Asianet News Hindi

हाय ये कैसा नशा, बिना पिए ये चीज खाने से शख्स को चढ़ जाता है, शराब से ज्यादा नशा

First Published Jan 14, 2021, 9:33 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

वॉशिंगटन. अमेरिका में एक शख्स के साथ अजीबोगरीब घटना होती है। 62 साल के निक कार्स एक डिसऑर्डर से जूझ रहे हैं। इसके चलते उन्हें शराब पीने से ज्यादा नशा हो जाता है। दरअसल, वो शख्स निक ऑटो ब्रूवेरी सिंड्रोम से ग्रस्त है। वो जब भी केक या कार्बोहाइड्रेट्स से भरपूर कोई चीज खाते हैं तो उन्हें शराब से ज्यादा नशा हो जाता है। इन चीजों को खाने के बाद ऐसा लगता है कि मानो उन्होंने बहुत अधिक शराब पी ली है। 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो वो इस डिसऑर्डर की कंडीशन में निक का शरीर कार्बोहाइड्रेट के सोर्स को एल्कोहल में बदल देता है, जिसके चलते उनके बिना पिए ही नशे जैसे हालात हो जाते हैं। भले ही ये सुनने ये काफी दिलचस्प है लेकिन इस कंडीशन को काफी गंभीर बताया जा रहा है। 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो वो इस डिसऑर्डर की कंडीशन में निक का शरीर कार्बोहाइड्रेट के सोर्स को एल्कोहल में बदल देता है, जिसके चलते उनके बिना पिए ही नशे जैसे हालात हो जाते हैं। भले ही ये सुनने ये काफी दिलचस्प है लेकिन इस कंडीशन को काफी गंभीर बताया जा रहा है। 

कहा जा रहा है कि वो केक खाने के बाद लीगल ड्राइविंग लिमिट से बाहर हो जाते हैं। रिपोर्ट्स की मानें तो कहा जा रहा है कि आज से 20 साल पहले निक काफी स्ट्रॉन्ग केमिकल्स से एक्सपोज हुए थे, जिसके चलते उनमें ये कंडीशन पैदा होने लगी थी। 

कहा जा रहा है कि वो केक खाने के बाद लीगल ड्राइविंग लिमिट से बाहर हो जाते हैं। रिपोर्ट्स की मानें तो कहा जा रहा है कि आज से 20 साल पहले निक काफी स्ट्रॉन्ग केमिकल्स से एक्सपोज हुए थे, जिसके चलते उनमें ये कंडीशन पैदा होने लगी थी। 

कहा जाता है कि निक को अपने साथ एक ब्रेथ एनालाइजर लेकर चलना पड़ता है क्योंकि उन्हें नहीं पता कि वो कब नशे में हो सकते हैं। सिर्फ केक ही नहीं बल्कि थोड़ा सा भी शुगर या कार्बोहाएड्रेट्स लेने पर भी वे काफी नशे में हो जाते हैं। 

कहा जाता है कि निक को अपने साथ एक ब्रेथ एनालाइजर लेकर चलना पड़ता है क्योंकि उन्हें नहीं पता कि वो कब नशे में हो सकते हैं। सिर्फ केक ही नहीं बल्कि थोड़ा सा भी शुगर या कार्बोहाएड्रेट्स लेने पर भी वे काफी नशे में हो जाते हैं। 

इसी वजह से वो कीटो डाइट लेने की कोशिश करते हैं। इस डाइट में बताया जाता है कि कार्बोहाएड्रेट्स की मात्रा काफी कम और प्रोटीन और फैट्स की मात्रा अधिक होती है। 

इसी वजह से वो कीटो डाइट लेने की कोशिश करते हैं। इस डाइट में बताया जाता है कि कार्बोहाएड्रेट्स की मात्रा काफी कम और प्रोटीन और फैट्स की मात्रा अधिक होती है। 

निक ने एक इंटरव्यू में कहा था कि कभी-कभी लोग उनके हालातों का काफी मजाक उड़ाते हैं क्योंकि उन्हे लगता है कि उन्हें ड्रिंक्स के लिए जाना काफी सस्ता पड़ेगा क्योंकि वो बिना पीए ही सिर्फ खाना खाकर ही नशे में हो जाते हैं, लेकिन ये उनके लिए अच्छा नहीं है। वो इस समस्या के चलते अपने कई पसंदीदा फूड्स को खा नहीं पाते हैं। 

निक ने एक इंटरव्यू में कहा था कि कभी-कभी लोग उनके हालातों का काफी मजाक उड़ाते हैं क्योंकि उन्हे लगता है कि उन्हें ड्रिंक्स के लिए जाना काफी सस्ता पड़ेगा क्योंकि वो बिना पीए ही सिर्फ खाना खाकर ही नशे में हो जाते हैं, लेकिन ये उनके लिए अच्छा नहीं है। वो इस समस्या के चलते अपने कई पसंदीदा फूड्स को खा नहीं पाते हैं। 

हालांकि, निक अपनी इस परेशानी का काफी हिम्मत से सामना कर रहे हैं। उन्होंने कहा था कि 'वो अपनी बॉडी में अच्छे बैक्टीरिया को डेवलप करने की कोशिश कर रहे हैं और पूरी तरह से नैचुरल होने की कोशिश कर रहे हैं। 

हालांकि, निक अपनी इस परेशानी का काफी हिम्मत से सामना कर रहे हैं। उन्होंने कहा था कि 'वो अपनी बॉडी में अच्छे बैक्टीरिया को डेवलप करने की कोशिश कर रहे हैं और पूरी तरह से नैचुरल होने की कोशिश कर रहे हैं। 

क्योंकि अब उन्हें इस हालात के बारे में काफी जानकारी है तो उनके लिए इसे मैनेज करना थोड़ा आसान हो गया है। हालांकि इस कंडिशन के चलते वो कई बार के खाने के लिए तरस जाते हैं।'

क्योंकि अब उन्हें इस हालात के बारे में काफी जानकारी है तो उनके लिए इसे मैनेज करना थोड़ा आसान हो गया है। हालांकि इस कंडिशन के चलते वो कई बार के खाने के लिए तरस जाते हैं।'

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios