Asianet News Hindi

मां के साथ रेप फिर हत्या..भयानक पल को याद कर कांप जाता है बेटा, बोला-मम्मी के साथ जो हुआ वो किसी के साथ ना हो

First Published Jan 7, 2021, 3:30 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बदायूं ( Uttar Pradesh) । आंगनबाड़ी सहायिका के गैंगरेप के बाद उसकी हत्या कर घर के बाह शव फेंके जाने का मामला तूल पकड़ लिया है। मामले का मुख्य आरोपी पुजारी सत्यनारायण दास पुलिस की लापरवाही के कारण भाग निकला। हालांकि उसे पकड़ने के लिए सरकार ने 50 हजार का ईनाम घोषित किया है। वहीं, दूसरी ओर पीड़ित परिवार में कोहराम मचा हुआ है। मृतका की बेटी और बेटा घटना क्रम को याद कर कांप जा रहे हैं। वे बताते हैं डर लग रहा है। हम, बस आरोपियों को जिंदा नही देखना चाहते हैं। लेकिन, हमें निर्भया केस की तरह कोर्ट कचहरी और मुकदमे बाजी में न फंसाया जाए।

बताते चले कि आज राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी देवी बदायूं पहुंचीं। उन्होंने पहले एसएसपी के साथ बैठक कर पूरे मामले की जानकारी ली, उसके बाद पीड़िता के परिवार से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुरू से ऐसी घटनाओं के सख्त खिलाफ हैं। हमें विश्वास है कि दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। 
 

बताते चले कि आज राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी देवी बदायूं पहुंचीं। उन्होंने पहले एसएसपी के साथ बैठक कर पूरे मामले की जानकारी ली, उसके बाद पीड़िता के परिवार से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुरू से ऐसी घटनाओं के सख्त खिलाफ हैं। हमें विश्वास है कि दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। 
 

परिजनों के मुताबिक आंगनबाड़ी सहायिका पर परिवार की बहुत बड़ी जिम्मेदारी थी। वो अपने चार बीघा खेत को साहूकार के यहां गिरवी रख कर लड़कियों की शादी की थी और घर बनवाई थी। 

परिजनों के मुताबिक आंगनबाड़ी सहायिका पर परिवार की बहुत बड़ी जिम्मेदारी थी। वो अपने चार बीघा खेत को साहूकार के यहां गिरवी रख कर लड़कियों की शादी की थी और घर बनवाई थी। 

परिवार में मृतका के पति, एक बेटा 4 बेटियां है। इनमें से दो बेटियों की शादी हो चुकी है। जबकि, दो छोटी बेटियां और बेटा पढ़ाई कर रहे हैं। दोनों मिलाकर 5 से 6 हजार की आमदनी हो जाती थी। इस समय पति बीमार है तो उनके इलाज का खर्च भी वही उठाती थी। 

परिवार में मृतका के पति, एक बेटा 4 बेटियां है। इनमें से दो बेटियों की शादी हो चुकी है। जबकि, दो छोटी बेटियां और बेटा पढ़ाई कर रहे हैं। दोनों मिलाकर 5 से 6 हजार की आमदनी हो जाती थी। इस समय पति बीमार है तो उनके इलाज का खर्च भी वही उठाती थी। 

बेटा इंटरमीडिएट की परीक्षा पास कर ग्रेजुएशन में एडमिशन लिया है। मां हम भाई-बहनों को खूब पढ़ाना चाहती थी, ताकि घर की गरीबी को हम दूर कर सके। वह चाहती कि मैं पढ़-लिखकर सरकारी अफसर या कोई सरकारी नौकरी कर लूं।

बेटा इंटरमीडिएट की परीक्षा पास कर ग्रेजुएशन में एडमिशन लिया है। मां हम भाई-बहनों को खूब पढ़ाना चाहती थी, ताकि घर की गरीबी को हम दूर कर सके। वह चाहती कि मैं पढ़-लिखकर सरकारी अफसर या कोई सरकारी नौकरी कर लूं।

बेटे ने कहा कि हम लोगों ने फोन पर पुलिस को बताया फिर थाने के भी गए, लेकिन कोई सुनने वाला नही था। पूरा थाना ही खाली था। अगर पुलिस तुरंत एक्शन लेती तो आरोपी फरार नही हो पाता। वो कहता है आरोपी पुजारी सत्यनारायण भी एक-दो बार घर आ चुका है, लेकिन कभी ऐसा नहीं लगा कि वह ऐसा करेगा। 
 

बेटे ने कहा कि हम लोगों ने फोन पर पुलिस को बताया फिर थाने के भी गए, लेकिन कोई सुनने वाला नही था। पूरा थाना ही खाली था। अगर पुलिस तुरंत एक्शन लेती तो आरोपी फरार नही हो पाता। वो कहता है आरोपी पुजारी सत्यनारायण भी एक-दो बार घर आ चुका है, लेकिन कभी ऐसा नहीं लगा कि वह ऐसा करेगा। 
 

बता दें कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि महिला के साथ गैंगरेप किया गया था। इसके बाद उसके प्राइवेट पार्ट में रॉड डाली गई, जिससे अंदरूनी हिस्सा फट गया। उसकी बाईं सातवीं पसली टूटी हुई मिली और बायां फेफड़ा भी फटा हुआ था। इसके अलावा उसका बायां पैर टूटा हुआ मिला है। उसके शरीर का सारा खून बह जाने से उसकी मौत हो गई थी।
 

बता दें कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि महिला के साथ गैंगरेप किया गया था। इसके बाद उसके प्राइवेट पार्ट में रॉड डाली गई, जिससे अंदरूनी हिस्सा फट गया। उसकी बाईं सातवीं पसली टूटी हुई मिली और बायां फेफड़ा भी फटा हुआ था। इसके अलावा उसका बायां पैर टूटा हुआ मिला है। उसके शरीर का सारा खून बह जाने से उसकी मौत हो गई थी।
 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक दिन पहले ही कहा है कि बदायूं कांड की जांच एसटीएफ करेगी और मुरादनगर हादसे की जांच एसआईटी करेगी। साथ ही मुख्य आरोपी पुजारी सत्यनारायण पर 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया है। 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक दिन पहले ही कहा है कि बदायूं कांड की जांच एसटीएफ करेगी और मुरादनगर हादसे की जांच एसआईटी करेगी। साथ ही मुख्य आरोपी पुजारी सत्यनारायण पर 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया है। 

इस समय मुख्य आरोपी पुजारी सत्यनारायण दास फरार है, जबकि इस कांड के दो अन्य आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ गए हैं। वहीं, उघैती के थाना प्रभारी राघवेंद्र को सस्पेंड कर दिया गया है।
 

इस समय मुख्य आरोपी पुजारी सत्यनारायण दास फरार है, जबकि इस कांड के दो अन्य आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ गए हैं। वहीं, उघैती के थाना प्रभारी राघवेंद्र को सस्पेंड कर दिया गया है।
 

बदायूं गैंगरेप मामले में पीड़ित परिवार से मिलने के लिए रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह को पुलिस देर रात हिरासत में ले लिया था। उन्हें गेस्टहाउस में नजरबंद कर दिया गया। 16 घंटे बाद पुलिस की निगरानी में पीड़ित परिवार से मिलने की इजाजत दी गई। हालांकि इस दौरान उन्होंने ट्वीट के माध्यम से योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा। 
 

बदायूं गैंगरेप मामले में पीड़ित परिवार से मिलने के लिए रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह को पुलिस देर रात हिरासत में ले लिया था। उन्हें गेस्टहाउस में नजरबंद कर दिया गया। 16 घंटे बाद पुलिस की निगरानी में पीड़ित परिवार से मिलने की इजाजत दी गई। हालांकि इस दौरान उन्होंने ट्वीट के माध्यम से योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios