Asianet News Hindi

ये हैं CM योगी से केजरीवाल तक की मां, जो हर मुश्किल घड़ी में अपनी मांओं का आर्शीवाद लेना नहीं भूलते

First Published May 9, 2021, 12:22 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


लखनऊ/मुंबई/रांची. हर साल मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे (Mothers Day) मनाया जाता है। इस बार यह 9 मई को मनाया जा रहा है। मां एक ऐसा शब्द होता है जिसमें प्यार, साहस, प्रेरणा और कुछ करने का जज्बा जैसे शब्द शामिल होते हैं। इसलिए तो कहते हैं कि भगवान सबकी रक्षा नहीं कर सकते थे, इसलिए उन्होंने धरती पर मां को बनाया। जो अपने बच्चों की खुशी की खातिर कुछ भी कर गुजरती है। इस मदर्स डे के मौके पर आपको सीएम योगी, अरविंद केजरीवाल से लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और उद्धव ठाकरे की मां से मिलवाने जा रहे हैं।

यह दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मां गीता देवी हैं, जो कि एक हाउस वाइफ हैं। वह मूल रुप से हरियाणा की रहने वाली हैं। केजरीवाल कई बार कह चुके हैं कि वह हर रोज अपने काम की शरूआत अपनी मां के पैर छूकर करते हैं। जिसमें उनको सफलता मिलती है। चुनाव प्रचार के दौरान उनकी मां केजरीवाल को कलावा बांधकर और तिलक लगाने के साथ मिठाई खिलाकर ही घर से बाहर जाने देती थीं।

यह दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मां गीता देवी हैं, जो कि एक हाउस वाइफ हैं। वह मूल रुप से हरियाणा की रहने वाली हैं। केजरीवाल कई बार कह चुके हैं कि वह हर रोज अपने काम की शरूआत अपनी मां के पैर छूकर करते हैं। जिसमें उनको सफलता मिलती है। चुनाव प्रचार के दौरान उनकी मां केजरीवाल को कलावा बांधकर और तिलक लगाने के साथ मिठाई खिलाकर ही घर से बाहर जाने देती थीं।

यह उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की मां सावित्री देवी हैं, जो कि एक गृहिणी हैं। सीएम योगी के अलावा उनके तीन बेटे मानेंद्र सिंह, शैलेंद्र मोहन और महेंद्र सिंह हैं, जबकि तीन बेटियां पुष्पा देवी, कौशल्या और शशि देवी भी हैं। वह अपने परिवार के साथ उत्तराखंड में पौड़ी गढ़वाल का छोटा सा गांव पंचुर आम गांवों में रहती हैं।

यह उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की मां सावित्री देवी हैं, जो कि एक गृहिणी हैं। सीएम योगी के अलावा उनके तीन बेटे मानेंद्र सिंह, शैलेंद्र मोहन और महेंद्र सिंह हैं, जबकि तीन बेटियां पुष्पा देवी, कौशल्या और शशि देवी भी हैं। वह अपने परिवार के साथ उत्तराखंड में पौड़ी गढ़वाल का छोटा सा गांव पंचुर आम गांवों में रहती हैं।

यह झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मां रूपी सोरेन हैं। हेमंत सोरेन जब कभी मुश्किल घड़ी में होते हैं तो वह अपनी मां के पास आर्शीवाद लेने के लिए जरुर जाते हैं। पिछली साल उन्होंने मदर्स डे पर अपनी मां के साथ सोशल मीडिया पर एक फोटो पोस्ट करते हुए लिखा था कि संघर्ष में राह दिखाती है मां, अधिकारों के लिए लड़कर जीतना सिखाती है मां।

यह झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मां रूपी सोरेन हैं। हेमंत सोरेन जब कभी मुश्किल घड़ी में होते हैं तो वह अपनी मां के पास आर्शीवाद लेने के लिए जरुर जाते हैं। पिछली साल उन्होंने मदर्स डे पर अपनी मां के साथ सोशल मीडिया पर एक फोटो पोस्ट करते हुए लिखा था कि संघर्ष में राह दिखाती है मां, अधिकारों के लिए लड़कर जीतना सिखाती है मां।


तस्वीर में दिख रहीं यह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की मां और बाल ठाकरे की पत्नी मीना ठाकरे हैं। जो अब इस दुनिया में नहीं हैं।
 


तस्वीर में दिख रहीं यह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की मां और बाल ठाकरे की पत्नी मीना ठाकरे हैं। जो अब इस दुनिया में नहीं हैं।
 

तस्वीर में दिख रहीं यह झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा की मां साइरा मुंडा हैं। उन्होंने पिछले साल सोशल मीडिया पर मां के साथ फोटो शेयर करते हुए लिखा... मातृ देवो भव:।

तस्वीर में दिख रहीं यह झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा की मां साइरा मुंडा हैं। उन्होंने पिछले साल सोशल मीडिया पर मां के साथ फोटो शेयर करते हुए लिखा... मातृ देवो भव:।


क्यों मनाया जाता है मदर्स डे : मदर्स डे मनाने को लेकर अलग अलग धारणाएं हैं। यही वजह है कि पूरी दुनिया में इस खास दिन के लिए एक तारीख तय नहीं है। हालांकि, मुख्य तौर पर मदर्स डे मनाने की शुरुआत अमेरिका से मानी जाती है। यहां एना जार्विस ने 1912 में अपनी मां के निधन के बाद इस दिन को मनाया था। तभी से मदर्स डे की शुरुआत मानी जाती है। वहीं, बोलविया में 27 मई को स्पेन की सेना ने आजादी की लड़ाई में हिस्सा लेने वाली महिलाओं की हत्या की थी। इसी वजह से यहां मदर्स डे मनाया जाता है।  (फोटो सोशल मीडिया)


क्यों मनाया जाता है मदर्स डे : मदर्स डे मनाने को लेकर अलग अलग धारणाएं हैं। यही वजह है कि पूरी दुनिया में इस खास दिन के लिए एक तारीख तय नहीं है। हालांकि, मुख्य तौर पर मदर्स डे मनाने की शुरुआत अमेरिका से मानी जाती है। यहां एना जार्विस ने 1912 में अपनी मां के निधन के बाद इस दिन को मनाया था। तभी से मदर्स डे की शुरुआत मानी जाती है। वहीं, बोलविया में 27 मई को स्पेन की सेना ने आजादी की लड़ाई में हिस्सा लेने वाली महिलाओं की हत्या की थी। इसी वजह से यहां मदर्स डे मनाया जाता है।  (फोटो सोशल मीडिया)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios