Asianet News Hindi

UP में तौकते तूफान का कहर: 24 घंटे से हो रही बारिश, भरभराकर गिरी छत, मां-3 बच्चों की मौत

First Published May 20, 2021, 11:20 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


शामली (उत्तर प्रदेश). अरब सागर से उठे चक्रवाती तौकते तूफान की तबाही का मंजर अब उत्तर प्रदेश में भी देखने को मिल रहा है। प्रदेश के कई जिलों में तेज हवाओं के साथ पिछले 24 घंटों से रुक-रुक कर हो रही बारिश की वजह से कई मकान गिर गए। वहीं शामली जिले में  एक मकान की छत भरभराभर कर गिर गई जिसमें एक ही परिवार के चार लोगों की मौत हो गई। इस घटना के बाद इलाके में कोहराम मच गया। मरने वालों में मां के साथ तीन बच्चे शामिल हैं।


दरअसल, तूफान का यह कहर शामली जिले के सदर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला पंसारियान में देखने को मिला। यह हादसा उस वक्त हुआ जब पूरा परिवार सोया हुआ था। मकान की छत गिरने से मलबे में पूरा परिवार दब गया। जिसमें मां और दो बेटी और एक बेटे की मौत की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं पिता और एक बेटे को पड़ोसियों ने किसी तरह जिंदा बचा लिया।
 


दरअसल, तूफान का यह कहर शामली जिले के सदर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला पंसारियान में देखने को मिला। यह हादसा उस वक्त हुआ जब पूरा परिवार सोया हुआ था। मकान की छत गिरने से मलबे में पूरा परिवार दब गया। जिसमें मां और दो बेटी और एक बेटे की मौत की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं पिता और एक बेटे को पड़ोसियों ने किसी तरह जिंदा बचा लिया।
 


पड़ोसियों ने बताया कि गुरूवार रात करीब 5 बजे का वक्त था, जब यह दर्दनाक हादसा हुआ। हम सभी लोग सो रहे थे, तभी चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनाई दी। भागकर पहुंचे तो मलबे के नीचे  दो बेटी, एक बेटा और मां मिट्टी के नीचे दबे हुए थे। सभी सदस्यों को बाहर निकाला और पास के अस्पताल लेकर जा ही रहे थे कि रास्ते में उनकी मौत हो गई।


पड़ोसियों ने बताया कि गुरूवार रात करीब 5 बजे का वक्त था, जब यह दर्दनाक हादसा हुआ। हम सभी लोग सो रहे थे, तभी चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनाई दी। भागकर पहुंचे तो मलबे के नीचे  दो बेटी, एक बेटा और मां मिट्टी के नीचे दबे हुए थे। सभी सदस्यों को बाहर निकाला और पास के अस्पताल लेकर जा ही रहे थे कि रास्ते में उनकी मौत हो गई।


घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव बरामद कर जांच के लिए भेजे। मरने वालों में 36 वर्ष से अफसाना (माँ), 14 वर्षीय सुहेल (पुत्र), 12 वर्षीय सानिया (पुत्री) व 10 वर्षीय इरन (पुत्री) शामिल हैं।


घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव बरामद कर जांच के लिए भेजे। मरने वालों में 36 वर्ष से अफसाना (माँ), 14 वर्षीय सुहेल (पुत्र), 12 वर्षीय सानिया (पुत्री) व 10 वर्षीय इरन (पुत्री) शामिल हैं।

 बताया जाता है कि  हादसे के पहले पिता और एक बेटा पेशाब करने के लिए बाहर निकले थे, जिसकी वजह से उनकी जान बच गई।  बता दें कि जो मकान गिरा है उसकी छत लकड़ी की कड़ियों से बनी हुई थी


 

 बताया जाता है कि  हादसे के पहले पिता और एक बेटा पेशाब करने के लिए बाहर निकले थे, जिसकी वजह से उनकी जान बच गई।  बता दें कि जो मकान गिरा है उसकी छत लकड़ी की कड़ियों से बनी हुई थी


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios