ना भूकंप, ना मिसाइल, अचानक फटी धरती और बना 8 फीट गहरा गड्ढा, नीचे जो देखा उसपर यकीन कर पाना मुश्किल

First Published 22, May 2020, 11:59 AM

हटके डेस्क: दुनिया कोरोना से जंग लड़ रही है। हर तरफ हाहाकार मचा है। लोग एक के बाद एक मौत के मुंह में समा रहे हैं। इस बीच कई घटनाएं सामने  आई,जिनके आधार पर कई लोगों ने साल 2020 को दुनिया खत्म होने वाला साल करार दिया। अभी रोम कोरोना वायरस से लड़ ही रहा है कि यहां अचानक तेज आवाज के साथ 10 फीट लंबा और 8 फीट गहरा गड्ढा हो गया। ना तो यहां कोई भूकंप आया था ना ही कोई मिसाइल अटैक। अचानक बीच सड़क ये गड्ढा बन गया। जब कुछ लोग इस गड्ढे के अंदर गए, तो हैरान रह गए। अंदर दो हजार साल पुराना इतिहास वैसे ही सुरक्षित रखा मिला। तस्वीरों में देखें कैसा था गड्ढे के अंदर नजारा.... 

<p><br />
इस 8 फ़ीट गहरे सिंकहोल में 27 BC के कई स्टोन्स मिले। ये गड्ढा 10 फीट लंबा और 8 फीट गहरा था। रोम के पियात्सा डेल्ला रोटोंडा में ये सिंकहोल बना था।&nbsp;</p>


इस 8 फ़ीट गहरे सिंकहोल में 27 BC के कई स्टोन्स मिले। ये गड्ढा 10 फीट लंबा और 8 फीट गहरा था। रोम के पियात्सा डेल्ला रोटोंडा में ये सिंकहोल बना था। 

<p>लॉकडाउन की वजह से इस दौरान कोई बड़ी घटना नहीं हुई। अचानक ही धरती फट गई और वहां पार्क कुछ गाड़ियां नीचे गिर गई। लेकिन अगर ये टूरिस्ट्स के बीच होता तो बड़ा हादसा हो जाता।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

लॉकडाउन की वजह से इस दौरान कोई बड़ी घटना नहीं हुई। अचानक ही धरती फट गई और वहां पार्क कुछ गाड़ियां नीचे गिर गई। लेकिन अगर ये टूरिस्ट्स के बीच होता तो बड़ा हादसा हो जाता। 
 

<p>इस गड्ढे के अंदर जो पत्थर पाए गए, उनसे ही पन्थीओं के कई बिल्डिंग्स बने हैं। बाद में इन इमारतों को दुबारा ठीक किया गया। लेकिन अंदर आज भी यही पत्थर मौजूद है।&nbsp;</p>

इस गड्ढे के अंदर जो पत्थर पाए गए, उनसे ही पन्थीओं के कई बिल्डिंग्स बने हैं। बाद में इन इमारतों को दुबारा ठीक किया गया। लेकिन अंदर आज भी यही पत्थर मौजूद है। 

<p>रोम के लोकल न्यूजपेपर के मुताबिक, यहां विशेषज्ञों को पता था कि जमीन के अंदर ऐसे पत्थर हो सकते हैं। लेकिन उन्होंने खुदाई नहीं की। उन्हें डर था कि ऐसा करने पर आसपास के इमारतों को नुकसान पहुंचेगा।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

रोम के लोकल न्यूजपेपर के मुताबिक, यहां विशेषज्ञों को पता था कि जमीन के अंदर ऐसे पत्थर हो सकते हैं। लेकिन उन्होंने खुदाई नहीं की। उन्हें डर था कि ऐसा करने पर आसपास के इमारतों को नुकसान पहुंचेगा। 
 

<p>अंदर जो पत्थर मिले हैं, वो भी &nbsp;2 हजार साल से वहीं पड़े हैं। सब अभी भी वैसे ही पड़ा है, जैसे सालों पहले था।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

अंदर जो पत्थर मिले हैं, वो भी  2 हजार साल से वहीं पड़े हैं। सब अभी भी वैसे ही पड़ा है, जैसे सालों पहले था। 
 

<p>रोम में सिंकहोल्स का इतिहास नया नहीं है। यहां 2019 में 100 सिंकहोल्स बने थे जबकि 2018 में इसकी संख्या 175 थी।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

रोम में सिंकहोल्स का इतिहास नया नहीं है। यहां 2019 में 100 सिंकहोल्स बने थे जबकि 2018 में इसकी संख्या 175 थी। 
 

<p>12 मई को अचानक यहां तेज धमाका हुआ और जमीन में 8 फ़ीट बड़ा गड्ढा हो गया। इसके बाद वहां हड़कंप मच गया। कई विशेषज्ञों ने गड्ढे के नीचे जाकर वहां का जायजा लिया, जिसमें 2 हजार साल पुरानी चीजें मिलने से सनसनी फ़ैल गई।&nbsp;</p>

12 मई को अचानक यहां तेज धमाका हुआ और जमीन में 8 फ़ीट बड़ा गड्ढा हो गया। इसके बाद वहां हड़कंप मच गया। कई विशेषज्ञों ने गड्ढे के नीचे जाकर वहां का जायजा लिया, जिसमें 2 हजार साल पुरानी चीजें मिलने से सनसनी फ़ैल गई। 

<p>अंदर पत्थरों के 7 स्लैब्स मिले। ये सभी 2000 साल पुराने थे। इस एरिया को रोम का सबसे सेंसेटिव एरिया माना जाता है। साथ ही यहां कई हिस्टोरिकल साइट्स भी हैं। सोशल मीडिया पर इस खबर के बाद सनसनी फ़ैल गई। सबका कहना है कि ये दुनिया खत्म होने का इशारा है।&nbsp;</p>

अंदर पत्थरों के 7 स्लैब्स मिले। ये सभी 2000 साल पुराने थे। इस एरिया को रोम का सबसे सेंसेटिव एरिया माना जाता है। साथ ही यहां कई हिस्टोरिकल साइट्स भी हैं। सोशल मीडिया पर इस खबर के बाद सनसनी फ़ैल गई। सबका कहना है कि ये दुनिया खत्म होने का इशारा है। 

loader