Asianet News Hindi

फुटबॉल मैच देखने खाली स्टेडियम पहुंची खूबसूरत लड़कियां, गौर से देखा तो हाथ में बोर्ड लेकर बैठी दिखी...

First Published May 18, 2020, 5:16 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: दुनिया कोरोना वायरस यानी कोविड 19 से जंग लड़ रही है। इस संक्रमण की वजह से लाखों की मौत हो चुकी है और अभी भी हर दिन हजारों-लाखों संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस वायरस की वजह से दुनिया के कई देश लॉकडाउन हैं। इसमें भारत भी शामिल है। हालांकि, धीरे-धीरे कई देशों में लॉकडाउन खुलने लगा है। इस वायरस की वजह से अभी लोगों को भीड़ लगाने की इजाजत नहीं दी गई है। साउथ कोरिया में भी कोरोना का कहर देखने को मिला, जिसके बाद यहां भी लॉकडाउन लगाया गया है। हालांकि, घर बैठे लोगों के मनोरंजन के लिए इस देश ने फुटबॉल मैच का आयोजन स्टेडियम में करवाया, जिसका लाइव टेलीकास्ट टीवी पर किया गया। इस दौरान खिलाड़ियों के हौंसला-अफजाई के लिए स्टेडियम में कई खूबसूरत लड़कियां दिखाई दी। जब इस मैच की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर आई, तब लोगों का ध्यान इन लड़कियों पर गया, जो असल में सेक्स डॉल्स थी। इसके बाद तो आयोजकों को जमकर गालियां पड़नी शुरू हो गई। 

साउथ कोरियन फुटबॉल मैच में आयोजकों ने स्टेडियम में कई डॉल्स को बिठाया। इनके हाथ में कार्डबोर्ड्स थे। दूर से देखने पर ऐसा लग रहा था जैसे मैच देखने के लिए लड़कियां ही बैठी हों। 
 

साउथ कोरियन फुटबॉल मैच में आयोजकों ने स्टेडियम में कई डॉल्स को बिठाया। इनके हाथ में कार्डबोर्ड्स थे। दूर से देखने पर ऐसा लग रहा था जैसे मैच देखने के लिए लड़कियां ही बैठी हों। 
 

लेकिन जब इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर आई, तब लोगों ने देखा कि असल में ये सेक्स टॉयज थे। इसके बाद लोगों ने ऑर्गेनाइजर्स को जमकर गालियां दी। 

लेकिन जब इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर आई, तब लोगों ने देखा कि असल में ये सेक्स टॉयज थे। इसके बाद लोगों ने ऑर्गेनाइजर्स को जमकर गालियां दी। 

जैसे ही य खबर वायरल हुई, ओर्गनइजर्स ने इसके लिए ऑनलाइन माफ़ी मांग ली। उन्होंने अपने अपोलॉजी पोस्ट में लिखा कि उन्हें नहीं पता था कि वो सेक्स डॉल्स हैं। उन्होंने पुतलों का आर्डर किया था लेकिन उसकी जगह इसकी डिलीवरी की गई। 

जैसे ही य खबर वायरल हुई, ओर्गनइजर्स ने इसके लिए ऑनलाइन माफ़ी मांग ली। उन्होंने अपने अपोलॉजी पोस्ट में लिखा कि उन्हें नहीं पता था कि वो सेक्स डॉल्स हैं। उन्होंने पुतलों का आर्डर किया था लेकिन उसकी जगह इसकी डिलीवरी की गई। 

हालांकि खबर ये भी आई कि इस मैच के जरिये ओर्गनइजर्स ने एक एडल्ट कंपनी को प्रमोट करना चाहा था। लेकिन लोगों ने कहा कि अगर आयोजकों ने गलती से सेक्स टॉयज रखे थे तो कोई बात नहीं, लेकिन अगर उन्होंने जानते हुए ऐसा किया तो ये वाकई शर्म की बात है। 

हालांकि खबर ये भी आई कि इस मैच के जरिये ओर्गनइजर्स ने एक एडल्ट कंपनी को प्रमोट करना चाहा था। लेकिन लोगों ने कहा कि अगर आयोजकों ने गलती से सेक्स टॉयज रखे थे तो कोई बात नहीं, लेकिन अगर उन्होंने जानते हुए ऐसा किया तो ये वाकई शर्म की बात है। 

खाली स्टेडियम में बैठी इन सेक्स टॉयज की तस्वीरें तेजी से वायरल हो रही हैं। लोग इन तस्वीरों को जमकर शेयर कर रहे हैं। स्टेडियम में बैठाने से पहले आयोजकों ने इन्हें कपड़े पहना दिए और उनके हाथों में कार्डबोर्ड्स थमा दिए थे। 

खाली स्टेडियम में बैठी इन सेक्स टॉयज की तस्वीरें तेजी से वायरल हो रही हैं। लोग इन तस्वीरों को जमकर शेयर कर रहे हैं। स्टेडियम में बैठाने से पहले आयोजकों ने इन्हें कपड़े पहना दिए और उनके हाथों में कार्डबोर्ड्स थमा दिए थे। 

स्टेडियम में बैठी इन डॉल्स को दूर से देखकर लोग लड़की ही समझ रहे थे। जबकि कंपनी ने कहा कि ये मनीक्यूंस हैं। जबकि असल में ये सेक्स डॉल्स थीं। 

स्टेडियम में बैठी इन डॉल्स को दूर से देखकर लोग लड़की ही समझ रहे थे। जबकि कंपनी ने कहा कि ये मनीक्यूंस हैं। जबकि असल में ये सेक्स डॉल्स थीं। 

इन्हें स्टेडियम में सोशल डिस्टेंसिंग करवाकर बिठाया गया था। इतना ही नहीं, इनके मुंह पर मास्क भी लगा हुआ था। लोगों ने सोशल मीडिया पर इसे लेकर कई सवाल भी किये। कई ने आयोजकों को मानसिक तौर पर बीमार भी करार दिया।  

इन्हें स्टेडियम में सोशल डिस्टेंसिंग करवाकर बिठाया गया था। इतना ही नहीं, इनके मुंह पर मास्क भी लगा हुआ था। लोगों ने सोशल मीडिया पर इसे लेकर कई सवाल भी किये। कई ने आयोजकों को मानसिक तौर पर बीमार भी करार दिया।  

ये सारे सेक्स टॉयज एक ही कंपनी से लाए गए थे। इस कारण इस बात की भी आशंका जताई गई, कि आयोजकों ने इन्हें स्पोंसर किया था। लेकिन आयोजकों ने इसे मिस्टेक बताते हुए माफ़ी मांग ली।  

ये सारे सेक्स टॉयज एक ही कंपनी से लाए गए थे। इस कारण इस बात की भी आशंका जताई गई, कि आयोजकों ने इन्हें स्पोंसर किया था। लेकिन आयोजकों ने इसे मिस्टेक बताते हुए माफ़ी मांग ली।  

आयोजकों ने स्टेडियम में कई खिलाड़ियों के कट आउट्स भी लगाए थे। उनका ऐसा करने के पीछे मकसद था कि इससे खिलाडियों को ये ना लगे कि वो अकेले मैदान में खेल रहे हैं। साथ में म्यूजिक और भीड़ का शोर भी प्ले किया गया था। 

आयोजकों ने स्टेडियम में कई खिलाड़ियों के कट आउट्स भी लगाए थे। उनका ऐसा करने के पीछे मकसद था कि इससे खिलाडियों को ये ना लगे कि वो अकेले मैदान में खेल रहे हैं। साथ में म्यूजिक और भीड़ का शोर भी प्ले किया गया था। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios