Asianet News Hindi

जलती चिता के धुंए से भर गया आसमान, 24 घंटे लगातार हो रहा अंतिम संस्कार, वेटिंग लिस्ट में चल रही हैं डेड बॉडीज

First Published May 17, 2020, 11:52 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: दुनिया में कोरोना का आतंक देखने को मिल रहा है। अभी तक इस  वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 47 लाख पार कर चुका है, जबकि मरने वालों की संख्या 3 लाख 13 हजार जा पहुंचा है। इस वायरस से होने वाली मौतों के आंकड़े शुरुआत से ही सवालों के घेरे में है। कई देश अपने यहां हो रही मौतों को छिपाने की कोशिश कर रहे हैं। इसमें चीन भी शामिल है। आंकड़ों के मुताबिक, चीन में कोरोना से कुल 46 सौ से अधिक मौत हुई है लेकिन वुहान के नागरिकों के मुताबिक, सिर्फ उस प्रांत में 42 हजार से अधिक लोग मारे गए हैं। अब मेक्सिको से खौफनाक तस्वीरें सामने आई हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, यहां कोरोना संक्रमितों की संख्या 47 हजार है जबकि मरने वालों की संख्या 5 हजार से अधिक है। लेकिन अब मेक्सिको एक एक फ्यूनरल हाउस से जो तस्वीरें सामने आई है, वो बेहद खौफनाक है। आसमान में जलती लाशों के कारण काला धुंआ भर गया है। यहां इतनी मौतें हुई हैं कि लाशों को 3 दिन की वेटिंग लिस्ट मिल रही है। नीचे तस्वीरें आपको विचलित कर सकती हैं... 

मेक्सिको में सारे अस्पताल, मॉर्चरी और शमशान घाट भर चुके हैं। इस शहर में मौत का आंकड़ा अब हाथ से निकलता जा रहा है। हाल ही में सोशल मीडिया पर मेक्सिको के एक शमशान घाट से ऐसी तस्वीरें सामने आईं, जिसमें लाशों को ऑटोप्सी रूम और कॉरिडोर में स्टोर किया जा रहा है। 


 

मेक्सिको में सारे अस्पताल, मॉर्चरी और शमशान घाट भर चुके हैं। इस शहर में मौत का आंकड़ा अब हाथ से निकलता जा रहा है। हाल ही में सोशल मीडिया पर मेक्सिको के एक शमशान घाट से ऐसी तस्वीरें सामने आईं, जिसमें लाशों को ऑटोप्सी रूम और कॉरिडोर में स्टोर किया जा रहा है। 


 

अब यहां एक शमशान घाट के ऊपर काले धुओं से भरे आसमान की तस्वीरें सामने आई है। यहां लगातार 24 घंटे लाशें जलाई जा रही हैं, जिसकी वजह से चिमनी लगातार काला धुंआ उगल रही हैं। 
 

अब यहां एक शमशान घाट के ऊपर काले धुओं से भरे आसमान की तस्वीरें सामने आई है। यहां लगातार 24 घंटे लाशें जलाई जा रही हैं, जिसकी वजह से चिमनी लगातार काला धुंआ उगल रही हैं। 
 

मेक्सिकन ऑफिसियल्स के मुताबिक, ये देश कोरोना के हाइएस्ट पीक पर पहुंच चुका है और अब केसेस में कमी आएगी। इस कारन अब लॉकडाउन को हटाने की तैयारी चल रही है। लोगों का कहना है कि सरकारी आंकड़ों से पांच गुना अधिक लोगों की मौत कोरोना से हुई है। यहां शमशान घाटों में लाशों की तीन दिन की वेटिंग चल रही है। लगातार लाशें जलाई जा रही हैं। ऐसे में मात्र 5 हजार मौत पर यकीन नहीं होता। 

मेक्सिकन ऑफिसियल्स के मुताबिक, ये देश कोरोना के हाइएस्ट पीक पर पहुंच चुका है और अब केसेस में कमी आएगी। इस कारन अब लॉकडाउन को हटाने की तैयारी चल रही है। लोगों का कहना है कि सरकारी आंकड़ों से पांच गुना अधिक लोगों की मौत कोरोना से हुई है। यहां शमशान घाटों में लाशों की तीन दिन की वेटिंग चल रही है। लगातार लाशें जलाई जा रही हैं। ऐसे में मात्र 5 हजार मौत पर यकीन नहीं होता। 

मेक्सिको में कोरोना का पहला केस 28 फरवरी को मिला था। इसके बाद इस वायरस का आतंक तेजी से यहां बढ़ता ही चला गया। 
 

मेक्सिको में कोरोना का पहला केस 28 फरवरी को मिला था। इसके बाद इस वायरस का आतंक तेजी से यहां बढ़ता ही चला गया। 
 

मेक्सिको के फ्यूनरल हाउस में वर्कर्स लाश को अंदर ले जाते हुए। यहां सरे फ्यूनरल हाउस बॉडीज से भर चुके हैं।  

मेक्सिको के फ्यूनरल हाउस में वर्कर्स लाश को अंदर ले जाते हुए। यहां सरे फ्यूनरल हाउस बॉडीज से भर चुके हैं।  

एक शमशान घाट में बॉडी का इंतज़ार करता वर्कर। पीछे जमा लाशों के ढेर को देख अंदाजा लगाया जा सकता है कि यहां स्थिति कितनी खराब हो गई है।
 

एक शमशान घाट में बॉडी का इंतज़ार करता वर्कर। पीछे जमा लाशों के ढेर को देख अंदाजा लगाया जा सकता है कि यहां स्थिति कितनी खराब हो गई है।
 

एक शमशान घाट के बाहर डेड बॉडीज लेकर खड़ी गाड़ियों की भीड़। यहां मौत के आंकड़े काफी ज्यादा बढ़ गए हैं। ऐसे में सरकार के लॉकडाउन के खोलने के फैसले के खिलाफ कई लोग खड़े हो गए हैं। 
 

एक शमशान घाट के बाहर डेड बॉडीज लेकर खड़ी गाड़ियों की भीड़। यहां मौत के आंकड़े काफी ज्यादा बढ़ गए हैं। ऐसे में सरकार के लॉकडाउन के खोलने के फैसले के खिलाफ कई लोग खड़े हो गए हैं। 
 

 मेक्सिको में बन रहे नए कब्रिस्तान की तस्वीर। यहां मौत के बाद लाशों को जलाने और दफ़नाने के लिए वेटिंग शुरू हो गई है। 

 मेक्सिको में बन रहे नए कब्रिस्तान की तस्वीर। यहां मौत के बाद लाशों को जलाने और दफ़नाने के लिए वेटिंग शुरू हो गई है। 

इस देश में ताबूत की कमी भी बड़ी समस्या हो गई है। फैक्ट्रीज डिमांड को पूरा करने के लिए प्रोडक्शन बढ़ा चुकी है। लेकिन अचानक इतनी मौतें होने लगी कि हर कोशिश बेकार जा रही है। 

इस देश में ताबूत की कमी भी बड़ी समस्या हो गई है। फैक्ट्रीज डिमांड को पूरा करने के लिए प्रोडक्शन बढ़ा चुकी है। लेकिन अचानक इतनी मौतें होने लगी कि हर कोशिश बेकार जा रही है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios