मा ने बताया, वो बेटे को लेने निकल गए हैं। 
 

loader