देश का पहला राज्य बना यूपी, कोविड अस्पतालों में तैयार किया 1 लाख बेड, रोज हो रहा 10 हजार कोरोना टेस्ट

First Published 31, May 2020, 6:02 PM

लखनऊ (Uttar Pradesh) । कोरोना के खिलाफ जंग में योगी सरकार ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है। यूपी कोविड अस्पतालों में एक लाख बेड तैयार करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। सभी 75 जिलों में L1, L2 लेवल के अस्पताल पूरी तरह तैयार हैं। यही नहीं राज्य में कोरोना टेस्ट की प्रतिदिन क्षमता 10 हजार तक पहुंच गई है। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मई का अंत तक एक लाख बेड तैयार करने का निर्देश दिया था। 

<p><br />
मार्च के पहले सप्ताह में प्रतिदिन 50 टेस्ट ही हो पाते थे। अभी प्रदेश में 30 लैब काम कर रही हैं, जिसमें 24 सरकारी और 6 अन्य संस्थाओं में हैं। वहीं, सीएम योगी ने निर्देश दिया कि 15 जून तक 15000 टेस्ट और जून के अंत तक 20,000 टेस्ट प्रतिदिन की क्षमता हासिल की जाए। </p>


मार्च के पहले सप्ताह में प्रतिदिन 50 टेस्ट ही हो पाते थे। अभी प्रदेश में 30 लैब काम कर रही हैं, जिसमें 24 सरकारी और 6 अन्य संस्थाओं में हैं। वहीं, सीएम योगी ने निर्देश दिया कि 15 जून तक 15000 टेस्ट और जून के अंत तक 20,000 टेस्ट प्रतिदिन की क्षमता हासिल की जाए। 

<p><br />
कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए लेवल 3 के अस्पताल हैं। इसके लिए लेवल 3 के भी 25 अस्पताल तैयार किए गए हैं। कोरोना के सामान्य मरीजों के लिए लेवल - 1 और लेवल - 2 के अस्पताल हैं। <br />
 </p>


कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए लेवल 3 के अस्पताल हैं। इसके लिए लेवल 3 के भी 25 अस्पताल तैयार किए गए हैं। कोरोना के सामान्य मरीजों के लिए लेवल - 1 और लेवल - 2 के अस्पताल हैं। 
 

<p><br />
मार्च के पहले सप्ताह में प्रतिदिन 50 टेस्ट ही हो पाते थे। अभी प्रदेश में 30 लैब काम कर रही हैं, जिसमें 24 सरकारी और 6 अन्य संस्थाओं में हैं। वहीं, सीएम योगी ने निर्देश दिया कि 15 जून तक 15000 टेस्ट और जून के अंत तक 20,000 टेस्ट प्रतिदिन की क्षमता हासिल की जाए। </p>


मार्च के पहले सप्ताह में प्रतिदिन 50 टेस्ट ही हो पाते थे। अभी प्रदेश में 30 लैब काम कर रही हैं, जिसमें 24 सरकारी और 6 अन्य संस्थाओं में हैं। वहीं, सीएम योगी ने निर्देश दिया कि 15 जून तक 15000 टेस्ट और जून के अंत तक 20,000 टेस्ट प्रतिदिन की क्षमता हासिल की जाए। 

<p><br />
लेवल 1 के अस्पतालों में सामान्य बेड के अलावा आक्सीजन की भी व्यवस्था की गई है। <br />
 </p>


लेवल 1 के अस्पतालों में सामान्य बेड के अलावा आक्सीजन की भी व्यवस्था की गई है। 
 

<p>लेवल 2 के अस्पतालों में बेड पर आक्सीजन के साथ कुछ में वेंटिलेटर की भी व्यवस्था की गई है।</p>

लेवल 2 के अस्पतालों में बेड पर आक्सीजन के साथ कुछ में वेंटिलेटर की भी व्यवस्था की गई है।

<p>लेवल 3 के अस्पतालों में वेंटिलेटर, आईसीयू और डायलसिस की व्यवस्थाओं समेत गंभीर मरीजों के लिए हर तरह की अत्याधुनिक सुविधाएं होती हैं।</p>

लेवल 3 के अस्पतालों में वेंटिलेटर, आईसीयू और डायलसिस की व्यवस्थाओं समेत गंभीर मरीजों के लिए हर तरह की अत्याधुनिक सुविधाएं होती हैं।

loader