खर्च चलाने के लिए फिश मार्केट में काम किया, अब वही किसान का बेटा जापान का पीएम बना, मोदी ने बधाई दी

First Published 16, Sep 2020, 10:57 AM

टोक्यो. योशिदे सुगा जापान के अगले प्रधानमंत्री होंगे। जापान की सांसद ने सुगा को पीएम पद पर चुना। सुगा पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे की जगह लेंगे। शिंजो आबे ने पिछले दिनों स्वास्थ्य कारणों के चलते इस्तीफा दे दिया था। वे लंबे वक्त से बीमार थे। योशिदे सुगा ने काफी समय तक शिंजो आबे के साथ काम किया। जापान की सत्ताधारी लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के नेतृत्व के चुनाव में योशिदे सुगा को जीत मिली। सुगा को पार्टी के 70% फीसदी यानी 377 वोट मिले। प्रधानमंत्री मोदी ने भी ट्वीट कर बधाई दी। उन्होंने कहा, जापान के प्रधानमंत्री के रूप में नियुक्ति पर महामहिम योशीहिदे सुगा को हार्दिक बधाई।  

<p>71 साल के सुगा आबे के पीएम रहते कई अहम पद संभाल चुके हैं। उन्हें ऐसे व्यक्ति के तौर पर देखा जा रहा है, जो आबे की नीतियों को आगे बढ़ा सकते हैं। माना जा रहा है कि सुगा अमेरिका के साथ सुरक्षा गठबंधन, कोरोना से निपटने और अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं।&nbsp;</p>

71 साल के सुगा आबे के पीएम रहते कई अहम पद संभाल चुके हैं। उन्हें ऐसे व्यक्ति के तौर पर देखा जा रहा है, जो आबे की नीतियों को आगे बढ़ा सकते हैं। माना जा रहा है कि सुगा अमेरिका के साथ सुरक्षा गठबंधन, कोरोना से निपटने और अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। 

<p><strong>आबे ने क्यों दिया इस्तीफा?&nbsp;</strong><br />
शिंजो आबे लंबे समय से आंत से जुड़ी बीमारी अल्सरट्रेटिव कोलाइटिस से जूझ रहे हैं। इसी बीमारी की वजह से शिंजो को 2012 में दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद इस्तीफा देना पड़ा था। पिछले महीने आबे को इसी के चलते 17 अगस्त और 24 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

आबे ने क्यों दिया इस्तीफा? 
शिंजो आबे लंबे समय से आंत से जुड़ी बीमारी अल्सरट्रेटिव कोलाइटिस से जूझ रहे हैं। इसी बीमारी की वजह से शिंजो को 2012 में दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद इस्तीफा देना पड़ा था। पिछले महीने आबे को इसी के चलते 17 अगस्त और 24 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 
 

<p><strong>एक किसान के बेटे हैं सुगा</strong><br />
सुगा को काफी जमीनी माना जाता है। वे एक किसाने के बेटे हैं। उनके पिता स्ट्रॉबेरी की खेती करते थे। सुगा हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद टोक्यो आ गए। उन्हें अपना खर्चा चलाने के लिए कार्डबोर्ड फैक्ट्री और फिश मार्केट में भी काम करना पढ़ा। लेकिन इसी के साथ वे यूनिवर्सिटी में पढ़ाई भी करते रहे।&nbsp;</p>

एक किसान के बेटे हैं सुगा
सुगा को काफी जमीनी माना जाता है। वे एक किसाने के बेटे हैं। उनके पिता स्ट्रॉबेरी की खेती करते थे। सुगा हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद टोक्यो आ गए। उन्हें अपना खर्चा चलाने के लिए कार्डबोर्ड फैक्ट्री और फिश मार्केट में भी काम करना पढ़ा। लेकिन इसी के साथ वे यूनिवर्सिटी में पढ़ाई भी करते रहे। 

<p><strong>नौकरी छोड़ राजनीति में आए</strong><br />
सुगा पढ़ाई पूरी करने के बाद कॉरपोरेट वर्ल्ड में शामिल हो गए। यहां उन्हें अच्छी सैलरी की नौकरी भी मिली। लेकिन उनका यहां मन नहीं लगा। वे राजनीति में चले गए। सुगा और आबे एकदम अलग पृष्ठभूमि से आते हैं। जहां शिंजो आबे के पिता जापान के विदेश मंत्री रह चुके हैं। वहीं, सुगा का परिवार आम था।&nbsp;</p>

नौकरी छोड़ राजनीति में आए
सुगा पढ़ाई पूरी करने के बाद कॉरपोरेट वर्ल्ड में शामिल हो गए। यहां उन्हें अच्छी सैलरी की नौकरी भी मिली। लेकिन उनका यहां मन नहीं लगा। वे राजनीति में चले गए। सुगा और आबे एकदम अलग पृष्ठभूमि से आते हैं। जहां शिंजो आबे के पिता जापान के विदेश मंत्री रह चुके हैं। वहीं, सुगा का परिवार आम था। 

<p><strong>इन पदों पर रहे सुगा</strong><br />
सुगा लंबे वक्त तक जापान में मुख्य कैबिनेट सचिव रहे। वे आबे के नीति समन्वयक एवं सलाहकार भी रहे। सुगा ने नौकराशाहों पर नीतियां लागू करने के लिए भी जोर दिया।&nbsp;</p>

इन पदों पर रहे सुगा
सुगा लंबे वक्त तक जापान में मुख्य कैबिनेट सचिव रहे। वे आबे के नीति समन्वयक एवं सलाहकार भी रहे। सुगा ने नौकराशाहों पर नीतियां लागू करने के लिए भी जोर दिया। 

loader