Asianet News Hindi

7 दिन में 16 गैलन दूध और 80 कटोरी दही खाते हैं बच्चे, 1 हफ्ते में 40 हजार रु का राशन खरीद कंगाल हुए मां-बाप

First Published Feb 21, 2021, 9:24 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: दुनिया में लोगों के अजीबोगरीब शौक सामने आते हैं। किसी को अजीब हेयरस्टाइल रखने का शौक होता है तो कोई कुछ और तरीका अपनाता है। लेकिन यूके के लंकाशायर (Lancashire) में रहने वाले रेडफोर्ड कपल अपने बच्चे पैदा करने की हॉबी के कारण मशहूर हुआ। ये कपल 22 बच्चों के पेरेंट्स हैं। इन्हें ब्रिटेन के सबसे बड़े परिवार का तमगा मिला हुआ है। लेकिन यही बात अब इनके लिए परेशानी का सबब बन चुका है। बीते एक साल से लगे लॉकडाउन की वजह से इस परिवार को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। पहले जहां बच्चे स्कूल जाते थे तो घर पर मां को खाली समय मिल जाता था लेकिन अब ये बच्चे हर समय घर पर ही रहते हैं और लगातार खाने की डिमांड करते रहते हैं। ऐसे में अब परिवार कंगाल होने की कगार पर पहुंच गया है। 

ब्रिटेन के सबसे बड़े परिवार Radfords की काफी चर्चा होती है। 45 साल की सुए और उनके पति 50 के नोएल के कुल 22 बच्चे हैं। अभी ये कपल और भी बच्चे पैदा करने की प्लानिंग में है। लेकिन लॉकडाउन ने इनके लिए काफी मुश्किलें पैदा कर दी है। कपल का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान उनके खर्चे डबल हो गए हैं। इसमें सबसे ज्यादा पैसे  राशन में खर्च हो जाते हैं। 

ब्रिटेन के सबसे बड़े परिवार Radfords की काफी चर्चा होती है। 45 साल की सुए और उनके पति 50 के नोएल के कुल 22 बच्चे हैं। अभी ये कपल और भी बच्चे पैदा करने की प्लानिंग में है। लेकिन लॉकडाउन ने इनके लिए काफी मुश्किलें पैदा कर दी है। कपल का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान उनके खर्चे डबल हो गए हैं। इसमें सबसे ज्यादा पैसे  राशन में खर्च हो जाते हैं। 

ये परिवार एक दिन के नाश्ते में 16 गैलन दूध और 4 ब्रेड के बड़े पैकेट्स खत्म कर देता है। साथ ही हफ्ते में 24 टॉयलेट रोल्स, तीन टूथपेस्ट ट्यब और 80 कटोरी दही का खर्चा बैठता है। मिरर से बातचीत के दौरान बच्चों की मां ने बताया कि लॉकडाउन में उनके खर्चे डबल हो गए हैं। वो बच्चों को खाना खिलाते-खिलाते परेशान हो गई है। 

ये परिवार एक दिन के नाश्ते में 16 गैलन दूध और 4 ब्रेड के बड़े पैकेट्स खत्म कर देता है। साथ ही हफ्ते में 24 टॉयलेट रोल्स, तीन टूथपेस्ट ट्यब और 80 कटोरी दही का खर्चा बैठता है। मिरर से बातचीत के दौरान बच्चों की मां ने बताया कि लॉकडाउन में उनके खर्चे डबल हो गए हैं। वो बच्चों को खाना खिलाते-खिलाते परेशान हो गई है। 


सुए ने बताया कि पहले बच्चे स्कूल जाते थे तो उसे इतनी परेशानी नहीं होती थी। लेकिन अब दिनभर बच्चे घर पर रहते हैं और खाने की डिमांड करते रहते हैं। एक टाइम के खाने में सुए को 5 किलो चिकन, 1 किलो पनीर और रोटियों के चार पैकेट का खर्च पड़ रहा है। वहीँ इसके साथ 56 सॉसेज भी सर्व किया जाता है। 


सुए ने बताया कि पहले बच्चे स्कूल जाते थे तो उसे इतनी परेशानी नहीं होती थी। लेकिन अब दिनभर बच्चे घर पर रहते हैं और खाने की डिमांड करते रहते हैं। एक टाइम के खाने में सुए को 5 किलो चिकन, 1 किलो पनीर और रोटियों के चार पैकेट का खर्च पड़ रहा है। वहीँ इसके साथ 56 सॉसेज भी सर्व किया जाता है। 

कपल ने जानकारी दी कि जब से लॉकडाउन हुआ है, तबसे वो हर हफ्ते 40 हजार रुपए का राशन खरीद रहे हैं। मार्च 2020 से उनका यही खर्च बैठ रहा है। इस वजह से उन्हें अब काफी परेशानी होने लगी है। इनकम इतनी है नहीं और खर्चे कम नहीं हो रहे। मां ने बताया कि ना सिर्फ राशन पर, बल्कि दूसरी बेसिक चीजों में भी खर्चे बढ़ते जा  रहे हैं। सुए का कहना है कि अब स्थिति बदतर होती जा रही है। 

कपल ने जानकारी दी कि जब से लॉकडाउन हुआ है, तबसे वो हर हफ्ते 40 हजार रुपए का राशन खरीद रहे हैं। मार्च 2020 से उनका यही खर्च बैठ रहा है। इस वजह से उन्हें अब काफी परेशानी होने लगी है। इनकम इतनी है नहीं और खर्चे कम नहीं हो रहे। मां ने बताया कि ना सिर्फ राशन पर, बल्कि दूसरी बेसिक चीजों में भी खर्चे बढ़ते जा  रहे हैं। सुए का कहना है कि अब स्थिति बदतर होती जा रही है। 

ब्रिटेन के इस परिवार में कुल 22 बच्चे हैं। इनकी सबसे छोटी बेटी का जन्म पिछले साल अप्रैल में हुआ था। इसके अलावा इनके दो बच्चे 31 साल के क्रिष और 27 साल की सोफी अब अलग रहते हैं। इनके अलावा सभी एक साथ एक छत के नीचे रहते हैं।पेरेंट्स के लिए अब  इनकी देखभाल काफी मुश्किल हो रही है। 

ब्रिटेन के इस परिवार में कुल 22 बच्चे हैं। इनकी सबसे छोटी बेटी का जन्म पिछले साल अप्रैल में हुआ था। इसके अलावा इनके दो बच्चे 31 साल के क्रिष और 27 साल की सोफी अब अलग रहते हैं। इनके अलावा सभी एक साथ एक छत के नीचे रहते हैं।पेरेंट्स के लिए अब  इनकी देखभाल काफी मुश्किल हो रही है। 

सुए अपनी परेशानी शेयर करते हुए कहती है कि ये बच्चे हर समय भूखे ही रहते हैं। उसका सारा समय इनके खाने पीने की तैयारी में ही निकल जाता है। इसके अलावा ऑनलाइन क्लासेस में इनका शोर काफी मुश्किलें पैदा करता है। एक को चुप करवाओ  तो दूसरा बच्चा रोने लगता है।  
 

सुए अपनी परेशानी शेयर करते हुए कहती है कि ये बच्चे हर समय भूखे ही रहते हैं। उसका सारा समय इनके खाने पीने की तैयारी में ही निकल जाता है। इसके अलावा ऑनलाइन क्लासेस में इनका शोर काफी मुश्किलें पैदा करता है। एक को चुप करवाओ  तो दूसरा बच्चा रोने लगता है।  
 

अब इस परिवार की तकलीफें ब्रिटेन के टीवी शो में दिखाई जा रही है। मां-बाप की हालत देख कई लोगों ने इसपर कमेंट किया। इस परिवार के कई फैंस हैं। कुछ लोगों ने जहां इसे इतने बच्चे पैदा करने की सजा बताई वहीं कुछ ने बच्चे सँभालने के लिए उनकी तारीफ की। ये शो फिलहाल काफी पॉपुलर हो रहा है। 

अब इस परिवार की तकलीफें ब्रिटेन के टीवी शो में दिखाई जा रही है। मां-बाप की हालत देख कई लोगों ने इसपर कमेंट किया। इस परिवार के कई फैंस हैं। कुछ लोगों ने जहां इसे इतने बच्चे पैदा करने की सजा बताई वहीं कुछ ने बच्चे सँभालने के लिए उनकी तारीफ की। ये शो फिलहाल काफी पॉपुलर हो रहा है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios