Asianet News Hindi

शादी से पहले होटल के कमरे में संबंध बनाता मिला मुस्लिम जोड़ा, मास्क-सैनेटाइजर लगा लोगों ने मारे 100 कोड़े

First Published Jun 7, 2020, 10:18 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: सोशल मीडिया पर इंडोनेशिया की एक खबर इन दिनों चर्चा में है। दुनिया के हर देश की तरह यहां भी कोरोना का आतंक है, लेकिन देश के नियम-कायदे अभी भी सबसे ऊपर हैं। इस देश में शरिया कानून लागू है, जिसके तहत कोई भी शख्स शादी से पहले फिजिकल रिलेशन नहीं बना सकता। लेकिन हाल ही में इंडोनेशिया के एक होटल के कमरे में बंद एक गैर-शादीशुदा कपल को पकड़ा गया। ये कपल बिना शादी के ही एक साथ कमरे में पाया गया। जिसके बाद लोगों ने दोनों को पकड़ लिया। कोरोना की वजह से बाकायदा दोनों का टेम्पेरेचर मापा गया। साथ ही दोनों को मास्क भी पहनाया गया। इसके बाद कोड़ों से दोनों की जमकर पिटाई की गई। इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है... 

इंडोनेशिया में एक कपल को शादी से पहले सेक्स करना काफी महंगा पड़ गया। इस कपल को 100 कोड़ों की सजा सुनाई गई। ऐसा इसलिए कि दोनों ने देश के कट्टर इस्लामिक क़ानून को तोड़ा था।  

इंडोनेशिया में एक कपल को शादी से पहले सेक्स करना काफी महंगा पड़ गया। इस कपल को 100 कोड़ों की सजा सुनाई गई। ऐसा इसलिए कि दोनों ने देश के कट्टर इस्लामिक क़ानून को तोड़ा था।  

मामला इंडोनेशिया के असह से सामने आया। यहां एक होटल के कमरे में ये कपल मिला। दोनों को पकड़कर पहले टेम्पेरेचर की जांच की गई। इसके बाद दोनों को ही मास्क पहनाया गया। ऐसा कोरोना से बचाव के लिए किया गया। इसके बाद बारी-बारी से दोनों को कोड़े मारे गए।

मामला इंडोनेशिया के असह से सामने आया। यहां एक होटल के कमरे में ये कपल मिला। दोनों को पकड़कर पहले टेम्पेरेचर की जांच की गई। इसके बाद दोनों को ही मास्क पहनाया गया। ऐसा कोरोना से बचाव के लिए किया गया। इसके बाद बारी-बारी से दोनों को कोड़े मारे गए।

100 कौड़े मारने वाला ही बीच में थक गया। जिसकी वजह से दूसरे शख्स ने ये काम पूरा किया। युवक को इतना दर्द हुआ कि उसे थोड़ी से  सुस्ताने दिया गया। उसके बाद फिर से उसपर कोड़ों की बरसात हो गई।  

100 कौड़े मारने वाला ही बीच में थक गया। जिसकी वजह से दूसरे शख्स ने ये काम पूरा किया। युवक को इतना दर्द हुआ कि उसे थोड़ी से  सुस्ताने दिया गया। उसके बाद फिर से उसपर कोड़ों की बरसात हो गई।  

महिला को भी 100 कोड़े मारे गए। पहले इंडोनेशिया में इस तरह की सजा सरेआम सैंकड़ों लोगों के सामने दी जाती थी। लेकिन अब कोरोना के कारण ये सजा चंद लोगों के सामने दी गई। इस सजा के दौरान ऑफिसर्स  ने हर तरह के सेफ्टी मेजर्स ले रखे थे। 

महिला को भी 100 कोड़े मारे गए। पहले इंडोनेशिया में इस तरह की सजा सरेआम सैंकड़ों लोगों के सामने दी जाती थी। लेकिन अब कोरोना के कारण ये सजा चंद लोगों के सामने दी गई। इस सजा के दौरान ऑफिसर्स  ने हर तरह के सेफ्टी मेजर्स ले रखे थे। 

आपको बता दें कि इंडोनेशिया में शरिया कानून के तहत लोगों पर कई तरह की बंदिशें हैं। इसमें शादी से पहले किसी तरह के सम्बन्ध पाप माने गए हैं। जिसकी सजा ऐसे ही कोड़ों से मारकर दी जाती है। 
 

आपको बता दें कि इंडोनेशिया में शरिया कानून के तहत लोगों पर कई तरह की बंदिशें हैं। इसमें शादी से पहले किसी तरह के सम्बन्ध पाप माने गए हैं। जिसकी सजा ऐसे ही कोड़ों से मारकर दी जाती है। 
 

 इससे पहले भी ऐसी कई बार सजा दी जा चुकी है। ताजा मामले में कम लोगों के आने पर ऑफिसर्स ने कहा कि यहां के लोगों ने ऐसी कई वारदात देख ली है। अब कोरोना की वजह से भी लोग भीड़ में आने से बच रहे हैं।  

 इससे पहले भी ऐसी कई बार सजा दी जा चुकी है। ताजा मामले में कम लोगों के आने पर ऑफिसर्स ने कहा कि यहां के लोगों ने ऐसी कई वारदात देख ली है। अब कोरोना की वजह से भी लोग भीड़ में आने से बच रहे हैं।  

इसी होटल से एक दूसरे कपल को भी पकड़ा गया। उस जोड़े में युवक को 100 कोड़े मारे गए। हालांकि, लड़की के नाबालिग होने की वजह से उसे छोड़ दिया गया। 
 

इसी होटल से एक दूसरे कपल को भी पकड़ा गया। उस जोड़े में युवक को 100 कोड़े मारे गए। हालांकि, लड़की के नाबालिग होने की वजह से उसे छोड़ दिया गया। 
 

बता दें कि इंडोनेशिया में गैंबलिंग, एडल्ट्री, शराब पीना और सेम जेंडर के साथ सेक्स करना गैरकानूनी है। 

बता दें कि इंडोनेशिया में गैंबलिंग, एडल्ट्री, शराब पीना और सेम जेंडर के साथ सेक्स करना गैरकानूनी है। 

इन सभी अपराधों के लिए यहां एक ही सजा है। कोड़ों से पिटाई। 2005 में इन अपराधों के लिए ये सजा तय की गई थी। हालांकि, कई ह्यूमन राइट्स संस्थान ने इस सजा को अमानवीय बता  रोकने की गुजारिश की है लेकिन अभी भी इस सजा को अमल में लाया जा रहा है। 

इन सभी अपराधों के लिए यहां एक ही सजा है। कोड़ों से पिटाई। 2005 में इन अपराधों के लिए ये सजा तय की गई थी। हालांकि, कई ह्यूमन राइट्स संस्थान ने इस सजा को अमानवीय बता  रोकने की गुजारिश की है लेकिन अभी भी इस सजा को अमल में लाया जा रहा है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios