Asianet News Hindi

रातों-रात खाली हो गया पूरा का पूरा शहर, 45 सालों से वीरान इस जगह पर कदम रखते ही मिलती है जेल की सजा

First Published Dec 12, 2020, 9:45 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क : अक्सर हमने फिल्मों में देखा है, एक भूतिया घर या हवेली जहां लोगों जाने से भी कतराते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वास्तव में एक ऐसी जगह है, जहां 45 साल से लोग डर के मारे नहीं गए है। ये कोई हवेली या घर नहीं बल्कि पूरा का पूरा शहर है। जी हां, साइप्रस (Cyprus) का वरोशा (Varosha) शहर दुनिया का सबसे बड़ा भूतिया शहर (Ghost Town) है। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि आखिर किस वजह से यहां के लोगों को रातों रात अपना आशियाना छोड़कर जाना पड़ा और क्यों 45 साल से यहां कोई परिंदा भी पर नहीं मारता।

आइसलैंड में साइप्रस वरोशा शहर कभी पर्यटन के लिए जाना जाता था लेकिन अब ये दुनिया का सबसे बड़ा भूतिया शहर बन गया है। एक ऐसा शहर जहां लोग जाने से भी कतराते हैं।

आइसलैंड में साइप्रस वरोशा शहर कभी पर्यटन के लिए जाना जाता था लेकिन अब ये दुनिया का सबसे बड़ा भूतिया शहर बन गया है। एक ऐसा शहर जहां लोग जाने से भी कतराते हैं।

इन तस्वीरों को देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि कभी यह शहर कितना गुलजार होता होगा। यहां होटल, स्कूल, अस्पताल, रेजिडेंशियल इमारतें, बार और रेस्टोरेंट जैसी सारी सुविधाएं थी। लेकिन अब यहां सब कुछ वीरान पड़ा हुआ है।

इन तस्वीरों को देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि कभी यह शहर कितना गुलजार होता होगा। यहां होटल, स्कूल, अस्पताल, रेजिडेंशियल इमारतें, बार और रेस्टोरेंट जैसी सारी सुविधाएं थी। लेकिन अब यहां सब कुछ वीरान पड़ा हुआ है।

समुंदर किनारे बसे हुए शहर के पास अगर कोई आने की कोशिश भी करता है, तो उसे जेल हो जाती है। जी हां, वरोशा शहर को चारों तरफ से सील किया गया है। अगर कोई भी व्यक्ति यहां आने की या शहर की तस्वीर लेने की कोशिश करता है तो उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया जाता है।

समुंदर किनारे बसे हुए शहर के पास अगर कोई आने की कोशिश भी करता है, तो उसे जेल हो जाती है। जी हां, वरोशा शहर को चारों तरफ से सील किया गया है। अगर कोई भी व्यक्ति यहां आने की या शहर की तस्वीर लेने की कोशिश करता है तो उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया जाता है।

आप सोच रहे होंगे की आखिर ऐसा क्यों? तो आपको बता दें कि 1974 में इस शहर पर तुर्की ने हमला किया था और इस हमले के बाद ये शहर रातों रात पूरी तरह खाली हो गया। 45 साल बीतने के बाद भी ये शहर आज भी वीरान पड़ा हुआ है।

आप सोच रहे होंगे की आखिर ऐसा क्यों? तो आपको बता दें कि 1974 में इस शहर पर तुर्की ने हमला किया था और इस हमले के बाद ये शहर रातों रात पूरी तरह खाली हो गया। 45 साल बीतने के बाद भी ये शहर आज भी वीरान पड़ा हुआ है।

तुर्की का दावा था कि आईलैंड पर रह रहे तुर्की माइनॉरिटी के प्रोटेक्शन के लिए ये हमला किया गया था। इसका नतीजा ये हुआ कि ग्रीस साइप्रस और तुर्की साइप्रस के नाम से दो हिस्सों में बंट गया। 

तुर्की का दावा था कि आईलैंड पर रह रहे तुर्की माइनॉरिटी के प्रोटेक्शन के लिए ये हमला किया गया था। इसका नतीजा ये हुआ कि ग्रीस साइप्रस और तुर्की साइप्रस के नाम से दो हिस्सों में बंट गया। 

इस हमले के बाद वरोशा शहर साइप्रस से अलग हो गया। ये सिटी फिलहाल तुर्की सेना के कब्जे में है। यहां पर तुर्की सेना के अलावा किसी और के आने पर प्रतिबंध है।

इस हमले के बाद वरोशा शहर साइप्रस से अलग हो गया। ये सिटी फिलहाल तुर्की सेना के कब्जे में है। यहां पर तुर्की सेना के अलावा किसी और के आने पर प्रतिबंध है।

बता दें कि इस हमले से पहले इस शहर की आबादी करीब 40,000 थी, जो तुर्की सेना के हमले की रात शून्य हो गई।

बता दें कि इस हमले से पहले इस शहर की आबादी करीब 40,000 थी, जो तुर्की सेना के हमले की रात शून्य हो गई।

कभी आईलैंड कंट्री साइप्रस का वरोशा शहर टूरिस्ट का पसंदीदा स्पोर्ट हुआ करता था लेकिन अब ये दुनिया का सबसे बड़ा भूतिया शहर बन गया है। नरसंहार के डर से इस शहर में कोई आता-जाता नहीं है।

कभी आईलैंड कंट्री साइप्रस का वरोशा शहर टूरिस्ट का पसंदीदा स्पोर्ट हुआ करता था लेकिन अब ये दुनिया का सबसे बड़ा भूतिया शहर बन गया है। नरसंहार के डर से इस शहर में कोई आता-जाता नहीं है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios