Asianet News Hindi

कोरोना की दवा समझ पी लिया जहर, 600 की मौत, 3 हजार से ज्यादा बीमार, चौंकाने वाली है घटना

First Published Apr 8, 2020, 1:50 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

तेहरान. कोरोना ने पूरी दुनिया में दहशत फैला दी है। इस महामारी से बचने की कोई दवा नहीं है। ऐसे में लोग गलतफहमी में आकर उल्टी सीधी दवा भी खा ले रहे हैं। ताजा मामला ईरान का है। यहां कोरोना से बचने के लिए लोगों ने जहरीली शराब पी ली, जिससे 600 लोगों की मौत हो गई। वहीं करीब 3 हजार लोग बीमार हो गए हैं। उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। ईरान में कोरोना के 62 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमित हैं। 35,00 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। करीब 27 हजार लोग ठीक भी हो चुके हैं। यहां 8 अप्रैल तक 211136 कोरोना सैंपल के टेस्ट किए जा चुके हैं। 
 

सरकार ने कहा कि कोरोना की दवा समझकर नीट अल्कोहल पी लिया, जिससे 600 से अधिक लोगों की मौत हो गई है और अन्य 3,000 लोग बीमार हो गए हैं।

सरकार ने कहा कि कोरोना की दवा समझकर नीट अल्कोहल पी लिया, जिससे 600 से अधिक लोगों की मौत हो गई है और अन्य 3,000 लोग बीमार हो गए हैं।

ईरान में न्यायिक प्रवक्ता घोलम होसैन इस्माइल ने बताया कि संख्या बहुत अधिक है और हमारी उम्मीदों से परे है। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचने के लिए शराब का सेवन इलाज नहीं है बल्कि इसके और भी खतरनाक परिणाम हो सकते हैं।

ईरान में न्यायिक प्रवक्ता घोलम होसैन इस्माइल ने बताया कि संख्या बहुत अधिक है और हमारी उम्मीदों से परे है। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचने के लिए शराब का सेवन इलाज नहीं है बल्कि इसके और भी खतरनाक परिणाम हो सकते हैं।

तस्नीम समाचार एजेंसी के मुताबिक, इस मामले में कई लोगों को  गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में जांच के बाद दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी।

तस्नीम समाचार एजेंसी के मुताबिक, इस मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में जांच के बाद दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी।

कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद ईरान की संसद ने मंगलवार को पहली बार बैठक बुलाई।

कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद ईरान की संसद ने मंगलवार को पहली बार बैठक बुलाई।

ईरान के संसद के कम से कम 31 सदस्यों को भी कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाया गया है। हालांकि जब मंगलवार को फिर से संसद की बैठक बुलाई गई तो विशेष सावधानी बरती गई।

ईरान के संसद के कम से कम 31 सदस्यों को भी कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाया गया है। हालांकि जब मंगलवार को फिर से संसद की बैठक बुलाई गई तो विशेष सावधानी बरती गई।

हालांकि कुछ सांसदों ने सावधानी बरती, लेकिन कुछ ने लापरवाही भी दिखाई। स्टेट टेलीविजन फुटेज में दिखा कि कुछ सांसद गाइडलाइन जारी करने के बाद भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करते हुए एक साथ नजर आए।

हालांकि कुछ सांसदों ने सावधानी बरती, लेकिन कुछ ने लापरवाही भी दिखाई। स्टेट टेलीविजन फुटेज में दिखा कि कुछ सांसद गाइडलाइन जारी करने के बाद भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करते हुए एक साथ नजर आए।

ईरान की संसद में हुई बहस में देश को पूरी तरह से लॉकडाउन (Lockdown) करने के लिए मना किया गया। कहा गया कि यह योजना नौकरियों और बढ़ती उत्पादकता के खिलाफ है, जो अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाएगा।

ईरान की संसद में हुई बहस में देश को पूरी तरह से लॉकडाउन (Lockdown) करने के लिए मना किया गया। कहा गया कि यह योजना नौकरियों और बढ़ती उत्पादकता के खिलाफ है, जो अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाएगा।

अभी तक कोरोना वायरस के इलाज के लिए कोई से स्थायी इलाज नहीं है। केवल कुछ ऐसी चुनिंदा दवाओं की पहचान की गई है जिससे कोरोना के शुरुआती लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

अभी तक कोरोना वायरस के इलाज के लिए कोई से स्थायी इलाज नहीं है। केवल कुछ ऐसी चुनिंदा दवाओं की पहचान की गई है जिससे कोरोना के शुरुआती लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

कम जोखिम वाले व्यवसायों को स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए शनिवार से फिर से खोलने की अनुमति दी गई है। हालांकि अभी अधिकारियों को यह नहीं बताया गया है कि कम जोखिम वाले व्यवसाय कौन से हैं?

कम जोखिम वाले व्यवसायों को स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए शनिवार से फिर से खोलने की अनुमति दी गई है। हालांकि अभी अधिकारियों को यह नहीं बताया गया है कि कम जोखिम वाले व्यवसाय कौन से हैं?

स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में कहा अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच युद्ध के समय हम उद्योगों और उत्पादन को बंद नहीं कर सकते हैं। अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने का मतलब अर्थव्यवस्था को बचाना है।

स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में कहा अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच युद्ध के समय हम उद्योगों और उत्पादन को बंद नहीं कर सकते हैं। अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने का मतलब अर्थव्यवस्था को बचाना है।

यूरोपीय देशों ने ईरान को एक नयी व्यवस्था के तहत किए गए पहले सौदे में चिकित्सा संबंधी माल की आपूर्ति की है। जर्मनी के विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को एक बयान में यह जानकारी दी। इन्सटेक्स यानी व्यापारिक लेन-देन सहायता संधि के तहत इन देशों ने ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध के बीच इस तरह की पहली आपूर्ति की है। इन्सटेक्स अमेरिकी पाबंदी से बच कर ईरान को अवश्यक चीजों की आपूर्ति की व्यवस्था के लिए किया गया है।

यूरोपीय देशों ने ईरान को एक नयी व्यवस्था के तहत किए गए पहले सौदे में चिकित्सा संबंधी माल की आपूर्ति की है। जर्मनी के विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को एक बयान में यह जानकारी दी। इन्सटेक्स यानी व्यापारिक लेन-देन सहायता संधि के तहत इन देशों ने ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध के बीच इस तरह की पहली आपूर्ति की है। इन्सटेक्स अमेरिकी पाबंदी से बच कर ईरान को अवश्यक चीजों की आपूर्ति की व्यवस्था के लिए किया गया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios