Asianet News Hindi

शख्स के हाथ की नसों में उग आए छोटे-छोटे कुकुरमुत्ते, 1 इंजेक्शन के बाद बॉडी में होने लगी मशरूम की खेती

First Published Jan 17, 2021, 7:08 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: अगर आप सुबह सो कर उठे और आपको  आपकी बॉडी में पेड़-पौधे उगे दिखे तो? या तो आप डर जाएंगे या आपको लगेगा कि किसी ने इन्हें आपकी बॉडी के ऊपर चिपका दिया है। लेकिन जिस शख्स की बात हम कर रहे हैं, उसने एक्सपेरिमेंट के नाम पर सच में अपनी बॉडी के अंदर ही मशरूम उगा लिए। शख्स को अंदाजा भी नहीं था कि वो क्या कर रहा है। उसने अपनी बॉडी की नसों में मशरूम के रस का इंजेक्शन ले लिया। इसके बाद डॉक्टर्स उसके हाथों सहित बॉडी के अन्य हिस्सों में उगे मशरूम देख हैरान रह गए। आइये बताते हैं ये अजीबोगरीब मामला जिसकी काफी चर्चा की जा रही है...

चौंका देने वाले ये  अजीबोगरीब घटना अमेरिका से सामने आई। यहां रहने वाला 30 साल का एक शख्स नेब्रास्का में रहता है। उसके साथ ऐसी घटना हुई, जिसके बाद उसे मौत के मुंह से खींचकर वापस लाना पड़ा। अगर थोड़ी सी देर और हो जाती तो शख्स की मौत निश्चित थी। 

चौंका देने वाले ये  अजीबोगरीब घटना अमेरिका से सामने आई। यहां रहने वाला 30 साल का एक शख्स नेब्रास्का में रहता है। उसके साथ ऐसी घटना हुई, जिसके बाद उसे मौत के मुंह से खींचकर वापस लाना पड़ा। अगर थोड़ी सी देर और हो जाती तो शख्स की मौत निश्चित थी। 

जानकारी के मुताबिक़, ये शख्स बाइपोलर डिसऑर्डर का शिकार है। इसमें एक इंसान के अंदर कई तरह की पर्सनालिटी आ जाती है। डॉक्टर्स ने इसके इलाज के लिए शख्स को साइकेडेलिक मशरूम खाने को कहा था। विज्ञान के अनुसार इस मशरूम में साइलोसाइबिन नाम का केमिकल मौजूद होता है जो इन मरीजों के लिए फायदेमंद होता है। 

जानकारी के मुताबिक़, ये शख्स बाइपोलर डिसऑर्डर का शिकार है। इसमें एक इंसान के अंदर कई तरह की पर्सनालिटी आ जाती है। डॉक्टर्स ने इसके इलाज के लिए शख्स को साइकेडेलिक मशरूम खाने को कहा था। विज्ञान के अनुसार इस मशरूम में साइलोसाइबिन नाम का केमिकल मौजूद होता है जो इन मरीजों के लिए फायदेमंद होता है। 

लेकिन इस शख्स को मशरूम का टेस्ट पसंद नहीं आया। इस कारण शख्स ने दिमाग लगाकर पहले मशरूम को पानी में उबाल दिया। इसके बाद इसके पानी को इंजेक्शन में भरकर अपनी नसों में डाल दिया।  

लेकिन इस शख्स को मशरूम का टेस्ट पसंद नहीं आया। इस कारण शख्स ने दिमाग लगाकर पहले मशरूम को पानी में उबाल दिया। इसके बाद इसके पानी को इंजेक्शन में भरकर अपनी नसों में डाल दिया।  

बताया जा रहा है कि ऐसा करने के दो दिन बाद तक शख्स को घबराहट और थकन हो रही थी। साथ ही उसकी तबियत काफी खराब रहने लगी। उसे खून की उल्टियां तक हो रही थी। शख्स ने किसी को नहीं बताया था कि उसने मशरूम का इंजेक्शन लिया है। उसे जॉन्डिस और डायरिया हो गया। 

बताया जा रहा है कि ऐसा करने के दो दिन बाद तक शख्स को घबराहट और थकन हो रही थी। साथ ही उसकी तबियत काफी खराब रहने लगी। उसे खून की उल्टियां तक हो रही थी। शख्स ने किसी को नहीं बताया था कि उसने मशरूम का इंजेक्शन लिया है। उसे जॉन्डिस और डायरिया हो गया। 

जब शख्स को अस्पताल ले जाया गया तो ब्लड टेस्ट में पाया गया कि उसके खून में साइकेडिक मशरूम मौजूद है। इसी के प्रभाव से उसकी बॉडी पर ऐसा असर हुआ है। हालांकि, डॉक्टर्स हैरान थे कि इस मशरूम को खाने से ऐसा तो कभी किसी शख्स में नहीं देखा गया है। 
 

जब शख्स को अस्पताल ले जाया गया तो ब्लड टेस्ट में पाया गया कि उसके खून में साइकेडिक मशरूम मौजूद है। इसी के प्रभाव से उसकी बॉडी पर ऐसा असर हुआ है। हालांकि, डॉक्टर्स हैरान थे कि इस मशरूम को खाने से ऐसा तो कभी किसी शख्स में नहीं देखा गया है। 
 

थोड़ी ही देर में डॉक्टर्स ने पाया कि शख्स की नसों से मशरूम उग रहे हैं। ये सबसे चौंकाने वाला मोमेंट था। किसी को इसपर यकीन नहीं हुआ। जब शख्स से सख्ती बरती गई, तब उसने खुलासा किया कि उसने मशरूम का इंजेक्शन लिया था।  
 

थोड़ी ही देर में डॉक्टर्स ने पाया कि शख्स की नसों से मशरूम उग रहे हैं। ये सबसे चौंकाने वाला मोमेंट था। किसी को इसपर यकीन नहीं हुआ। जब शख्स से सख्ती बरती गई, तब उसने खुलासा किया कि उसने मशरूम का इंजेक्शन लिया था।  
 

डॉक्टर्स ने पाया कि शख्स की बॉडी के कई ऑर्गन फेल हो रहे थे। लिवर ने काम करना बंद कर दिया था और बाकी हिस्से भी निष्क्रिय हो रहे थे। तुरंत शख्स की  जान बचाने के लिए उसकी बॉडी के खून को बदला गया। उसे 22 दिन तक ऑब्जर्वेशन में रखा गया, तब जाकर उसकी जान बचाई जा सकी। 

डॉक्टर्स ने पाया कि शख्स की बॉडी के कई ऑर्गन फेल हो रहे थे। लिवर ने काम करना बंद कर दिया था और बाकी हिस्से भी निष्क्रिय हो रहे थे। तुरंत शख्स की  जान बचाने के लिए उसकी बॉडी के खून को बदला गया। उसे 22 दिन तक ऑब्जर्वेशन में रखा गया, तब जाकर उसकी जान बचाई जा सकी। 

हालांकि, अब कई सालों तक शख्स को एंटी-बैक्टीरियल मेडिसिन्स लेने पड़ेंगे। इस केस को जर्नल ऑफ द एकाडमी ऑफ कंसल्टेशन लायसन साइकेट्री में छापा गया। इस मशरूम को मैजिक मशरूम भी कहते हैं। ये बॉडी में डिप्रेशन और एंजाइटी जैसी फीलिंग को दबाकर हैप्पी हार्मोन्स रिलीज करती है। 

हालांकि, अब कई सालों तक शख्स को एंटी-बैक्टीरियल मेडिसिन्स लेने पड़ेंगे। इस केस को जर्नल ऑफ द एकाडमी ऑफ कंसल्टेशन लायसन साइकेट्री में छापा गया। इस मशरूम को मैजिक मशरूम भी कहते हैं। ये बॉडी में डिप्रेशन और एंजाइटी जैसी फीलिंग को दबाकर हैप्पी हार्मोन्स रिलीज करती है। 

इस केस के बाद डॉक्टर्स ने साफ़ किया कि इन मशरूम को हमेशा अच्छे से कूक करके ही खाए। इसका पानी या इसका पाउडर बॉडी को नुकसान पहुंचाता है।  डॉक्टरों की सलाह लेना भी जरुरी बताया गया। 

इस केस के बाद डॉक्टर्स ने साफ़ किया कि इन मशरूम को हमेशा अच्छे से कूक करके ही खाए। इसका पानी या इसका पाउडर बॉडी को नुकसान पहुंचाता है।  डॉक्टरों की सलाह लेना भी जरुरी बताया गया। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios