Asianet News Hindi

बचपन में सिर्फ तानाशाह के लिए देश में उगते थे चावल, Kim Jong Un के जन्मदिन पर जानें उससे जुड़े अनजाने Facts

First Published Jan 8, 2021, 12:29 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: 8 Januar 1983 को दुनिया के सबसे खूंखार तानशाह Kim Jong Un  का जन्मदिन है। वैसे तो North Korea में पहले के सभी तानशाहों के जन्मदिन को सरकारी छुट्टी होती है, लेकिन इस तानशाह ने कई सालों तक अपने Birth Date को लोगों से छिपा कर रखा था। लेकिन 2019 में चीन की वजह से लोगों को किम जोंग का Birth Date पता चल गया। आज किम जोंग का आतंक नार्थ कोरिया में काफी ज्यादा है। उसके द्वारा बनाए गए नियमों को तोड़ने की हिम्मत किसी में नहीं है। अगर कोई ऐसी हिमाकत करता है तो उसे मिलती है मौत। खूंखार तानाशाह के बचपन से अभी तक की जिंदगी के कई फैक्ट्स लोगों को नहीं पता है। आज हम आपको इस तानशाह की जिंदगी से जुड़ी कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जो ये साबित करती है कि ये बचपन से ही खतरनाक इरादों वाला इंसान था... 
 

किम जोंग उन के जन्म के साल को लेकर कई लोगों में मतभेद है। नॉर्थ कोरिया ने कभी आधिकारिक रूप से अपने तानाशाह के जन्मदिन की घोषणा नहीं की लेकिन 2019 में चीन के दौरे के दौरान चीन ने इसका खुलासा कर दिया था जब उसने पोस्ट कर बताया था कि किम जोंग अपने जन्मदिन पर चीन में रहेंगे। 

किम जोंग उन के जन्म के साल को लेकर कई लोगों में मतभेद है। नॉर्थ कोरिया ने कभी आधिकारिक रूप से अपने तानाशाह के जन्मदिन की घोषणा नहीं की लेकिन 2019 में चीन के दौरे के दौरान चीन ने इसका खुलासा कर दिया था जब उसने पोस्ट कर बताया था कि किम जोंग अपने जन्मदिन पर चीन में रहेंगे। 

नॉर्थ कोरिया का सर्वोच्च नेता बनने के लिए इंसान को बेकडू वंश का होना जरुरी होता है। किम जोंग इसी वंश में पैदा हुए। उनसे पहले 1948 से 1994 तक किम इल सुंग ने देश पर राज किया। उनके बाद उनके बेटे किम जोंग इल आए। उन्होंने 1994 से 2011 तक नॉर्थ कोरिया की सत्ता संभाली। 
 

नॉर्थ कोरिया का सर्वोच्च नेता बनने के लिए इंसान को बेकडू वंश का होना जरुरी होता है। किम जोंग इसी वंश में पैदा हुए। उनसे पहले 1948 से 1994 तक किम इल सुंग ने देश पर राज किया। उनके बाद उनके बेटे किम जोंग इल आए। उन्होंने 1994 से 2011 तक नॉर्थ कोरिया की सत्ता संभाली। 
 

इसके बाद नॉर्थ कोरिया की कमान आई किम जोंग उन के हाथों में। वो 2011 से यहां के तानशाह है। वॉशिंगटन पोस्ट की बीजिंग ब्यूरो चीफ अन्ना फिफील्ड ने ‘द ग्रेट सक्सेसर: द डिवाइनली परफेक्ट डेस्टिनी ऑफ ब्रिलियंट कॉमरेड किम जोंग उन’ नाम की किताब में इस तानशाह के बारे में कई सीक्रेट बातें उजागर की। 

इसके बाद नॉर्थ कोरिया की कमान आई किम जोंग उन के हाथों में। वो 2011 से यहां के तानशाह है। वॉशिंगटन पोस्ट की बीजिंग ब्यूरो चीफ अन्ना फिफील्ड ने ‘द ग्रेट सक्सेसर: द डिवाइनली परफेक्ट डेस्टिनी ऑफ ब्रिलियंट कॉमरेड किम जोंग उन’ नाम की किताब में इस तानशाह के बारे में कई सीक्रेट बातें उजागर की। 

किताब में लिखा गया कि किम जोंग कभी भी अपने महल के बाहर नहीं निकले। उन्हें कभी स्कूल नहीं भेजा गया। उनकी पढाई महल के अंदर ही हुई। किम जोंग को जो चीज पसंद नहीं होती, उसे महल से बाहर फेंक दिया जाता था ,इसमें इंसान भी शामिल है। 
 

किताब में लिखा गया कि किम जोंग कभी भी अपने महल के बाहर नहीं निकले। उन्हें कभी स्कूल नहीं भेजा गया। उनकी पढाई महल के अंदर ही हुई। किम जोंग को जो चीज पसंद नहीं होती, उसे महल से बाहर फेंक दिया जाता था ,इसमें इंसान भी शामिल है। 
 

 किताब के मुताबिक़, शाही परिवार में कोई भी चावल नहीं खाता था। सिर्फ किम जोंग को चावल पसंद थे। इस कारण देश में किसी एक जगह पर उनके लिए अलग से खेती की जाती थी। उन्हें परोसा जाने वाला हर चावल एक साइज का होता था। उसे चुनकर बनाया जाता था।   
 

 किताब के मुताबिक़, शाही परिवार में कोई भी चावल नहीं खाता था। सिर्फ किम जोंग को चावल पसंद थे। इस कारण देश में किसी एक जगह पर उनके लिए अलग से खेती की जाती थी। उन्हें परोसा जाने वाला हर चावल एक साइज का होता था। उसे चुनकर बनाया जाता था।   
 

नन्हे किम जोंग उन के कपड़े भी अलग से मंगवाए जाते थे। उनके कपड़े ब्रिटिश फैब्रिक के होते थे। साथ ही वो ब्रश भी इम्पोर्टेड टूथपेस्ट से करते थे। बचपन से ही शाही महल में उनका रौब था। उनकी कोई भी डिमांड ऐसी नहीं होती थी, जिसे पूरा नहीं किया जाता था। जब किम को शराब की लत लगी तो वो साल में दो सौ करोड़ रुपए की शराब पीने लगा। 
 

नन्हे किम जोंग उन के कपड़े भी अलग से मंगवाए जाते थे। उनके कपड़े ब्रिटिश फैब्रिक के होते थे। साथ ही वो ब्रश भी इम्पोर्टेड टूथपेस्ट से करते थे। बचपन से ही शाही महल में उनका रौब था। उनकी कोई भी डिमांड ऐसी नहीं होती थी, जिसे पूरा नहीं किया जाता था। जब किम को शराब की लत लगी तो वो साल में दो सौ करोड़ रुपए की शराब पीने लगा। 
 

किम जोंग को बचपन में ही हथियार का शौक था। काफी कम उम्र में ही उनके हाथ में पिस्तौल थमा दी थी। जहां बचपन में बच्चे प्लेन और टॉयज से खेलते थे, वहीं किम जोंग को असली हथियार दे दिया गया था। 

किम जोंग को बचपन में ही हथियार का शौक था। काफी कम उम्र में ही उनके हाथ में पिस्तौल थमा दी थी। जहां बचपन में बच्चे प्लेन और टॉयज से खेलते थे, वहीं किम जोंग को असली हथियार दे दिया गया था। 

किम जोंग को कार का भी शौक बचपन से था। लेकिन कम उम्र की वजह से वो कार नहीं चला पाता था। इस वजह से कार निर्मातों को ख़ास तरह की कार बनाने को कहा गया, जिसे किम जोंग चला सकते थे। 

किम जोंग को कार का भी शौक बचपन से था। लेकिन कम उम्र की वजह से वो कार नहीं चला पाता था। इस वजह से कार निर्मातों को ख़ास तरह की कार बनाने को कहा गया, जिसे किम जोंग चला सकते थे। 

किम जोंग को मशीनों का भी काफी शौक था। उन्हें मशीनों की जानकारी इक्कठा करना पसंद था। कई बार तो आधी रात को वो मशीन एक्सपर्ट्स को बुलाकर उनसे मशीन की डिटेल लेते थे। 

किम जोंग को मशीनों का भी काफी शौक था। उन्हें मशीनों की जानकारी इक्कठा करना पसंद था। कई बार तो आधी रात को वो मशीन एक्सपर्ट्स को बुलाकर उनसे मशीन की डिटेल लेते थे। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios