ना सख्त लॉकडाउन, ना ही कोई पाबंदी, फिर भी कोरोना की रफ्तार थामने में कामयाब रहा ये देश

First Published 25, May 2020, 10:58 AM

टोक्यो. जापान में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लगाई गई स्टेट इमरजेंसी सोमवार को हटा दी गई। यहां धीरे धीरे कोरोना के मामले कम होने लगे हैं। यूरोप, अमेरिका, रूस और ब्राजील की तुलना में जापान कोरोना के संक्रमण को रोकने में काफी हद तक कामयाब रहा। यहां सिर्फ 16581 केस सामने आए। जबकि 830 लोगों की मौत हुई।  

<p>कोरोना वायरस के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने 7 अप्रैल को टोक्यो और 6 प्रांतों में इमरजेंसी लगाई थी। बाद में इसे पूरे देश में लागू कर दिया गया। स्कूल और बिजनेस सब बंद थे। </p>

कोरोना वायरस के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने 7 अप्रैल को टोक्यो और 6 प्रांतों में इमरजेंसी लगाई थी। बाद में इसे पूरे देश में लागू कर दिया गया। स्कूल और बिजनेस सब बंद थे। 

<p>लोगों से घरों में रहने की अपील की गई थी। लेकिन दुनिया के अन्य देशों की तरह यहां लॉकडाउन सख्त नहीं था। ना ही यहां नियमों का उल्लंघन करने पर किसी तरह की कोई सजा थी। </p>

लोगों से घरों में रहने की अपील की गई थी। लेकिन दुनिया के अन्य देशों की तरह यहां लॉकडाउन सख्त नहीं था। ना ही यहां नियमों का उल्लंघन करने पर किसी तरह की कोई सजा थी। 

<p><strong>अब सिर्फ 1-2 दर्जन केस सामने आ रहे</strong><br />
जापान में लोगों ने सरकार के आदेशों का पालन किया। यहां सड़कें खाली पड़ी रहीं। इसका फायदा ये हुआ कि यह अब केस कम होकर सिर्फ 1-2 दर्जन मामले सामने आ रहे हैं। जबकि यहां अधिकतम हर रोज 700 केस सामने आ रहे थे। </p>

अब सिर्फ 1-2 दर्जन केस सामने आ रहे
जापान में लोगों ने सरकार के आदेशों का पालन किया। यहां सड़कें खाली पड़ी रहीं। इसका फायदा ये हुआ कि यह अब केस कम होकर सिर्फ 1-2 दर्जन मामले सामने आ रहे हैं। जबकि यहां अधिकतम हर रोज 700 केस सामने आ रहे थे। 

<p><strong>इन कारणों से कम हुए केस</strong><br />
हालांकि, जापान में केसों के कम होने का कोई एक कारण नहीं है। स्वच्छता और स्वास्थ्य के प्रति सजकता, घर से बाहर जूतों का उतारना, बड़े पैमाने पर मास्क का इस्तेमाल, हाथ मिलाने और किस करने से बचना, ऐसे ही कदम उठाकर यहां मामलों में कमी देखने को मिली है।</p>

इन कारणों से कम हुए केस
हालांकि, जापान में केसों के कम होने का कोई एक कारण नहीं है। स्वच्छता और स्वास्थ्य के प्रति सजकता, घर से बाहर जूतों का उतारना, बड़े पैमाने पर मास्क का इस्तेमाल, हाथ मिलाने और किस करने से बचना, ऐसे ही कदम उठाकर यहां मामलों में कमी देखने को मिली है।

<p><strong>जापान में हुए काफी कम टेस्ट</strong><br />
जापान को लेकर सवाल उठ रहे हैं कि इतने बड़े देश में सिर्फ 2.7 लाख टेस्ट हुए हैं। यह दुनिया की 7 बड़ीं अर्थव्यवस्थाओं में सबसे कम है। हालांकि, यहां सरकार का कहना है कि उनकी रणनीति में कभी ज्यादा टेस्टों को शामिल नहीं किया गया। लेकिन यहां तेजी से कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग और क्लस्टर की पहचान की गई। </p>

जापान में हुए काफी कम टेस्ट
जापान को लेकर सवाल उठ रहे हैं कि इतने बड़े देश में सिर्फ 2.7 लाख टेस्ट हुए हैं। यह दुनिया की 7 बड़ीं अर्थव्यवस्थाओं में सबसे कम है। हालांकि, यहां सरकार का कहना है कि उनकी रणनीति में कभी ज्यादा टेस्टों को शामिल नहीं किया गया। लेकिन यहां तेजी से कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग और क्लस्टर की पहचान की गई। 

<p><strong>50 हजार स्वास्थ्यकर्मियों के पास ऐसी बीमारियों से निपटने का तजुर्बा</strong><br />
जापान में लोगों की जागरूकता और स्वास्थ्यकर्मियों की सक्रियता से कोरोना पर काबू पाने में सफलता मिली है। जापान में 2018 में इन्फ्लूएंजा और टीबी जैसी बीमारियों से निपटने के लिए 50 हजार से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षण दिया गया। इन स्वास्थ्यकर्मियों ने कोरोना से जंग में अहम भूमिका निभाई।<br />
 </p>

50 हजार स्वास्थ्यकर्मियों के पास ऐसी बीमारियों से निपटने का तजुर्बा
जापान में लोगों की जागरूकता और स्वास्थ्यकर्मियों की सक्रियता से कोरोना पर काबू पाने में सफलता मिली है। जापान में 2018 में इन्फ्लूएंजा और टीबी जैसी बीमारियों से निपटने के लिए 50 हजार से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षण दिया गया। इन स्वास्थ्यकर्मियों ने कोरोना से जंग में अहम भूमिका निभाई।
 

<p><strong>दुनियाभर में कोरोना की स्थिति</strong><br />
दुनियाभर में कोरोना से 3.46 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक 55 लाख लोग संक्रमित हैं। हालांकि, इनमें से 23 लाख लोग ठीक हो चुके हैं। अमेरिका में कोरोना वायरस के 16 लाख से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। वहीं, 99300 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका के बाद ब्राजील (3.6 लाख केस), रूस (3.4 लाख केस), स्पेन (2.8 लाख केस) सबसे ज्यादा संक्रमित हैं। </p>

दुनियाभर में कोरोना की स्थिति
दुनियाभर में कोरोना से 3.46 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक 55 लाख लोग संक्रमित हैं। हालांकि, इनमें से 23 लाख लोग ठीक हो चुके हैं। अमेरिका में कोरोना वायरस के 16 लाख से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। वहीं, 99300 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका के बाद ब्राजील (3.6 लाख केस), रूस (3.4 लाख केस), स्पेन (2.8 लाख केस) सबसे ज्यादा संक्रमित हैं। 

loader