Asianet News Hindi

ना टाटा ना बिड़ला, ये था दुनिया का सबसे अमीर शख्स, अंबानी की संपत्ति से ज्यादा रुपये डेली करता था दान

First Published Oct 19, 2020, 4:20 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: कोरोना की वजह से दुनिया को काफी ज्यादा आर्थिक नुकसान पहुंचा है। इस वायरस ने लगभग हर देश की अर्थव्यवस्था की डगमगा दिया है। लेकिन कुछ लोगों की प्रॉपर्टी में इस दौरान भी उछाल आया। फोर्ब्स के मुताबिक, इस समय दुनिया के सबसे रईस शख्स हैं अमेजॉन के संस्थापक जेफ बेरोज़। उनके पास 175 बिलियन डॉलर की संपत्ति है। इस लिस्ट में टॉप 5 में एक भी भारतीय नहीं है। हालांकि, छठे नंबर पर मुकेश अंबानी ने अपनी जगह बनाई है। लेकिन आज हम आपको जिस शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, उनके सामने इस लिस्ट में मौजूद कोई भी शख्स नहीं ठहरता। ये इंसान इतना अमीर था कि एक दिन में ही वो अंबानी की कुल प्रॉपर्टी से अधिक पैसे दान कर देता था। हालांकि, इसी वजह से वो और उसका देश दोनों ही कंगाल हो गए। आइये आज आपको बताते हैं दुनिया के सबसे अमीर शख्स के बारे में... 
 

इतिहास में दुनिया के सबसे अमीर राजा के रूप  में नाम दर्ज है मनसा मूसा का। इन्हें दुनिया के सबसे अमीर और उदार राजा में गिना जाता था। 
 

इतिहास में दुनिया के सबसे अमीर राजा के रूप  में नाम दर्ज है मनसा मूसा का। इन्हें दुनिया के सबसे अमीर और उदार राजा में गिना जाता था। 
 

राजा मूसा जन्म 1280 में राजसी परिवार में हुआ था। वैसे तो राजा मूसा छोटे थे, लेकिन जब उनके बड़े भाई एक अभियान से वापस नहीं आ पाए तब उन्हें विरासत में साम्राज्य मिल गया।  

राजा मूसा जन्म 1280 में राजसी परिवार में हुआ था। वैसे तो राजा मूसा छोटे थे, लेकिन जब उनके बड़े भाई एक अभियान से वापस नहीं आ पाए तब उन्हें विरासत में साम्राज्य मिल गया।  

राजा मूसा माली देश के राजा थे। उस समय वहां सोने और अन्य कीमती सामानों का प्रमुख व्यापारिक केंद्र था। इससे माली देश को काफी फायदा होता था।  उस दौर में माली देश के पास दुनिया का आधा सोना होता था।  

राजा मूसा माली देश के राजा थे। उस समय वहां सोने और अन्य कीमती सामानों का प्रमुख व्यापारिक केंद्र था। इससे माली देश को काफी फायदा होता था।  उस दौर में माली देश के पास दुनिया का आधा सोना होता था।  

ऐसे में राजा मूसा उदार होने की वजह से लोगों को सोना ही बांटा करते थे। राजा मूसा एक बार हज यात्रा पर निकले थे। तीन महीने के इस सफर में 60 हजार लोगों के साथ निकले राजा मूसा को ये काफी महंगा पड़ गया था।  
 

ऐसे में राजा मूसा उदार होने की वजह से लोगों को सोना ही बांटा करते थे। राजा मूसा एक बार हज यात्रा पर निकले थे। तीन महीने के इस सफर में 60 हजार लोगों के साथ निकले राजा मूसा को ये काफी महंगा पड़ गया था।  
 

दरअसल, कहा जाता है कि इस यात्रा के दौरान राजा ने रास्ते में लोगों को खूब सोना दान दिया। इससे मिश्र की अर्थव्यवस्था ठप हो गई। मूसा के इनामों की वजह से सोने के दाम गिरते जा रहे थे। 

दरअसल, कहा जाता है कि इस यात्रा के दौरान राजा ने रास्ते में लोगों को खूब सोना दान दिया। इससे मिश्र की अर्थव्यवस्था ठप हो गई। मूसा के इनामों की वजह से सोने के दाम गिरते जा रहे थे। 

एक अनुमान के मुताबिक, इस दौरान मिडिल ईस्ट को करीब सौ अरब से ज्यादा का नुकसान हुआ था। जब राजा मूसा को इसका पता चला तो उन्होंने अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए इससे सोने को बाहर करने का प्रयास किया।  
 

एक अनुमान के मुताबिक, इस दौरान मिडिल ईस्ट को करीब सौ अरब से ज्यादा का नुकसान हुआ था। जब राजा मूसा को इसका पता चला तो उन्होंने अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए इससे सोने को बाहर करने का प्रयास किया।  
 

राजा मूसा को ही अफ्रीका में शिक्षा शुरू करने के लिए जिम्मेदार माना जाता है। उनका साहित्य, कला और वास्तुकला में काफी इंट्रेस्ट था। 

राजा मूसा को ही अफ्रीका में शिक्षा शुरू करने के लिए जिम्मेदार माना जाता है। उनका साहित्य, कला और वास्तुकला में काफी इंट्रेस्ट था। 

आर्थिक इतिहासकारों की मानें तो उन्होंने अपनी जिंदगी में इतना धन दान किया कि कई लोगों की जिंदगी संवर गई। हालांकि, अभी तक ऐसे पर्याप्त दस्तावेज नहीं मिल पाए हैं जो उनकी प्रॉपर्टी का पूरा अंदाजा लगा पाए। 

आर्थिक इतिहासकारों की मानें तो उन्होंने अपनी जिंदगी में इतना धन दान किया कि कई लोगों की जिंदगी संवर गई। हालांकि, अभी तक ऐसे पर्याप्त दस्तावेज नहीं मिल पाए हैं जो उनकी प्रॉपर्टी का पूरा अंदाजा लगा पाए। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios