Asianet News Hindi

गे नहीं, पत्नी को बेहद खुश रखता है ये शख्स, लेकिन घर हो या बाहर, हमेशा पहनता है छोटी स्कर्ट और हाई हील्स

First Published Oct 20, 2020, 10:46 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क : अक्सर हम लोगों के पहनावे को देखकर उनकी पर्सनालिटी का पता लगा लेते है। पेंट शर्ट पहना है तो आदमी, सलवार-सूट, साड़ी पहनी है तो महिला और जींस टॉप या स्कर्ट पहनी है तो लड़की। लेकिन जर्मनी में रहने वाले मार्क (Mark Bryan) के पहनावे को देखकर अंदाजा लगाना मुश्किल है कि वो स्ट्रेट है या गे (straight or gay)। दरअसल, उनके पहनावे को देखकर लोगों को लगता है कि वह समलैंगिक (Homosexual)हैं, पर आपको बता दें कि वह स्ट्रेट है, वह अपनी पत्नी और 3 बच्चों के साथ खुशहाल जीवन जी रहे हैं। लेकिन लोगों का सवाल रहता है कि आप इतने सालों से लड़कियों के कपड़े क्यों पहनते हैं? तो आपको बता दें कि मार्क समाज में कपड़ों को लेकर जेंडर इक्वलिटी चाहते हैं, इसलिए पिछले 4 साल से स्कर्ट और हाई हील्स पहनकर ही ऑफिस जाते है और हमेशा इसी तरह के कपड़े पहनते हैं।

ये है 61 साल के मार्क ब्रायन, जो जर्मनी में रोबोटिक्स इंजीनियर है। मार्क के पहनावे को देखकर चौंकिए मत। ये इस तरह के कपड़े पिछले 4 सालों से पहन रहे हैं।

ये है 61 साल के मार्क ब्रायन, जो जर्मनी में रोबोटिक्स इंजीनियर है। मार्क के पहनावे को देखकर चौंकिए मत। ये इस तरह के कपड़े पिछले 4 सालों से पहन रहे हैं।

मार्क के स्कर्ट और हील्स पहनने पर कई लोग उन्हें 'गे' तक समझ लेते हैं और तरह-तरह के सवाल करते है। लेकिन आपको बता दें कि वह 'स्ट्रेट' है। पत्नी और 3 बच्चों के साथ हंसी-खुशी जीवन जीते हैं।

मार्क के स्कर्ट और हील्स पहनने पर कई लोग उन्हें 'गे' तक समझ लेते हैं और तरह-तरह के सवाल करते है। लेकिन आपको बता दें कि वह 'स्ट्रेट' है। पत्नी और 3 बच्चों के साथ हंसी-खुशी जीवन जीते हैं।

मार्क बताते है कि उनके पहनावे को देखकर लोग उनसे उनके जेंडर को लेकर सवाल पूछते है, तो उन्हें बहुत गुस्सा आता है। वह कहते है कि कोई भी कपड़ा पहनना ये इंसान का अपना फैसला होता है।

मार्क बताते है कि उनके पहनावे को देखकर लोग उनसे उनके जेंडर को लेकर सवाल पूछते है, तो उन्हें बहुत गुस्सा आता है। वह कहते है कि कोई भी कपड़ा पहनना ये इंसान का अपना फैसला होता है।

समाज में कपड़ों को लेकर एक मेंटालिटी सेट है कि अगर कोई पेंट- शर्ट या टीशर्ट पहनता है को वो मर्द होता है और कोई स्कर्ट टॉप या साड़ी पहनता है तो वह औरत है।

समाज में कपड़ों को लेकर एक मेंटालिटी सेट है कि अगर कोई पेंट- शर्ट या टीशर्ट पहनता है को वो मर्द होता है और कोई स्कर्ट टॉप या साड़ी पहनता है तो वह औरत है।

मार्क समाज में फैली इसी अवधारणा को बदलना चाहते है। वह साबित करना चाहते है कि कपड़े का कोई जेंडर नहीं होता है। व्यक्ति चाहे कोई भी हो वो अपनी पसंद से कोई भी कपड़ा पहन सकता है। 

मार्क समाज में फैली इसी अवधारणा को बदलना चाहते है। वह साबित करना चाहते है कि कपड़े का कोई जेंडर नहीं होता है। व्यक्ति चाहे कोई भी हो वो अपनी पसंद से कोई भी कपड़ा पहन सकता है। 

मार्क के इस फैसले का सपोर्ट उनका पूरा परिवार भी करता हैं। उनका एक बेटा और दो बेटियां हैं, जिन्हें उनका स्टाइल बेहद पसंद है। यहां तक की उनकी पत्नी को भी उनका ड्रेसिंग स्टाइल अच्छा लगता है।

मार्क के इस फैसले का सपोर्ट उनका पूरा परिवार भी करता हैं। उनका एक बेटा और दो बेटियां हैं, जिन्हें उनका स्टाइल बेहद पसंद है। यहां तक की उनकी पत्नी को भी उनका ड्रेसिंग स्टाइल अच्छा लगता है।

वह पिछले 4 सालों से इसी तरह के कपड़े पहन रहे है। चाहे वर्क प्लेस हो या बाहर किसी भी काम से जाना हो, उन्हें स्कर्ट और हील्स पहने ही देखा जाता है।

वह पिछले 4 सालों से इसी तरह के कपड़े पहन रहे है। चाहे वर्क प्लेस हो या बाहर किसी भी काम से जाना हो, उन्हें स्कर्ट और हील्स पहने ही देखा जाता है।

ऐसा नहीं है कि उन्हें मैन्स क्लॉथ पसंद नहीं है। वह अधिकतर ऑफिस में मैन्स शर्ट के साथ ही स्कर्ट और शर्ट के मैचिंग के फुटवियर पहनना पसंद करते हैं।

ऐसा नहीं है कि उन्हें मैन्स क्लॉथ पसंद नहीं है। वह अधिकतर ऑफिस में मैन्स शर्ट के साथ ही स्कर्ट और शर्ट के मैचिंग के फुटवियर पहनना पसंद करते हैं।

मार्क अपनी स्टाइलिश तस्वीरें आए दिन सोशल मीडिया पर शेयर करते है। उनके पहनावे को देखकर इंटरनेट पर वह काफी पॉपलुर भी हैं।

मार्क अपनी स्टाइलिश तस्वीरें आए दिन सोशल मीडिया पर शेयर करते है। उनके पहनावे को देखकर इंटरनेट पर वह काफी पॉपलुर भी हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios