Asianet News Hindi

चमगादड़ नहीं, इस जानवर से फैला था कोरोना, नए रिसर्च में हुआ खुलासा

First Published Apr 18, 2020, 1:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोरोना वायरस इंसानों में कैसे फैला, इसे लेकर अभी रिसर्च चल ही रहा है। इतना तय है कि पहली बार यह वायरस चीन के हुबेई प्रोविन्स के वुहान के वेट मार्केट से फैला, जहां वाइल्ड एनिमल्स के मीट का बड़े पैमाने पर कारोबार होता है। लेकिन अभी तक इसका पता नहीं चल पाया है कि इंसानों में यह वायरस किस जीव के जरिए फैला। पहले कहा जा रहा था कि यह चमगादड़ों के जरिए फैला। यह भी कहा गया कि वुहान के इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में चमगादड़ों पर एक्सपेरिमेंट किए जा रहे थे। बाद में कहा जाने लगा कि कोरोना वायरस पैंगोलिन्स के जरिए लोगों में फैला। कुछ वैज्ञानिकों का कहना था कि यह वायरस कुत्तों, चमगादड़ों, सांपों, चूहों और दूसरे पालतू जानवरों के जरिए भी फैल सकता है। बहरहाल, इस बात को मान लिया गया कि चमगादड़ों के जरिए यह वायरस काफी फैला। लेकिन अब एक स्टडी में यह दावा किया जा रहा है कि यह वायरस आवारा कुत्तों के जरिए फैला है।

 

कनाडा के शोधकर्ताओं ने कोरोना वायरस के जीनोम का विश्लेषण किया है और कहा है कि यह कुत्तों के जरिए फैल सकता है। लेकिन इसकी यह कह कर आलोचना की जा रही है कि स्टडी के लिए शोधकर्ताओं के पास पर्याप्त डाटा उपलब्ध नहीं था। द रॉयल सोसाइटी फॉर द प्रिवेन्शन ऑफ क्रुअल्टी टू एनिमल्स (RSPCA)  की चीफ वेटनरी ऑफिसर कैरोलिन एलेन ने कहा है कि यह सिर्फ एक थ्योरी है, जिसके पीछे अभी कोई ठोस प्रमाण नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि इस बात को साबित कर पाना संभव नहीं है कि कुत्तों के जरिए कोरोना वायरस फैला है। उनका कहना है कि लोग अपने पालतू कुत्तों को नहीं भगाएं और स्ट्रे डॉग्स को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचाएं। उन्होंने यह भी कहा कि इस स्टडी का एनिमल वेलफेयर पर बहुत खराब असर पड़ सकता है, वहीं यह रिपोर्ट भी प्रामाणिक नहीं है। बहरहाल, इस पेपर को लिखने वाले ओटावा यूनिवर्सिटी के बायोलॉजिस्ट शुहुआ शिया ने कहा है कि उन्होंने इस आधार पर यह स्टडी की है कि कोरोना वायरस पहले चमगादड़ों में फैला और फिर कुत्तों ने उन चमगादड़ों को खाया, जिससे यह लोगों में भी फैलने लगा। इस थ्योरी को लेकर अभी साइंटिस्ट्स में अलग-अलग राय है। देखें इससे जुड़ी तस्वीरें। 

शोध में आवारा कुत्तों को कोरोान फैलाने के लिए जिम्मेदार बताया गया है। इससे इन कुत्तों पर खतरा बढ़ सकता है। इसे लेकर एनिमल राइट्स एक्टिविस्ट्स ने लोगों को आगाह किया है। 

शोध में आवारा कुत्तों को कोरोान फैलाने के लिए जिम्मेदार बताया गया है। इससे इन कुत्तों पर खतरा बढ़ सकता है। इसे लेकर एनिमल राइट्स एक्टिविस्ट्स ने लोगों को आगाह किया है। 

यह भी कहा गया कि कोरोना वायरस पैंगोलिन्स के जरिए लोगों में फैला, लेकिन इसे भी पूरी तरह प्रामाणिक नहीं माना गया। 

यह भी कहा गया कि कोरोना वायरस पैंगोलिन्स के जरिए लोगों में फैला, लेकिन इसे भी पूरी तरह प्रामाणिक नहीं माना गया। 

बहुत से वैज्ञानिकों का कहना है कि यह स्टडी अनुमान पर ज्यादा आधारित है, इसके लिए डाटा बहुत कम उपलब्ध है। ऐसे में, इस तरह के निष्कर्ष पर पहुंचने से स्ट्रे डॉग्स का जीवन खतरे में पड़ सकता है। 

बहुत से वैज्ञानिकों का कहना है कि यह स्टडी अनुमान पर ज्यादा आधारित है, इसके लिए डाटा बहुत कम उपलब्ध है। ऐसे में, इस तरह के निष्कर्ष पर पहुंचने से स्ट्रे डॉग्स का जीवन खतरे में पड़ सकता है। 

पहले कोरोना वायरस फैलाने के लिए चमगादड़ों को जिम्मेदार मान गया। 

पहले कोरोना वायरस फैलाने के लिए चमगादड़ों को जिम्मेदार मान गया। 

कोरोना वायरस चमगादड़ों से फैला है, इसे लेकर भी साइंटिस्ट्स ने काफी एक्सपेरिमेंट किए। 

कोरोना वायरस चमगादड़ों से फैला है, इसे लेकर भी साइंटिस्ट्स ने काफी एक्सपेरिमेंट किए। 

पैंगोलिन्स पर भी साइंटिस्ट्स ने काफी एक्सपेरिमेंट किए, लेकिन इसका पता नहीं लग सका कि आखिर कोरोना इंसानों में कैसे फैलता है। 

पैंगोलिन्स पर भी साइंटिस्ट्स ने काफी एक्सपेरिमेंट किए, लेकिन इसका पता नहीं लग सका कि आखिर कोरोना इंसानों में कैसे फैलता है। 

कुछ वैज्ञानिकों का मानना था कि चूहों के जरिए भी लोगों में कोरोना फैल सकता है। चूहों पर कई तरह के एक्सपेरिमेंट इस बात का पता लगाने के लिए किए गए। 

कुछ वैज्ञानिकों का मानना था कि चूहों के जरिए भी लोगों में कोरोना फैल सकता है। चूहों पर कई तरह के एक्सपेरिमेंट इस बात का पता लगाने के लिए किए गए। 

डॉग लवर इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं हैं कि कुत्तों से कोरोना फैल सकता है। दुनिया में कुत्तों से प्यार करने वाले लोगों की कोई कमी नहीं है। ये इंसान के सबसे भरोसेमंद दोस्त होते हैं। 

डॉग लवर इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं हैं कि कुत्तों से कोरोना फैल सकता है। दुनिया में कुत्तों से प्यार करने वाले लोगों की कोई कमी नहीं है। ये इंसान के सबसे भरोसेमंद दोस्त होते हैं। 

एनिमल वेलफेयर के लिए काम करने वाले लोगों से अपील कर रहे हैं कि वे अपने कुत्तों को नहीं भगाएं और उनकी देख-रेख करें। कुत्तों से कोरोना नहीं फैलता है। 

एनिमल वेलफेयर के लिए काम करने वाले लोगों से अपील कर रहे हैं कि वे अपने कुत्तों को नहीं भगाएं और उनकी देख-रेख करें। कुत्तों से कोरोना नहीं फैलता है। 

एक समय तो यह भी चर्चा जोरों पर थी कि सांपों से भी कोरोना का वायरस फैल सकता है, लेकिन यह महज एक अनुमान था। 

एक समय तो यह भी चर्चा जोरों पर थी कि सांपों से भी कोरोना का वायरस फैल सकता है, लेकिन यह महज एक अनुमान था। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios