Asianet News Hindi

भूल से भी ना बनाएं ना खाएं ये मशरूम, छूने भर से ही हो सकती है मौत

First Published Nov 2, 2020, 12:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: जब भी हम खाने में सुपर फूड्स का नाम लेते है, तो मशरूम (mashroom) इसमें टॉप पर होता है। इसमें कई ऐसे जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं जिनकी शरीर को बहुत जरुरत होती है। साथ ही ये फाइबर का भी एक अच्छा सोर्स होता है। कई बीमारियों में मशरूम का इस्तेमाल दवाई के तौर पर भी किया जाता है। लेकिन दुनिया में एक ऐसा मशरूम भी  है, जिसे खाने तो क्या छूने से भी आपकी जान जा सकती है। तो चलिए आज आपको बताते है कि इसी जहरीले मशरूम के बारे में जिसे आप कभी भूलकर भी खाने का सोचना नहीं।

देश-दुनिया में कई जगह मशरूम की खेती की जाती है।  यह प्रोटीन और फाइबर का सबसे अच्छा स्त्रोत माना जाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, इसलिए इसे सुपरफूड की श्रेणी में रखा जाता है। लेकिन ये फूड आइटम आपकी जान भी ले सकता है।

देश-दुनिया में कई जगह मशरूम की खेती की जाती है।  यह प्रोटीन और फाइबर का सबसे अच्छा स्त्रोत माना जाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, इसलिए इसे सुपरफूड की श्रेणी में रखा जाता है। लेकिन ये फूड आइटम आपकी जान भी ले सकता है।

मशरूम को कई जगह कुकुरमुत्ता के नाम से भी जाना जाता है। यह एक तरह का फंगस होता है, जो बरसात के दिनों में सड़े-गले कार्बनिक पदार्थ पर उगता है। लेकिन इसकी खेती करके इसे खाने में भी इस्तेमाल किया जाता है। 
 

मशरूम को कई जगह कुकुरमुत्ता के नाम से भी जाना जाता है। यह एक तरह का फंगस होता है, जो बरसात के दिनों में सड़े-गले कार्बनिक पदार्थ पर उगता है। लेकिन इसकी खेती करके इसे खाने में भी इस्तेमाल किया जाता है। 
 

लाल रंग का यह जहरीला मशरूम जिसे पोडोस्ट्रोमा कॉर्नू-डामा (podostroma cornu-damae) नाम से जाना जाता है ये ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड के साथ ही जापान और कोरिया जैसे एशियाई देशों में पाया जाता है।

लाल रंग का यह जहरीला मशरूम जिसे पोडोस्ट्रोमा कॉर्नू-डामा (podostroma cornu-damae) नाम से जाना जाता है ये ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड के साथ ही जापान और कोरिया जैसे एशियाई देशों में पाया जाता है।

इस जहरीले मशरूम की वजह से जापान और दक्षिण कोरिया में कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। इसे अस्पताल में इस्तेमाल खाने का कवक समझकर चाय में मिलाकर पी लिया था, जिसके बाद कई लोगों की मौत हो गई थी।

इस जहरीले मशरूम की वजह से जापान और दक्षिण कोरिया में कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। इसे अस्पताल में इस्तेमाल खाने का कवक समझकर चाय में मिलाकर पी लिया था, जिसके बाद कई लोगों की मौत हो गई थी।

यह मशरूम इतना जहरीला होता है कि इसे खाने से ऑर्गन फेल होने लगते हैं। इसके साथ ही इंसान के अंग काम करना बंद कर देते हैं। इतना ही नहीं दिमाग को भी काफी नुकसान पहुंचता है।

यह मशरूम इतना जहरीला होता है कि इसे खाने से ऑर्गन फेल होने लगते हैं। इसके साथ ही इंसान के अंग काम करना बंद कर देते हैं। इतना ही नहीं दिमाग को भी काफी नुकसान पहुंचता है।

खाना तो दूर इस मशरूम को छूने मात्र से ही आप बीमार पड़ सकते हैं। इसको छूने से शरीर में सूजन भी हो सकती है।
 

खाना तो दूर इस मशरूम को छूने मात्र से ही आप बीमार पड़ सकते हैं। इसको छूने से शरीर में सूजन भी हो सकती है।
 

बता दें कि सबसे पहले इस मशरूम को 1895 में खोजा गया था। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, इस कवक को इंडोनेशिया और न्यू पापुआ गिनी में भी देखा गया है। जिसके बाद इसे खाने को लेकर पहले ही लोगों को अलर्ट कर दिया गया है।
 

बता दें कि सबसे पहले इस मशरूम को 1895 में खोजा गया था। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, इस कवक को इंडोनेशिया और न्यू पापुआ गिनी में भी देखा गया है। जिसके बाद इसे खाने को लेकर पहले ही लोगों को अलर्ट कर दिया गया है।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios