ऐसी होगी रामलला नगरी की सुरक्षा, 4 को ही आएंगे मेहमान, एक दिन पहले से सील रहेंगी सीमाएं

First Published 2, Aug 2020, 10:17 AM

अयोध्या (Uttar Pradesh) । अयोध्या में पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आ रहे हैं। वो राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करेंगे। इस कार्यक्रम को देखते हुए पूरे जिले को अभेद्य किले में तब्दील कर दिया गया है। चप्पे-चप्पे पर निगरानी की जा रही है। इतना ही नहीं भूमि पूजन वाले दिन एक साथ पांच लोग इकट्ठे नहीं होंगे। एक दिन पहले ही अयोध्या की सीमाएं सील कर दी जाएगी। यानी जितने भी आमंत्रित मेहमान होंगे वे चार अगस्त को ही अयोध्या पहुंच जाएंगे।

<p><br />
मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव गृह, डीजीपी सहित अन्य अधिकारियों ने शनिवार को अयोध्या का दौरा कर रामजन्मभूमि सहित पूरी अयोध्या की सुरक्षा का ब्लू प्रिंट तैयार कर लिया।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>


मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव गृह, डीजीपी सहित अन्य अधिकारियों ने शनिवार को अयोध्या का दौरा कर रामजन्मभूमि सहित पूरी अयोध्या की सुरक्षा का ब्लू प्रिंट तैयार कर लिया। 
 

<p><br />
सबसे पहला प्रोटोकॉल कोरोना वायरस को लेकर है, जिस पर प्रशासन का पूरा फोकस है। कोविड प्रोटोकॉल के तहत अयोध्या में 5 अगस्त को एक साथ एक जगह 5 लोगों से ज्यादा को जुटने नहीं दिया जाएगा।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>


सबसे पहला प्रोटोकॉल कोरोना वायरस को लेकर है, जिस पर प्रशासन का पूरा फोकस है। कोविड प्रोटोकॉल के तहत अयोध्या में 5 अगस्त को एक साथ एक जगह 5 लोगों से ज्यादा को जुटने नहीं दिया जाएगा। 
 

<p>डीआईजी/एसएसपी दीपक कुमार ने मुताबिक प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर तमाम एजेंसियों के साथ बैठक हुई है, पूरी तैयारी है, सुरक्षा के सभी मानक पूरे किए जा रहे हैं। &nbsp;चाहे मेहमान हों, वीवीआईपी हों या फिर आम अयोध्यावासी सभी को पूरी सुरक्षा दी जाएगी।<br />
&nbsp;</p>

डीआईजी/एसएसपी दीपक कुमार ने मुताबिक प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर तमाम एजेंसियों के साथ बैठक हुई है, पूरी तैयारी है, सुरक्षा के सभी मानक पूरे किए जा रहे हैं।  चाहे मेहमान हों, वीवीआईपी हों या फिर आम अयोध्यावासी सभी को पूरी सुरक्षा दी जाएगी।
 

<p><br />
डीआईजी/एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक भूमि पूजन के मुख्य कार्यक्रम की पूर्व संध्या से ही अयोध्या और फैजाबाद शहर की सभी सीमाएं सील कर दी जाएंगी। किसी को भी प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।<br />
&nbsp;</p>


डीआईजी/एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक भूमि पूजन के मुख्य कार्यक्रम की पूर्व संध्या से ही अयोध्या और फैजाबाद शहर की सभी सीमाएं सील कर दी जाएंगी। किसी को भी प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।
 

<p><br />
बता दें कि रामलला के मंदिर निर्माण के लिए करीब 200 लोगों को आमंत्रण भेजा गया है, जिसके नामों की लिस्ट प्रधानमंत्री कार्यालय को पहले से ही उपलब्ध करा दी गई है।</p>


बता दें कि रामलला के मंदिर निर्माण के लिए करीब 200 लोगों को आमंत्रण भेजा गया है, जिसके नामों की लिस्ट प्रधानमंत्री कार्यालय को पहले से ही उपलब्ध करा दी गई है।

loader