Asianet News Hindi

कौन है ये पूर्व IAS एसके शर्मा जो बन सकते हैं UP के डिप्टी CM,पीएम मोदी भी हैं जिनके मुरीद

First Published May 27, 2021, 7:34 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ (Uttar Pradesh) । बीजेपी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी हुई है। इसके पहले योगी सरकार के दूसरे मंत्रिमंडल विस्तार की तैयारियां शुरू हो गई हैं। प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल मध्यप्रदेश के सभी कार्यक्रम निरस्त करके अचानक लखनऊ पहुंच गईं हैं। माना जा रहा है कि 28 या 29 मई को योगी सरकार का दूसरा मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी के खास अफसरों में से एक और एमएलसी एसके शर्मा (अरविंद कुमार शर्मा) को डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है। बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ से लेकर पीएम नरेंद्र मोदी तक प्रशंसा करते हैं। ऐसे में हम आपको पूर्व आईएएस एसके शर्मा के बारे में बता रहे हैं, जिसे कम ही लोग ही जानते हैं।

मऊ जिले के निवासी अरविंद कुमार शर्मा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी हैं। एसके शर्मा पॉलिटिकल साइंस में फर्स्ट क्लास से मास्टर डिग्री प्राप्त किए हैं। वह भूमिहार ब्राह्मण समुदाय से आते हैं। साल 2001 से लेकर 2013 तक गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी के साथ काम किए हैं। 

मऊ जिले के निवासी अरविंद कुमार शर्मा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी हैं। एसके शर्मा पॉलिटिकल साइंस में फर्स्ट क्लास से मास्टर डिग्री प्राप्त किए हैं। वह भूमिहार ब्राह्मण समुदाय से आते हैं। साल 2001 से लेकर 2013 तक गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी के साथ काम किए हैं। 

नरेंद्र मोदी जब सीएम से पीएम बने तो वो अपने साथ अरविंद कुमार शर्मा को पीएमओ लेकर आ गए। जहां साल 2014 में वह पीएमओ में संयुक्त सचिव के पद पर रहे। उसके बाद प्रमोशन पाकर सचिव बने थे। लॉकडाउन के बाद पीएम ने उन्हें सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रम (एमएसएमई) मंत्रालय में सचिव के पद पर भेजा था।
 

नरेंद्र मोदी जब सीएम से पीएम बने तो वो अपने साथ अरविंद कुमार शर्मा को पीएमओ लेकर आ गए। जहां साल 2014 में वह पीएमओ में संयुक्त सचिव के पद पर रहे। उसके बाद प्रमोशन पाकर सचिव बने थे। लॉकडाउन के बाद पीएम ने उन्हें सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रम (एमएसएमई) मंत्रालय में सचिव के पद पर भेजा था।
 

अरविंद कुमार शर्मा कुछ माह पहले अचानक स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले लिए, जबकि एमएसएमई सचिव के तौर पर उनका दो साल का कार्यकाल अभी बाकी था। इसके बाद विधान परिषद के लिए चुने गए थे और पूर्वांचल में संगठन की राजनीति में काफी सक्रिय देखे गए थे। एक सप्ताह पहले ही पीएम नरेंद्र मोदी ने उनकी तारीफ की थी।
 

अरविंद कुमार शर्मा कुछ माह पहले अचानक स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले लिए, जबकि एमएसएमई सचिव के तौर पर उनका दो साल का कार्यकाल अभी बाकी था। इसके बाद विधान परिषद के लिए चुने गए थे और पूर्वांचल में संगठन की राजनीति में काफी सक्रिय देखे गए थे। एक सप्ताह पहले ही पीएम नरेंद्र मोदी ने उनकी तारीफ की थी।
 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 28 या 29 मई को योगी सरकार में दूसरे मंत्रिमंडल विस्तार में बड़ा फेरबदल होने वाला है। कहा तो यहां तक जा रहा है कि इसमें एक केशव प्रसाद मौर्य को कुर्सी गंवानी पड़ सकती हैं, उन्हें अब फिर से प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती हैं, जबकि उनके स्थान पर एसके शर्मा को नया डिप्टी सीएम बनाया सकता है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 28 या 29 मई को योगी सरकार में दूसरे मंत्रिमंडल विस्तार में बड़ा फेरबदल होने वाला है। कहा तो यहां तक जा रहा है कि इसमें एक केशव प्रसाद मौर्य को कुर्सी गंवानी पड़ सकती हैं, उन्हें अब फिर से प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती हैं, जबकि उनके स्थान पर एसके शर्मा को नया डिप्टी सीएम बनाया सकता है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios