Asianet News Hindi

CORONA वैक्सीन के नाम पर CHINA ने बनाया मौत का इंजेक्शन, लगवाते ही हो जाएगी 73 तरह की बीमारियां

First Published Jan 8, 2021, 10:39 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क:  China पहले ही दुनिया में Corona फैलाकर लोगों की नजर में बुरा बन चुका है। चीन पर Virus को जानबूझकर फ़ैलाने का आरोप लगता आया है। लेकिन China के ऊपर इसका कोई असर नहीं हुआ। दुनिया में Corona फैलाने के बाद ये देश आराम से अपने नॉर्मल लाइफ में लौट गया है। इस बीच China ने भी दुनिया के कई देशों की तरह Corona Vaccine बना लिया है। लेकिन उसके ही देश के डॉक्टर्स ने इस Injection को जानलेवा घोषित कर दिया है। शंघाई के डॉक्टर ने इस Injection को लेकर लोगों से अपील की है कि वो इसे ना लगवाए। Tao Lina नाम के इस डॉक्टर ने Injection को लेकर खुलासा किया है कि इसे लगवाते ही इंसान में 73 तरह की बीमारियां हो जा रही है। डॉक्टर ने China के इस Injection को दुनिया का सबसे असुरक्षित Injection बताया है। लोगों को मौत का Injection दे रहा चीन... 

2020 में चीन ने दुनिया में कोरोना फैला दिया। चीन एक शहर से ये वायरस देखते ही देखते पूरी दुनिया में फ़ैल गया। एक साल के अंदर ही अब दुनिया का एक भी ऐसा देश नहीं बचा है, जहां ये वायरस मौजूद नहीं है। हालांकि, अब कई देशों ने इसकी वैक्सीन बनाकर लोगों को देना शुरू कर दिया है।  
 

2020 में चीन ने दुनिया में कोरोना फैला दिया। चीन एक शहर से ये वायरस देखते ही देखते पूरी दुनिया में फ़ैल गया। एक साल के अंदर ही अब दुनिया का एक भी ऐसा देश नहीं बचा है, जहां ये वायरस मौजूद नहीं है। हालांकि, अब कई देशों ने इसकी वैक्सीन बनाकर लोगों को देना शुरू कर दिया है।  
 

चीन ने भी इस वायरस को फ़ैलाने के बाद  इसका इंजेक्शन बनाने का दावा किया है। चीन अपने इस कोरोना वैक्सीन को लोगों को लगा रहा है। हालांकि, अब इसी देश के डॉक्टर ने इस इंजेक्शन को मौत का इंजेक्शन घोषित किया है। 
 

चीन ने भी इस वायरस को फ़ैलाने के बाद  इसका इंजेक्शन बनाने का दावा किया है। चीन अपने इस कोरोना वैक्सीन को लोगों को लगा रहा है। हालांकि, अब इसी देश के डॉक्टर ने इस इंजेक्शन को मौत का इंजेक्शन घोषित किया है। 
 

सोशल मीडिया पर अपने 40 लाख 80 हजार फॉलोवर्स को Tao Lina ने बताया कि चीन का कोरोना वैक्सीन ना लगवाएं। इसे लगवाने के बाद इंसानों में 73 तरह की बीमारी हो जाती है।  

सोशल मीडिया पर अपने 40 लाख 80 हजार फॉलोवर्स को Tao Lina ने बताया कि चीन का कोरोना वैक्सीन ना लगवाएं। इसे लगवाने के बाद इंसानों में 73 तरह की बीमारी हो जाती है।  

पोस्ट में Tao Lina ने लिखा कि इस इंजेक्शन को लगवाने के बाद लोगों में इंजेक्शन एरिया में दर्द, सिर दर्द, हाइ ब्लड प्रेशर, आंख की रोशनी कम होने के साथ टेस्ट खत्म हो जाना और पेशाब में समस्या जैसे सिम्पटम्स दिखते हैं। 

पोस्ट में Tao Lina ने लिखा कि इस इंजेक्शन को लगवाने के बाद लोगों में इंजेक्शन एरिया में दर्द, सिर दर्द, हाइ ब्लड प्रेशर, आंख की रोशनी कम होने के साथ टेस्ट खत्म हो जाना और पेशाब में समस्या जैसे सिम्पटम्स दिखते हैं। 

इस पोस्ट के तुरंत बाद इसका स्क्रीनशॉट वायरल होने लगा। लोगों ने Sinopharm के खिलाफ कई पोस्ट करने शुरू कर दिए। Apple Daily, Voice of America and Taiwan News जैसे मीडिया हॉउस ने इस खबर को प्रमुखता से दिखाया। जिसके बाद चीनी सोशल मीडिया से ये पोस्ट हटा लिया गया। 

इस पोस्ट के तुरंत बाद इसका स्क्रीनशॉट वायरल होने लगा। लोगों ने Sinopharm के खिलाफ कई पोस्ट करने शुरू कर दिए। Apple Daily, Voice of America and Taiwan News जैसे मीडिया हॉउस ने इस खबर को प्रमुखता से दिखाया। जिसके बाद चीनी सोशल मीडिया से ये पोस्ट हटा लिया गया। 

चीन के इस इंजेक्शन को बीजिंग की ड्रग मेकिंग कंपनी Sinopharm ने तैयार किया है। डॉक्टर Tao Lina ने सोशल मीडिया पर इसके अनसेफ होने की घोषणा की हालांकि, इसके बाद ये पोस्ट गायब हो गया और डॉक्टर की बोली में बदलाव हो गया। 

चीन के इस इंजेक्शन को बीजिंग की ड्रग मेकिंग कंपनी Sinopharm ने तैयार किया है। डॉक्टर Tao Lina ने सोशल मीडिया पर इसके अनसेफ होने की घोषणा की हालांकि, इसके बाद ये पोस्ट गायब हो गया और डॉक्टर की बोली में बदलाव हो गया। 


जिस वैक्सीन को पहले उसने अनसेफ बताया था, बाद में उसे लेकर लिखा कि उसके शब्दों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है। उसने बाद में अपने बयान से पलटते हुए इसे दुनिया का सबसे सेफ वैक्सीन बताया। हालांकि लोगों का कहना है कि उसने प्रेशर और जान को खतरा होने के कारण बयान बदला है। 


जिस वैक्सीन को पहले उसने अनसेफ बताया था, बाद में उसे लेकर लिखा कि उसके शब्दों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है। उसने बाद में अपने बयान से पलटते हुए इसे दुनिया का सबसे सेफ वैक्सीन बताया। हालांकि लोगों का कहना है कि उसने प्रेशर और जान को खतरा होने के कारण बयान बदला है। 

डॉ Tao Lina ने अपने पोस्ट पर सफाई देते हुए माफ़ी भी मांगी। उसने लिखा कि मैं करोड़ों नागरिकों से माफ़ी मांगता हूँ। वो बेझिझक इस इंजेक्शन को लगवा सकते हैं। ये पूरी तरह सेफ है। इसके कोई साइडइफेक्ट्स नहीं है। 

डॉ Tao Lina ने अपने पोस्ट पर सफाई देते हुए माफ़ी भी मांगी। उसने लिखा कि मैं करोड़ों नागरिकों से माफ़ी मांगता हूँ। वो बेझिझक इस इंजेक्शन को लगवा सकते हैं। ये पूरी तरह सेफ है। इसके कोई साइडइफेक्ट्स नहीं है। 

बता दें कि 1 जनवरी को ही बीजिंग हेल्थ अथॉरिटी ने इस इंजेक्शन को अप्रूव किया था। इसकी एफिशिएंसी रेट 79.34 बताई गई है। चीन फरवरी तक इस इंजेक्शन को देश के करोड़ों लोगों को देने की तैयारी में है। अभी उसकी प्रॉयोरिटी में फ्रंट लाइन वर्कर्स और वर्किंग लोग हैं। 
 

बता दें कि 1 जनवरी को ही बीजिंग हेल्थ अथॉरिटी ने इस इंजेक्शन को अप्रूव किया था। इसकी एफिशिएंसी रेट 79.34 बताई गई है। चीन फरवरी तक इस इंजेक्शन को देश के करोड़ों लोगों को देने की तैयारी में है। अभी उसकी प्रॉयोरिटी में फ्रंट लाइन वर्कर्स और वर्किंग लोग हैं। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios